शीघ्र फलदायक है मंत्र जाप, पढ़ें इसके और लाभ

मंत्र जप के माध्यम से दो तरह के प्रभाव उत्पन्न होते हैं

शीघ्र फलदायक है मंत्र जाप, पढ़ें इसके और लाभ

- Advertisement -

जिस शब्द में बीजाक्षर है, उसी को ‘मंत्र’ कहते हैं। किसी मंत्र का बार-बार उच्चारण करना ही ‘मंत्र-जप’ कहलाता है। हमारा जो जाग्रत मन है, उसी को व्यक्त चेतना कहते हैं। अव्यक्त चेतना में हमारी अतृप्त इच्छाएं, गुप्त भावनाएं इत्यादि विद्यमान हैं। व्यक्त चेतना की अपेक्षा अव्यक्त चेतना अत्यंत शक्तिशाली है। हमारे संस्कार, वासनाएं। ये सब अव्यक्त चेतना में ही स्थित होते हैं। किसी मंत्र का जब जाप होता है, तब अव्यक्त चेतना पर उसका प्रभाव पड़ता है। मंत्र में एक लय होती है, उस मंत्र ध्वनि का प्रभाव अव्यक्त चेतना को स्पन्दित करता है| मंत्र जप से मस्तिष्क की सभी नाड़ियों में चैतन्यता का प्रादुर्भाव होने लगता है और मन की चंचलता कम होने लगाती है। मंत्र जाप के माध्यम से दो तरह के प्रभाव उत्पन्न होते हैं। जो है मनोवैज्ञानिक प्रभाव और ध्वनि प्रभाव। मनोवैज्ञानिक प्रभाव तथा ध्वनि प्रभाव के समन्वय से एकाग्रता बढ़ती है और एकाग्रता बढ़ने से इष्ट सिद्धि का फल मिलता ही है। मंत्र जाप का मतलब है इच्छा शक्ति को तीव्र बनाना। जिसके परिणाम स्वरूप इष्ट का दर्शन या मनोवांछित फल प्राप्त होता ही है।


मंत्र अचूक होते हैं तथा शीघ्र फलदायक भी होते हैं। लगातार मंत्र जप करने से उच्च रक्तचाप, गलत धारणाएं गंदे विचार आदि समाप्त हो जाते हैं।  मंत्र में विद्यमान हर एक बीजाक्षर शरीर की नसों को जाग्रत करता है, इससे शरीर में रक्त संचार सही ढंग से गतिशील रहता है। “क्लीं ह्रीं” इत्यादि बीजाक्षरों का एक लयात्मक पद्धति से उच्चारण करने पर ह्रदय तथा फेफड़ों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है तथा उनके विकार नष्ट होते हैं। जप के लिये ब्रह्म मुहूर्त को सर्वश्रेष्ठ माना गया है, क्योंकि उस समय पूरा वातावरण शान्ति पूर्ण रहता है, किसी भी प्रकार का कोलाहल नहीं होता। कुछ विशिष्ट साधनाओं के लिये रात्रि का समय अत्यंत प्रभावी होता है। गुरु के निर्देशानुसार निर्दिष्ट समय में ही साधक को जप करना चाहिए।

सही समय पर सही ढंग से किया हुआ जप अवश्य ही फलप्रद होता है। मंत्र जप करने वाले साधक के चेहरे से एक अपूर्व आभा आ जाती है। जप करने के लिए माला एक साधन है। शिव या काली के लिए रुद्राक्ष माला, हनुमान के लिए मूंगा माला, लक्ष्मी के लिए कमलगट्टे की माला, गुरु के लिए स्फटिक माला – इस प्रकार विभिन्न मंत्रो के लिए विभिन्न मालाओं का उपयोग करना पड़ता है। मानव शरीर में हमेशा विद्युत् का संचार होता रहता है। यह विद्युत् हाथ की उंगलियों में तीव्र होता है। इन उंगलियों के बीच जब माला फेरी जाती है, तो लयात्मक मंत्र ध्वनि तथा उंगलियों में माला का भ्रमण दोनों के समन्वय से नूतन ऊर्जा का प्रादुर्भाव होता है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

स्कॉलरशिप घोटाले में CBI ने 12 लोगों के खिलाफ कोर्ट में दाखिल की चार्जशीट

तहसीलदार, नायब तहसीलदार, कानूनगो और पटवारियों को एक माह का सेवा विस्तार

राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष के तहत की जा सकेगी Lockdown में फंसे लोगों की मदद

Shree Balaji Hospital कांगड़ा पूरी तरह Sanitized, फैकल्टी शुरू करने की तैयारी

कोरोना अपडेटः आज टांडा और Shimla में जांचे सैंपल नेगेटिव

Kangra में आज भी सभी सैंपल नेगेटिव, कसौली व मंडी में नमूनों की जांच को मांगी अनुमति

Corona time में कैसे समय बिता रहे PM मोदी, शेयर किया डेली रूटीन का 3D वीडियो

अमानवीयता: बरेली में घर लौट रहे मजदूरों को Sanitize करने के लिए केमिकल से नहलाया, देखें

Highway पर कुछ ढाबे खोलने के लिए CM Jai Ram ने हरियाणा सरकार से उठाया मामला

मंडी में खरीददारी के लिए उमड़ी भारी भीड़, Police ने काटे नो पार्किंग के चालान

DGP बोले- लोगों को गालियां देना, मारपीट करना और मुर्गा बनाना बंद करें पुलिस कर्मी

Panipat से घर लौट रहे Kangra के युवकों की बाइक पिकअप से टकराई, एक की गई जान

Corona के बढ़ते प्रकोप के बीच Dalai Lama बोले - समस्या का समाधान है, तो चिंता करने की क्या ज़रूरत

ऊना : सीमाओं पर रोक के बावजूद चोर रास्तों से घरों को लौट रहे लोग, होगी कार्रवाई

IPH Subdivision Office के बाहर मिला प्रवासी का शव, यहीं लगाता था चाय का खोखा

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

विज्ञान विषयः अध्याय-16 ... प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन

किन्नौर, भरमौर व पांगी में 10वीं और 12वीं की Practical परीक्षा की तिथि घोषित

विज्ञान विषयः अध्याय-15 ... हमारा पर्यावरण

विज्ञान विषयः अध्याय-14 ... ऊर्जा के स्त्रोत

विज्ञान विषयः अध्याय-13 ... विद्युत धारा के चुंबकीय प्रभाव

Board Exam के पहले दिन नकल के तीन मामले, अधीक्षक और स्टाफ ड्यूटी से हटाए

HP Board की परीक्षाओं से पहले CM जयराम ने छात्रों के लिए जारी किया Video मैसेज, देखें

Board Exam के दौरान ये अधिकारी करेंगे आपकी समस्याओं का समाधान

HP Board: 10वीं-12वीं की परीक्षाओं की तैयारियां पूरी, इन इलाकों में हेलीकॉप्टर से भेजे गए प्रश्नपत्र

विज्ञान विषयः अध्याय-12 ... विद्युत

दुविधा में छात्रः SOS 10वीं और जमा एक का पेपर एक दिन-क्या कहना बोर्ड का जानिए

नकल की सूचना के लिए जारी हुआ Toll Free नंबर, घुमाते ही होगा ऐसा कुछ जाने

हिमाचल के स्टूडेंट स्कूलों में करेंगे Vedic Maths की पढ़ाई

SOS 8वीं, 10वीं और 12वीं परीक्षा के Admit Card जारी, वेबसाइट से करें डाउनलोड

Himachal में सुधरा शिक्षा का स्तर, Performance Grading Index में छठा रैंक


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है