Covid-19 Update

1,98,313
मामले (हिमाचल)
1,89,522
मरीज ठीक हुए
3,368
मौत
29,419,405
मामले (भारत)
176,212,172
मामले (दुनिया)
×

CLP की रार! Virbhadra सहित 15 MLA डटे रहे हॉली लाज, सुक्खू राजीव भवन में करते रहे इंतजार, Leader पर नहीं बनी सहमति

CLP की रार! Virbhadra सहित 15 MLA डटे रहे हॉली लाज, सुक्खू राजीव भवन में करते रहे इंतजार, Leader पर नहीं बनी सहमति

- Advertisement -

 लेखराज धरटा/शिमला।राजनीति के धुरंधर माने जाने वाले वीरभद्र सिंह ने आज भी अपने अंदाज में ही काम किया। कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) का नेता चुनने के लिए बैठक तो पार्टी मुख्यालय राजीव भवन में बुलाई गई थी, पर वहां पार्टी प्रदेशाध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू सहित पांच ही विधायक पहुंच पाए थे, बाकी वीरभद्र समेत 15 उनके निजी आवास हॉली लाज में डटे रहे, जबकि सुजान सिंह पठानिया पहुंच नहीं पाए हैं। इसके चलते पार्टी के प्रदेश प्रभारी को भी पार्टी मुख्यालय के बजाए सीधे हॉली लाज का रूख करना पड़ा। जबकि सुक्खू उनका हार लेकर पार्टी मुख्यालय में ही इंतजार करते रहे।

सुक्खू के साथ ऊना के विधायक सतपाल रायजादा, नालागढ़ के विधायक लखविंदर राणा, श्री नयनादेवी के विधायक रामलाल  ठाकुर व शिलाई के विधायक हर्षवर्धन चौहान के अलावा कोई कांग्रेस विधायक मौजूद नहीं था। उक्त पांचों पार्टी मुख्यालय में सुशील कुमार शिंदे के स्वागत कि लिए खड़े थे, लेकिन शिंदे कांग्रेस कार्यालय ना आकर सीधे हॉली लॉज चले गए। बाद में वह वीरभद्र सहित सभी विधायकों के साथ राजीव भवन पहुंचे। उसके बाद कांग्रेस विधायक दल की बैठक शुरू हो पाई।


वहीं, 17 कांग्रेसी विधायकों का समर्थन लेकर बैठे वीरभद्र सिंह के टेढ़े रूख के चलते आज भी कांग्रेस विधायक दल के नेता (सीएलपी लीडर) का चयन नहीं हो पाया। इसके चलते पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के नाम का एक सिंगल लाइन प्रस्ताव डालकर उन्हें इस बात के लिए अधिकृत किया गया है कि वह सीएलपी लीडर का स्वयं चयन करें। इस प्रस्ताव का अनुमोदन पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह ने किया जबकि उसे सेकेंड पार्टी प्रदेशाध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू ने किया। इसके साथ ही आज बुलाई गई कांग्रेस विधायक दल की बैठक खत्म हो गई। तय समय से करीब तीन घंटे देरी से शुरू हुई बैठक में पार्टी के प्रदेश  प्रभारी सुशील कुमार शिंदे और पर्यवेक्षक बाबा साहब थरोट मौजूद रहे। बैठक में शिंदे ने विधायकों से अलग-अलग भी बात की,पर वीरभद्र सिंह के टेढ़े रूख के चलते कोई निर्णय नहीं हो पाया।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है