Covid-19 Update

2,21,437
मामले (हिमाचल)
2,16,413
मरीज ठीक हुए
3,704
मौत
34,081,315
मामले (भारत)
241,563,005
मामले (दुनिया)

सरसों का तेल सोयाबीन से हुआ सस्ता, बढ़ गई शुद्धता-ये रही वजह

बाकी शैलों की मिलावट नहीं होने से हुआ ये संभव

सरसों का तेल सोयाबीन से हुआ सस्ता, बढ़ गई शुद्धता-ये रही वजह

- Advertisement -

रसोई में हर चीज में काम आने वाला सरसों का तेल (Mustard oil) सोयाबीन व सीपीओ से सस्ता (Cheaper than Soybean) हो गया है। इसके साथ ही सरसों के तेल की शुद्धता बढ़ गई है। सस्ते होने की वजह से इसमें बाकी शैलों की मिलावट नहीं हो रही है,इससे उपभोक्ताओं (Consumers) को शुद्ध देशी तेल खाने को मिलने लगा है। बताया जा रहा है कि सरसों का तेल,कच्चे किए जाने वाले सोयाबीन डीगम, सीपीओ के मुकाबले कहीं सस्ता है। इसी वजह से इसमें मिलावट नहीं हो रही है।

यह भी पढ़ें: बीमा खरीदते ही यूं मिलेगा पुरानी बीमारियों का कवर-जान ले पूरा माजरा-एक क्लिक पर

कहा जा रहा है कि मौजूदा स्थिति जारी रही,सरकार का समर्थन मिलता रहा व किसानों को अपनी तिलहन उपज की अच्छी कीमत मिलती रही तो वह दिन दूर नहीं जब किसान,देश को तिलहन उत्पादन के मामले में आत्मनिर्भर बनाना सुनिश्वत कर देंगे। 40 वर्ष पहले हरियाणा (Haryana)के कैथल, पंजाब के तरनतारण, उत्तर प्रदेश के हरदोई जैसे क्षेत्रों में इतनी तिलहन का उत्पादन होता था कि वह बाकी देश की जरूरतों को पूरा करने में सक्षम था। तेल की कीमतों और मांग में तेजी के मौजूदा वैश्विक परिदृश्य के बने रहने और सरकार के प्रोत्साहन जारी रहने से हमें एक बार फिर पुरानी आत्मनिर्भरता (Self-Sufficiency)की स्थिति को हासिल कर सकते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है