Covid-19 Update

59,197
मामले (हिमाचल)
57,580
मरीज ठीक हुए
987
मौत
11,244,092
मामले (भारत)
117,591,889
मामले (दुनिया)

Kaul Singh @ AIIMS: हमने जो करना था कर दिया, अब केंद्र की बारी

Kaul Singh @ AIIMS: हमने जो करना था कर दिया, अब केंद्र की बारी

- Advertisement -

aiims: मंडी। स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह ठाकुर ने बिलासपुर में प्रस्तावित एम्स के निर्माण में हो रही देरी के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेवार ठहराया है। कौल सिंह का कहना है इस वक्त गेंद केंद्र सरकार के पाले में है और केंद्र सरकार बहानेबाजियां करके एम्स निर्माण में कोई रुचि नहीं दिखा रही है। बता दें कि केंद्र सरकार ने प्रदेश को एम्स की सौगात दे रखी है और बिलासपुर से संबंध रखने वाले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रकाश नड्डा इसे अपने गृहजिला में खोलना चाहते हैं।

aiims: एम्स निर्माण में बहानेबाजी कर रही केंद्र सरकार

स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह ठाकुर के अनुसार राज्य सरकार ने बिलासपुर में पशु पालन विभाग की 650 बीघा जमीन को एम्स के नाम कर दिया है और साथ लगती वन भूमि का केस बनाकर फॉरेस्ट क्लीयरेंस के लिए केंद्र सरकार को भेज दिया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने अपनी सभी औपचारिकताओं को पूरा कर लिया है और जो भी करना वह केंद्र सरकार के ही करने का बचा हुआ है।

कौल सिंह ठाकुर ने बीजेपी के छुटभैये नेताओं की तरफ से जमीन उपलब्ध न करवाने को लेकर लगाए जा रहे आरोपों को भी सिरे से खारिज किया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने जमीन उपलब्ध करवा दी है और केंद्र सरकार की तरफ से ही देरी की जा रही है।

हरी झंडी मिलने के बाद भी नहीं हुआ निर्माण कार्य शुरू

बता दें कि पहले राज्य सरकार मेडिकल कॉलेज नेरचौक को ही एम्स में तबदील करने की सोच रही थी, लेकिन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री का गृह क्षेत्र होने के कारण एम्स बिलासपुर में खोलना प्रस्तावित हुआ। केंद्र सरकार द्वारा बिलासपुर में एम्स खोलने के लिए हरी झंडी को दिखाए हुए करीब दो वर्षों का समय बीत गया है, लेकिन अभी तक इसके निर्माण की प्रक्रिया शुरू नहीं हो पाई है। अब ऐसे में सवाल उठ रहा है कि आखिर किन कारणों से इसके निर्माण में देरी की जा रही है।

वहीं, स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह ठाकुर की मानें तो बिलासपुर में जो जमीन एम्स के लिए मुहैया करवा दी गई है, उस पर करीब 5 हजार करोड़ की इमारतें आराम से बनाई जा सकती हैं। बताया जा रहा है एम्स के शिलान्यास के लिए पीएम नरेंद्र मोदी से भी समय नहीं मिल रहा है और इसी कारण इसके निर्माण में देरी हो रही है, क्योंकि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री इतने बड़े संस्थान का नींव पत्थर पीएम के ही हाथों रखवाना चाहते हैं।

सुना आपने ! Branded Medicines लिखीं तो खैर नहीं

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है