Covid-19 Update

2,05,061
मामले (हिमाचल)
2,00,704
मरीज ठीक हुए
3,498
मौत
31,440,951
मामले (भारत)
195,407,759
मामले (दुनिया)
×

9 गोलियां खाकर भी चेतन चीता ने जीती जिंदगी की जंग

9 गोलियां खाकर भी चेतन चीता ने जीती जिंदगी की जंग

- Advertisement -

नई दिल्ली। CRPF के अफसर चेतन चीता को AIIMS  से डिस्चार्ज कर दिया गया है। चेतन चीता मौत को धोखा देकर मौत के मुंह से बाहर आए हैं। चीता को जम्मू कश्मीर के बांदीपुरा एनकाउंटर में 9 गोलियां लगी थीं। डॉक्टरों का कहना है कि चीता की एक आंख को नहीं बचाया जा सका। उन्हें 9 गोलियां लगी थीं, जिससे वह दो महीने तक कोमा में रहे। 45 वर्षीय चीता को जब एम्स में लाया गया था तो उनके सिर में गोलियां लगी हुई थीं। उनका ऊपरी भाग बुरी तरह से फ्रैक्चर हो गया था और दाहिनी आंख फूट गई थी। एक डॉक्टर ने बताया कि उनका जीसीएस स्कोर एम 3 था।

Chetan Chita : सभी अहम अंग काम कर रहे हैं

वह गंभीर कोमा की स्थिति में थे। अब उनका जीसीएस स्कोर एम 6 है। डॉक्टर ने बताया कि वह अब पूरे होश-ओ-हवास में हैं और सभी अहम अंग काम कर रहे हैं। 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के बांदीपुरा जिले के हाजिन इलाके में 3 जवान और एक आतंकवादी मारा गया था और चीता बुरी तरह घायल हो गए थे। सीआरपीएफ के इस कमांडर को सबसे पहले श्रीनगर के मिलिट्री अस्पताल लाया गया था, जहां उन्हें खून रोकने की दवाई दी गई थी।


लेकिन मामले की गंभीरता को देखते हुए उन्हें एयरलिफ्ट कर एम्स के ट्रॉमा सेंटर लाया गया। भर्ती होने के 24 घंटे में उनकी सर्जरी की गई और खोपड़ी के एक हिस्से को हटा दिया गया, ताकि इंट्राक्रेनियल दबाव को कम किया जा सके। चीता को अत्यधिक एंटीबायोटिक्स पर रखा गया था ताकि इन्फेक्शन कम किया जा सके और उनके घावों को लगातार साफ किया जा सके। डॉक्टर ने बताया कि एक बार स्थिर होने के बाद कई टीमों को बुलाया, ताकि घावों का उपचार किया जा सके। उनकी बाईं आंख को ठीक कर लिया गया लेकिन दाईं आंख ठीक नहीं हो पाई।

ये भी पढ़ें  : एक पत्नी और 3 पति, केस सुलझाने में Police के छूटे पसीने

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है