Covid-19 Update

1,98,877
मामले (हिमाचल)
1,91,041
मरीज ठीक हुए
3,382
मौत
29,548,012
मामले (भारत)
176,842,131
मामले (दुनिया)
×

Sirmaur में अब गोबर से बनेंगे गमले, गुजरात से मंगवाई Machine

Sirmaur में अब गोबर से बनेंगे गमले, गुजरात से मंगवाई Machine

- Advertisement -

नाहन। सिरमौर जिला को स्वच्छ बनाने व निराश्रित पशुओं की समस्या का समाधान करने के उद्देश्य से जिला प्रशासन ने एक और महत्वपूर्ण कदम उठाया है। अब नाहन के समीप स्थित माता बालासुंदरी गौसदन में गोबर (Dung) से गमले बनाने की मशीन स्थापित की गई है। 25 हजार रुपए की लागत से गमले बनाने वाली यह मशीन गुजरात से मंगवाई गई है। बुधवार को डीसी सिरमौर डा. आरके परूथी ने पूजा-अर्चना कर इस कार्य का शुभारंभ किया। दरअसल, इस मशीन में दो-तीन दिन का गला-सड़ा गोबर, भूसे आदि के साथ डाला जाता है उससे यह गमले तैयार किए जाते हैं। यहां तैयार किए जाने वाले गमले (Pot) वन विभाग की नर्सरियों में तैयार होने वाले पौधों के लिए भी इस्तेमाल होंगे, ताकि पॉलिथीन से छुटकारा मिल सके।


यह भी पढ़ें: बजट पर चर्चाः मुकेश बोले- अब तक के सबसे महंगे CM साबित होंगे Jai Ram

माता बालासुंदरी गौसदन में जिला प्रशासन का यह दूसरा शानदार प्रयास है। इससे पहले यहां गोबर से काष्ठ बनाने की गौ काष्ठ मशीन भी स्थापित की गई थी। प्रशासन द्वारा उठाए गए इन दोनों महत्वपूर्ण कदमों से जहां गौसदन (Gausadan) आत्मनिर्भर बनेंगे, वहीं निराश्रित पशुओं की समस्या का हल भी सकेगा। उपायुक्त सिरमौर डा. आरके परूथी ने बताया कि गौसदनों को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने के लिए कई कदम उठाए जा रहे हैं। इसी के तहत पहले गौ काष्ठ बनाने की गौ काष्ठ मशीन स्थापित की गई थी। अब गोबर से गमले तैयार करने की मशीन लगाई गई है।

खासकर वन विभाग पौधों के लिए अपनी नर्सरियों में पालिथीन का प्रयोग करता है। प्रयास यही है कि पॉलिथीन का कम से कम इस्तेमाल हो, इसको ध्यान में रखते हुए गोबर से गमले तैयार किए जाएंगे। 10 हजार से अधिक गमलों का इस्तेमाल होगा। इससे जहां गौसदन आर्थिक रूप से मजबूत होगा, दूसरा पालिथीन का भी कम प्रयोग होगा। डीसी ने बताया कि सीएसआईआर पालपुर से टेस्टिंग का टाईअप किया जा रहा है कि एक गमला कम से कम कितने समय चल सकता है। ये टेस्टिंग करवाने के बाद इन गमलों को पौधे लगाकर मार्किट में भी बेचा जाएगा।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel..

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है