Covid-19 Update

2,00,603
मामले (हिमाचल)
1,94,739
मरीज ठीक हुए
3,432
मौत
29,973,457
मामले (भारत)
179,548,206
मामले (दुनिया)
×

RSS की बुराई करने वाली कांग्रेस उसी राह पर निकली, कार्यकर्ताओं को ट्रेनिंग देने के लिए तैयार करेगी ‘प्रेरक’

RSS की बुराई करने वाली कांग्रेस उसी राह पर निकली, कार्यकर्ताओं को ट्रेनिंग देने के लिए तैयार करेगी ‘प्रेरक’

- Advertisement -

नई दिल्ली। हमेशा से आरएसएस मॉडल (RSS Model) की बुराई करने वाली कांग्रेस (Congress) अब आरएसएस की ही तर्ज पर अपने आगे के सफर के लिए रणनीति तैयार करने में जुटी है। दरअसल जिस तरह से राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (RSS) अपनी विचारधारा और संगठन के कामकाज को देखने के लिए प्रचारक तैयार करता है उसी तर्ज पर कांग्रेस पार्टी अपने संगठन में प्रेरक (Prerak) तैयार करने जा रही है। पार्टी द्वारा तैयार किए गए इन प्रेरकों का काम कांग्रेस के संगठन को मजबूत करना और कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण (Training) देना होगा।

यह भी पढ़ें :-बीएसएफ जवान की बेरहमी से की हत्या, पुलिस को आपसी रंजिश का शक

कांग्रेस से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, डिविजनल लेवल पर पार्टी तीन प्रेरक नियुक्त करेगी। इन तीन में से एक महिला और एक एससी-एसटी, ओबीसी या अल्पसंख्यक होगा। तीसरा प्रेरक किसी भी समुदाय से हो सकता है। 4-5 जिलों को मिलाकर एक डिविजन बनाया जाएगा। प्रेरक कार्यकर्ताओं को पार्टी की विचारधारा और इतिहास के बारे में ‘प्रेरित और सूचित’ करेंगे, इसके अलावा उन्हें नियमित आधार पर जनता के साथ जुड़ने के लिए तैयार किया जाएगा। कांग्रेस पार्टी में प्रेरक पदों के लिए संगठन का अनुभव रखे वाले नेताओं को तरजीह दी जाएगी।


कांग्रेस पार्टी में सिर्फ उन्हें प्रेरक बनाया जाएगा जिनके पास संगठन का अनुभव होगा और वह कार्यकर्ताओं की जरूरत को समझते हों और उन्हें सम्मान देते हों। प्रेरक बनने के लिए कांग्रेस पार्टी की विचारधारा के प्रति समर्पण होना जरूरी है। पार्टी में ऐसे लोग जो संगठन को समय और अपनी ऊर्जा दे सकें और प्रशिक्षण पर उनका भरोसा हो, वही लोग प्रेरक बन सकेंगे। ऐसे लोग जिनके भीतर समाज में सम्मान और भरोसा जीतने की क्षमता होगी, गुटबाजी से दूर हों, कार्यकर्तों से सम्मानित हों और सभी के साथ बराबरी का व्यव्हार करने की क्षमता हो, उन्हीं को प्रेरक बनाया जाएगा। इसके लिए बाकायदा आवेदन मांगे जाएंगे।

इसके बाद आल इंडिया कांग्रेस कमेटी के ट्रेनिंग प्रतिनिधि राज्यों का दौरा करेंगे और प्रेरक ट्रेनिंग कार्यक्रम के लिए उचित आवेदकों का चुनाव करेंगे। प्रेरकों के लिए 1 हफ्ते का ट्रेनिंग कार्यक्रम होगा। प्रेरक के तौर पर उनकी नियुक्ति तभी होगी जब वे तीन महीने तक जमीनी दौरा करेंगे। जिस तरह से राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ विचारधारा और संगठन के कामकाज को देखने के लिए प्रचारक तैयार करता है, कांग्रेस का प्रेरक नियुक्त करने का फैसला उससे मिलता हुआ है। आरएसएस में प्रचारक शाखा का आयोजन करते हैं और लोगों तक अपनी बात पहुंचाते हैं।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है