Covid-19 Update

59,197
मामले (हिमाचल)
57,580
मरीज ठीक हुए
987
मौत
11,244,092
मामले (भारत)
117,591,889
मामले (दुनिया)

गुड़िया Murder Case: CM बोले, पकड़े गए आरोपी मेरे चाचे-मामे नहीं लगते

गुड़िया Murder Case: CM बोले, पकड़े गए आरोपी मेरे चाचे-मामे नहीं लगते

- Advertisement -

कुल्लू। गुड़िया मर्डर केस में मचे हो-हल्ले को लेकर सीएम ने चौकान्ने वाला बयान दिया है। बवेली में पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए वीरभद्र सिंह ने कहा कि कोटखाई केस में जो लोग पकड़े गए हैं वो मेरे चाचे और मामे नहीं लगते हैं। इस मामले में हुई गिरफ्तारी को लेकर उठ रहे सवाल का जवाब देते हुए  सीएम ने पुलिस की पीठ थपथपाते हुए कहा कि पुलिस इस मामले में बहुत बढ़िया काम कर रही है। इसमें कोई संदेह नहीं है।  
गौर रहे कि एक तरफ जहां सीएम पुलिस की तारीफ कर रहे हैं वहीं ठियोग में लोगों ने पुलिस जांच पर सवाल उठाते हुए खासा बवाल खड़ा कर दिया है। यहां पर लोग सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं। लोग इस मामले में असली आरोपियों को बचाने का पुलिस पर आरोप लगा रहे हैं। उधर, गुड़िया के माता पिता पहले ही कह चुके है कि वह पुलिस की जांच से संतुष्ट नहीं है, वह इस मामले को लेकर कोर्ट तक जाएंगे। उधर शिमला में भी कुछ संस्थाओं ने पुलिस की जांच पर सवाल उठाते हुए ज्ञापन सौंपे हैं।
  • सीएम वीरभद्र सिंह ने पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि काली भेड़े कांग्रेस में नहीं हैं, अगर हैं तो बीजेपी में हैं, जो साफ नजर आती हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी के छवि बिल्कुल साफ है और जहां तक बात काली भेड़ों की है तो वह मुझे बीजेपी से खरीदनी पड़ेगी। इस समय दल बदलू और काली भेड़े बीजेपी की शान बनी हुई हैं।

पिरडी में देवदार का पौधा रोप वन महोत्सव का आगाज

इससे पहले दो दिन के कुल्लू दौरे पर पहुंचे सीएम ने शुक्रवार को पिरडी में देवदार का पौधा लगाकर 68वें राज्य स्तरीय वन महोत्सव का शुभारंभ किया। इस दौरान सीएम के साथ वन मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी भी उपस्थित रहे। वीरभद्र सिंह ने इस अवसर पर कहा कि जब वह सीएम बने थे तो राज्य में वन माफिया काफी सक्रिय था। मैंने जंगलों को बचाने के लिए कई कदम उठाए जिनके लिए मुझे का विरोध का भी सामना करना पड़ा लेकिन एक लंबी लड़ाई के बाद सरकार अब वन माफिया को खत्म कर पाई। काफी कोशिशों के बाद हम किसानों को फसलों विशेषकर सेब के लिए लहरदार बक्सों के इस्तेमाल के लिए मना पाए।
सीएम ने बताया कि भारतीय वन संरक्षण संस्थान, देहरादून के 2015 में किए गए सर्वेक्षण के मुताबिक 2015 में वन क्षेत्र में 13 वर्ग किलोमीटर की वृद्धि हुई थी। आज वह 14,683 वर्ग किलोमीटर के आसपास पहुंच गया है। राज्य सरकार औषधीय पौधों के रोपण का भी प्रचार कर रही है और पिछले साढ़े चार साल में 1.33 करोड़ औषधीय पौधों और जड़ी बूटियों को लगाया गया है। सरकार ने वर्ष 2017-18 में 35 लाख औषधीय पौधे लगाने का लक्ष्य रखा है। इसके अलावा, 48,000 हेक्टेयर क्षेत्र में  व्यापक पत्तियों और फलों वाले पौधों को रोपण किया जाएगा।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है