Covid-19 Update

2,05,499
मामले (हिमाचल)
2,01,026
मरीज ठीक हुए
3,504
मौत
31,571,295
मामले (भारत)
197,365,402
मामले (दुनिया)
×

PTA बोलेः हो गए डेढ़ वर्ष, अब तो वादा निभा दो सरकार

PTA बोलेः हो गए डेढ़ वर्ष, अब तो वादा निभा दो सरकार

- Advertisement -

PTA TEACHER : शिमला। जून 2016 में पीटीए अध्यापकों को अनुबंध में आए हुए डेढ़ वर्ष का कार्यकाल पूरा हो चुका है। ऐसे में सरकार इस मंत्रीमंडल की बैठक में प्रमुखता से उचित निर्णय लेते हुए पीटीए अध्यापकों का जल्द सशर्त नियमित करके अपने वादे को निभाए। यह मांग प्रदेश पीटीए शिक्षक संघर्ष मंच ने उठाई है।  संघर्ष मंच के पदाधिकारियों ने कहा है कि  अगस्त 2013 में सरकार ने विधानसभा में ये ऐलान किया था कि पीटीए अध्यापकों को एक या डेढ़ साल के अनुबंध के बाद नियमित किया जाएगा। 1 साल की सेवाओं के बाद भी अपने भविष्य को लेकर भारी मानसिक दबाव एवं जिदगी के सबसे कठिनतम दौर से गुजर रहे पीटीए अध्यापकों ने हजारों परिवारों के घरों को न उजाड़ने जा विशेष आग्रह किया है और उम्मीद जताई की इस पर सरकार और राजनीतिक दल राजनीति से ऊपर उठकर जनहित में जल्द उचित निर्णय लेंगे।

प्रदेश PTA शिक्षक संघर्ष मंच ने  सरकार से उठाई मांग

प्रदेश पीटीए शिक्षक संघर्ष मंच के प्रदेशाध्यक्ष पंकज कुमार, महिला प्रकोष्ठ की राज्य अध्यक्ष छवि सूद, राज्य उपाध्यक्ष दिनेश पटियाल, महासचिव राजपूत संजीव ठाकुर, मुख्यस्लाहकर नरेंद्र शर्मा, राज्य कोषाध्यक्ष रविकांत शर्मा संयोजक कासिम खान, सहसचिव अमित शर्मा, सिरमौर जिला संयोजक अश्वनी ठाकुर आदि पदाधिकारियों ने संयुक्त बयान जारी करते हुए प्रदेश सरकार से मांग की है कि 5500 अनुबंधित पीटीए अध्यापकों को अगस्त 2013 में विधानसभा के किए गए ऐलान अनुसार जिसमें सरकार की तरफ से कहा गया था कि पीटीए अध्यापकों को डेढ़ वर्ष के अनुबंध के बाद नियमित किया जाएगा। सरकार रेट्रोस्पेक्टरी नियम के तहत पिछली सेवाओं को मद्देनजर रखते हुए जल्द सशर्त नियमित करे।


पीटीए को पैट अध्यापकों की तर्ज पर मिलें रेगुलर के लाभ

साथ ही 1369 लेफ्टआउट पीटीए अध्यापकों को पैट अध्यापकों की तर्ज पर रेगुलर के लाभ टाइम स्केल के साथ दें। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि आने वाली  मंत्रिमंडल की बैठक में पीटीए शिक्षकों के मामले को प्रमुखता से हल करते हुए  सशर्त नियमितीकरण का  तोहफा दें। इससे सीएम द्वारा किया वादा पूर्ण हो सकेगा। गौरतलब है कि वर्ष 2012 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस ने वादा किया था कि सत्ता में आने पर पीटीए अध्यापकों को नियमित किया जाएगा। लेकिन, इस वर्ग को अभी तक राहत के नाम पर कुछ भी हासिल नहीं हो पाया है  सरकार चुनावी वर्ष में लगभग सभी कर्मचारियों को तोहफे दे रही है।  पीटीए अनुबंध अध्यापक अपने आप को ठगा सा महसूस करने के बावजूद नियमितीकरण की आस में बैठे हैं। पदाधिकारियों ने कहा की इस तरह सरकार की उदासीनता से ऐसे अध्यापक जिन की उम्र 50 को छूने लगी उम्मीदें धुंधली होने लगी हैं। 

ये भी पढ़ें  : 6 माह से वेतन नहीं मिला तो मजदूरों ने बंद किया काम

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है