Covid-19 Update

58,777
मामले (हिमाचल)
57,347
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,122,986
मामले (भारत)
114,822,832
मामले (दुनिया)

बस सेवा को लेकर सीपीआईएम का धरना खत्म, 9 सूत्रीय मांगों पर बनी सहमति

बस सेवा को लेकर सीपीआईएम का धरना खत्म, 9 सूत्रीय मांगों पर बनी सहमति

- Advertisement -

शिमला। भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के द्वारा प्रदेश में चरमराई बस (Bus) सेवाओं को दुरुस्त करने के लिए शुरू किया दो दिवसीय धरना मांगों को मानने के पश्चात समाप्त कर दिया गया। मांगों को लेकर बैठक में सहमति बनी। बैठक में सरकार की और से प्रधान सचिव परिवहन और एचआरटीसी (HRTC) के अधिकारी तथा सीपीआई(एम) की ओर से राकेश सिंघा, संजय चौहान, कुलदीप सिंह तंवर, फालमा चौहान व बलबीर पराशर उपस्थित थे। इस बैठक में 9 सूत्रीय मांगपत्र पर विस्तार से चर्चा की गई। इस मांगपत्र पर सहमति के पश्चात धरने को समाप्त किया गया।

यह भी पढ़ें :- बड़ी कार्रवाईः बिना दस्तावेज चल रही थीं स्कूल बसें, एआरटीओ ने कीं जब्त

सीपीआई(एम) द्वारा यह धरना मांगों पर सहमति के बाद खत्म किया है, लेकिन प्रदेश सरकार के एचआरटीसी (HRTC) के निजीकरण व प्रदेश की परिवहन व्यवस्था को निजी हाथों में देने की नीतियों का विरोध जारी रहेगा। आने वाले समय में सीपीआईएम सार्वजनिक क्षेत्र के निजीकरण के विरुद्ध प्रदेशव्यापी आंदोलन चलाएगी।

बैठक में इन मुद्दों पर बनी सहमति

जहां पर दिन में केवल एक बस चलती है, वह नियमित रूप से चलाई जाएगी। एचआरटीसी (HRTC) जो स्कूल बसें चलाती हैं, वह तब तक जारी रहेंगी, जब तक स्कूल अपनी बसें नहीं खरीद लेती, जो बसें शिमला के ऊपरी क्षेत्र व साथ लगते क्षेत्रों से आती हैं, उन्हें पुराना बस अड्डे तक चलाया जाए, एचआरटीसी (HRTC) में आवश्यक पदों पर भर्ती की प्रक्रिया में तेजी लाई जाए तथा सरकार जब तक नियमित ड्राइवर व कंडक्टर की भर्ती नहीं होती, तब तक एचआरटीसी (HRTC) से सेवानिवृत्त ड्राइवर व कंडक्टर को रखा जाए।

जेएनएनयूआरएम (JNNURM) की खड़ी बसों को शीघ्र चलाया जाएगा, कंडम बसों को सेवा से तुरंत हटाया जाएगा तथा जो निजी व स्कूलों की बसें फिटनेस में खरी नहीं उतरेंगी उन पर परिवहन विभाग कार्रवाई करे तथा उन्हें सड़क से हटाया जाए। गैर कानूनी तरीके से जो मल्टी एक्सल व निजी बसें चल रही हैं, उन पर कार्रवाई की जाए। पीएमजीएसवाई (PMGSY) में जिन सड़कों का निर्माण हुआ है और उन पर बसें नहीं चलती हैं, उन पर बसें चलाई जाएं। शिमला से शिलाई के लिए लंबे समय से बस की मांग की जा रही है, इसे औपचारिकताएं पूर्ण कर चलाया जाएगा।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है