Covid-19 Update

2,05,017
मामले (हिमाचल)
2,00,571
मरीज ठीक हुए
3,497
मौत
31,341,507
मामले (भारत)
194,260,305
मामले (दुनिया)
×

Rally से कई नेताओं का किनारा, कुछ और तो नहीं यह इशारा

Rally से कई नेताओं का किनारा, कुछ और तो नहीं यह इशारा

- Advertisement -

Young Honor rally  : धर्मशाला। नगरोटा बगवां में हुई युवा सम्मान रैली में इशारे चर्चा में रहे। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने प्रदेश की राजनीति को बदलता हुआ कहकर उस राजनीति में जीएस बाली के अहम रोल को समझने का इशारा जनता से किया। बाली रूपी वृक्ष से फल हासिल करने का वक्त आने का इशारा भी सुक्खू ने किया। रैली के वक्ताओं ने सीएम और सरकार का आभार जताया जरूर पर सबको बाली का रोल समझने का इशारा भी किया। अब इस रैली में एक इशारा और हुआ है और वह भी दबी जुबान ही सही चर्चा में रहा, वह था सीएम समेत प्रदेश कांग्रेस के कई आला नेताओं का इस युवा सम्मान रैली से किनारा करना।

आलाकमान के नेताओं को भी दिया  निमंत्रण 

बाली ने कुछ दिन पहले ही यह घोषणा की थी की यह रैली सीएम की अध्यक्षता में होगी और इसके लिए उन्होंने प्रदेश के अन्य नेताओं और पार्टी आलाकमान के नेताओं को भी निमंत्रण दिया है। सड़कों किनारे सीएम और बाली के होर्डिंग्स के अलावा आनंद शर्मा, विप्लव ठाकुर, अम्बिका सोनी, विद्या स्टोक्स और सुक्खू के होर्डिंग्स भी जगह जगह लगाए गए थे। रैली शुरू होते वक्त बाली के साथ सिर्फ सुक्खू और राजेश धर्माणी ही थे। चंद्रेश कुमारी, सीपीएस सोहन लाल और विधायक अजय महाजन भी बाद में सभा स्थल पर पहुंचे। सीएम ने किन कारणों से इस कार्यक्रम से दूरी बनाई यह तो कोई नहीं जानता लेकिन बाली के साथ सीएम की चलती आ रही तनातनी को भी इसकी वजह माना जा रहा था। 


जिस बेरोजगारी भत्ते का जश्न मनाया जा रहा था सीएम वह देने के हक में नहीं थे और बाली की बगावत ने यह भत्ता देने को मंजूरी दिलाई। सीएम का नहीं आना तो समझा जा सकता है लेकिन विद्या स्टोक्स, विप्लव ठाकुर सहित अन्य कोई भी नेता इस कार्यक्रम में शरीक नहीं हुआ। यहां तक की सीपीएस रोहित ठाकुर का नाम बाकायदा मेहमानों की सूचि में था लेकिन वह नहीं आए। ब्लॉक कांग्रेस नगरोटा बगवां के अध्यक्ष मान सिंह चौधरी ने अपने संबोधन के दौरान कई बार रोहित ठाकुर का नाम भी पुकारा पर बाद में उन्हें भी पता चल गया कि रोहित नहीं आए हैं।

रैली के दौरान ही बाली ने अन्य नेताओं के नहीं आने का कारण उनकी व्यस्तता बताया। अम्बिका सोनी और आनंद शर्मा की शुभकामनाएं और स्टोक्स द्वारा नहीं आने के लिए जनता से माफ़ी मांगने की बात बाली ने मंच से ही कही। प्रदेश में होने के बावजूद सीएम क्यों नहीं शरीक हुए इस पर बाली भी खामोश ही रहे। इन नेताओं के न आने की वजह जो भी रही हो लेकिन जिस तरह से भविष्य की राजनीति के इशारे रैली में हुए उनके बाद इन नेताओं का प्रदेश स्तरीय रैली में नहीं आना अपने आप में ही कुछ और ही इशारा कर गया।

 

Bali बोले, अनुबंध की अवधि 5 से 3 वर्ष करने का होगा प्रयास

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है