Covid-19 Update

36,566
मामले (हिमाचल)
28,080
मरीज ठीक हुए
575
मौत
9,257,945
मामले (भारत)
60,416,976
मामले (दुनिया)

सूंघने-स्वाद चखने की क्षमता में कमी होने वालों को भी करवाना पड़ सकता है Corona Test

सूंघने-स्वाद चखने की क्षमता में कमी होने वालों को भी करवाना पड़ सकता है Corona Test

- Advertisement -

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के लक्षणों में काफी बदलाव होते रहे हैं। अब कोरोना वायरस के मामलों में पाया गया है कि रोगियों के सूंघने और स्वाद महसूस करने की क्षमता में कमी आ जाती है। इसके बाद अब सरकार कोरोना को लेकर जल्द ही नया एक्शन प्लान बनाने जा रही है। जल्द ही सूंघने और स्वाद चखने की क्षमता में कमी को भी Corona Test का हिस्सा बनाया जा सकता है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) में कोविड-19 से निपटने के लिए गठित की गई राष्ट्रीय टास्क फोर्स द्वारा इस मुद्दे को उठाया गया। फिलहाल इस पर मुद्दे पर चर्चा हो रही है कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

कोरोना टेस्ट करने के लिए 13 लक्षणों और संकेतों पर दिया जाता है ध्यान

सबसे पहले जनवरी में बुखार, खांसी, सांस लेने में दिक्कत जैसे लक्षणों (Symptoms) को कोविड टेस्टिंग का हिस्सा बनाया गया था। बाद में मई आते-आते गैस से जुड़ी बीमारियां मसलन डायरिया और उल्टियां को भी जोड़ा गया। वर्तमान में किसी भी व्यक्ति का कोरोना टेस्ट करने के लिए 13 लक्षणों और संकेतों पर ध्यान दिया जाता है, जिन्हें बीते माह ही संशोधित किया गया। जैसे बुखार, खांसी, दस्त, उल्टी, पेट में दर्द, सांस फूलना, नौसिया, सीने में दर्द, शरीर में दर्द, गले में खराश, नाक से पानी निकलना। एक या अधिक लक्षणों वाले किसी भी रोगी को टेस्ट की अनुमति दी जाती है। अब जब सूंघने और स्वाद चखने में कमी महसूस करने जैसे लक्षणों को भी जोड़ा जाता है तो एक रोगी को लगभग एक से 15 लक्षणों की रिपोर्ट देनी होगी।

 

पात्रता मानदंडों के विस्तार से मामलों की पहचान में मिलेगी मदद

अप्रैल में, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने संयुक्त राष्ट्र अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और कई यूरोपीय संघ देशों के साथ मिलकर गंध और स्वाद की कमी को इस अनजान बीमारी के प्रमुख लक्षणों में जोड़ा था। यूके ने 18 मई को कोविड-19 लक्षण की अपनी सूची में इसे शामिल किया। लासेंट में प्रकाशित एक मेडिकल जर्नल की मानें तो समुदाय संक्रमण रोकने के लिए यह अहम है कि लक्षणों का संयोजन कर उनकी पहचान की जाए। भारत में कोविड रोगियों का इलाज करने वाले डॉक्टर्स का कहना है कि पात्रता मानदंडों का विस्तार करने से मामलों की पहचान करने में मदद मिलेगी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है