Expand

प्रदेश की Health को सरकार गंभीर

प्रदेश की Health को सरकार गंभीर

- Advertisement -

शिमला। प्रदेश में शिक्षा की लौ जगाने के लिए सरकार निरंतर प्रयास कर रही है। यहीं नहीं  लोगों के स्वास्थ्य पर भी सरकार विशेष ध्यान दे रही है। ताजा आंकड़ों पर गौर किया जाए तो स्थिति काफी सुखद नजर आ रही है। वर्तमान में प्रदेश में 2760 स्वास्थ्य संस्थान कार्यरत हैं, जिनमें तीन आंचलिक अस्पताल, तीन क्षेत्रीय अस्पताल, 9 शैक्षणिक अस्पताल, 58 नागरिक अस्पताल, एक ईएसआई अस्पताल, 80 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, 520 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, 12 ईएसआई औषद्यालय तथा 2075 स्वास्थ्य उप-केन्द्र शामिल हैं।

  • 2760 स्वास्थ्य संस्थानों में दी जा रही लोगों को बेहतर सेवाएं
  • कम होता लिंगानुपात बड़ी समस्या

राज्य में 20-सूत्रीय कार्यक्रम का प्रभावी कार्यान्वयन सुनिश्चित बनाया जा रहा है। स्वास्थ्य एवं परिवार angnbadiकल्याण विभाग को विभिन्न स्वास्थ्य घटकों में सालाना लक्ष्य प्रदान किए गए हैं। परिवार नियोजन कार्यक्रम के अंतर्गत राज्य में वर्तमान वित्तीय के दौरान 31 अक्तूबर, 2016 तक 12340 आईयूडी लगाने के साथ-साथ 2019 नसबंदियां करवाई गई। राज्य में 30,454 ओपी तथा 84740 लोग सीसी का उपयोग कर हैं। मातृ स्वास्थ्य सुविधा कार्यक्रम के अन्तर्गत 70,269 एएनसी मामलों का अस्पतालों में पंजीकरण किया गया, जो कि 85.38 प्रतिशत है। प्रदेश में संस्थागत प्रसव को प्रोत्साहन दिया जा रहा है। इस दौरान 45,847 संस्थागत तथा 7,366 गृह प्रसव दर्ज किए गए, जिनमें संस्थानिक प्रसवों का प्रतिशत लगभग 86.16 रहा। इस सूची में जिला हमीरपुर 98.30 प्रतिशत संस्थानिक प्रसवों के साथ प्रथम स्थान पर रहा है, जबकि चंबा 54.43 प्रतिशत के साथ सबसे नीचे रहा। टीकाकरण कार्यक्रम स्वास्थ्य देखभाल का एक अन्य अहम घटक है। वर्ष 2016-17 के लिए 1,28,560 गर्भवती महिलाओं तथा 1,08,183 नवजात शिशुओं के टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है, जिसमें 62223 टीटी, 57976 बीसीजी, 58474 ओपीबी, 82 डीपीटी तथा 63628 मिज़ल्स के टीके लगाए गए। 54252 शिशुओं को ‘विटामिन-ए’ की पहली खुराक, 62853 शिशुओं को पांचवीं खुराक तथा 62005 शिशुओं को नौवीं खुराक दी गई। 60396 शिशुओं को डीपीटी बूस्टर, 60,422 शिशुओं को पोलियो बूस्टर तथा 60,424 शिशुओं को मिजल्ज की दूसरी खुराक दी गई doctors-clipऔर इस प्रकार लगभग 58 प्रतिशत लक्ष्य को हासिल किया गया। अंधता नियन्त्रण कार्यक्रम के अन्तर्गत 275000 के लक्ष्य के तहत 117716 मोतियाबिंद के आप्रेशन किए गए। कुष्ठ रोग कार्यक्रम के अन्तर्गत 92 मामले पाए गए, जिनमें से 90 मामलों का सफल उपचार किया गया, इसके अलावा 150 पुराने मामलों का उपचार चल रहा है। वर्ष 2016-17 के दौरान 28600 यूनिट खून रक्तदान के माध्यम से एकत्रित किया गया। वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार, प्रदेश का बाल लिंग अनुपात 909 है, जो कि संतोषजनक नहीं है। 845 के बाल लिंग अनुपात के साथ हमीरपुर का गलोर इस सूची में सबसे नीचे है, जिसके बाद 850 के बाल लिंग अनुपात के साथ मण्डी का लड़भड़ोल, 875 के बाल लिंग अनुपात के साथ कांगड़ा का तियारा, 877 के बाल लिंग अनुपात के साथ कांगड़ा का गंगथ तथा 879 के बाल लिंग अनुपात के साथ मंडी का बलद्वाड़ा भी कम लिंग अनुपात की श्रेणी में शामिल हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है