Covid-19 Update

59,059
मामले (हिमाचल)
57,473
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,210,799
मामले (भारत)
117,078,869
मामले (दुनिया)

सेब पर संकट के बादलः होटल में बैठकें कर हल नहीं होंगी बागवानों की समस्याएं

सेब पर संकट के बादलः होटल में बैठकें कर हल नहीं होंगी बागवानों की समस्याएं

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल की अर्थव्यवस्था में सेब का कारोबार 4 हज़ार करोड़ से ज़्यादा का है। लेकिन अफ़सोफ बागवानी विभाग( Horticulture department) की सुस्त कार्यप्रणाली बागवानों पर भारी पड़ रही है। बागवानों के लिए देश- विदेश से करोड़ों की परियोजनाएं आ रही है। बावजूद इसके धरातल पर कुछ नहीं हो रहा है। ये हम नहीं बल्कि शिमला के बागवान अपना दर्द बयां कर रहे है। दरअसल बुधवार को बागवानी विभाग ने शिमला के एक आलीशान होटल में बागवानों के लिए एक वर्कशॉप( workshop) रखी, जिसको लेकर बागवानों की नाराज़गी साफ तौर से देखने को मिली।


यह भी पढ़ें: आशा की नसीहतः सरकार के पैसे का उपयोग लोक हित में करें अधिकारी

 

बैठक के दौरान कोटगढ़ के बागवान दीपक सिंघा ने कहा कि होटल में वर्कशॉप लगाना बेमानी है। बागवानों की धरातल पर अपनी दिक्कतें है, जिनसे बागवानी विभाग का दूर-दूर तक कोई नाता नहीं है। विभाग के वैज्ञानिक न तो हिमाचल की भोगौलिक परिस्थितियों के मुताबिक कोई शोध कर रहे है न ही उनके अनुसार सेब की आधुनिक किस्मों पर काम कर रहे है। जो वास्तव में बागवान है वह तो 365 दिन अपने खेतों में व्यस्त रहते है।

होटलों की बैठकों में तो माल रोड के बागवान आते हैं। उधर बागवान संदीप व नरेश कहते है कि अब बागवानी पर लागत ज़्यादा व मुनाफ़ा कम हो रहा है। बगीचों के सेब के पेड़ काफ़ी पुराने हो चुके हैं। इसलिए विभाग से सेब के पौधे मांगे जाते हैं तो 100 मांग के बदले 25 ही पौधे मिलते है। बागवानी विभाग को ग्रामीण स्तर पर कमेटियां गठित कर बागवानों की समस्याओं के आधार पर हल खोजने चाहिए। ताकि सेब की फ़सल पर मंडला रहे संकट के बादल छंट सके।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है