Expand

AIDS के खिलाफ जंग का हिस्सा बनेंगे college students

AIDS के खिलाफ जंग का हिस्सा बनेंगे college students

- Advertisement -

गफूर खान/धर्मशाला। अब कॉलेज के छात्रों को एक नई जिम्मेदारी दी जा रही है। ये छात्र एड्स जैसी घातक बीमारी से लोगों को बचाने और उन्हें जागरूक करने के लिए प्रदेश भर में शुरू किए जाने वाले जागरुकता कैंपेन का हिस्सा बनेंगे। विश्व एड्स दिवस पर शुरु होने वाले इस कैंपेन को दिसंबर माह के अंत तक चलाया जाएगा। इसकी खास बात यह है कि यह काम कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्रों द्वारा किया जाएगा। जानकारी के अनुसार प्रदेश उच्च शिक्षा निदेशालय ने प्रदेश के सभी सरकारी और निजी कॉलेजों के साथ गर्वमेंट कॉलेज ऑफ टीचर एजुकेशन और प्रदेश के सभी उच्च शिक्षा विभाग के उप निदेशकों को पत्र लिख कर इस संबंध में तैयारी करने को कहा है। उच्च शिक्षा निदेशालय द्वारा जारी इस पत्र में कहा गया है कि प्रदेश भर में दिसंबर माह के अंत तक विश्व एड्स दिवस पर जागरुकता कार्यक्रम चलाया जाएगा।

  • hivयह कार्यक्रम एक दिसंबर यानी विश्व एड्स दिवस पर शुरू किया जाएगा। 
  • इस काम को करने के उपरांत इसकी रिपोर्ट एचपी स्टेट एड्स कंट्रोल सोसाइटी के डिप्टी कंट्रोलर को सौंपने के आदेश दिए गए हैं। 
  • प्रदेश भर के उच्च शैक्षणिक संस्थान हर जिले में तैनात किए गए जिला एड्स कार्यक्रम अधिकारी से संपर्क कर इस कार्यक्रम को क्रियानंवित करेंगे। 
  • इस कैंपेन में लोगों को विभिन्न कार्यक्रमों के जरिए जागरुक किया जाएगा। जिसमें नुक्कड़ सभाओं से लेकर रैलिंया, प्रतियोगिताएं शामिल होंगी।

hiv-2कौन- कौन रहेंगे जिला प्रभारी

उच्च शिक्षा निदेशालय द्वारा उन प्रोग्राम अधिकारियों की जानकारी भी दी गई है जो जिला और फील्ड में समन्वय बनाएंगे। जिला बिलासपुर से डॉ.अनुज शर्मा, जिला चंबा से डॉ. सुभाष चौहान, जिला हमीरपुर से डॉ. एन के भारद्वाज, जिला कांगड़ा से डॉ. निखिल गुप्ता, जिला किन्नौर से डॉ. एसएस नेगी, जिला कुल्लु से डॉ. आरसी गुलेरिया, जिला लाहुल स्पीती से डॉ. रंजीर सिंह, जिला मंडी से डॉ. अरिंधम रॉय, जिला शिमला से डॉ. मुनीश सूद, जिला सिरमौर से डॉ. निसार अहमद, जिला सोलन से डॉ. डीएस दातल, जिला ऊना से डॉ. प्रवीण को डीएपीओ का प्रभारी बनाया गया है।

hiv-1आंकड़ा 9 हजार तक पहुंचा

गौरतलब है कि पिछले कुछ समय में प्रदेश में एचआइवी एड्स के रोगियों में काफी वृद्धि दर्ज की गई है। कुछ जिलों में तो यह आंकड़ा 100 फीसदी से भी ज्यादा की वृद्धि दर्ज की गई है। ज्यादातर मामले असुरक्षित यौन संबंधों के कारण ही सामने आये हैं। मौजूदा समय में प्रदेश में एचआईवी एड्स ग्रस्त की संख्या 9 हजार पहुंच गई है। सरकार और स्वास्थ्य विभाग एचआईवी एड्स ग्रस्त रोगियों की बढ़ी तादाद से चिंतित है। इसलिए अब लोगों को जागरूक करने की जिम्मेदारी स्वास्थ्य विभाग के अलावा कॉलेज के स्टूडेंट्स को भी दी गई है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है