व्यापार में हो रहा है घाटा तो जरूर आजमाएं ये टोटके 

व्यापार में हो रहा है घाटा तो जरूर आजमाएं ये टोटके 

- Advertisement -

आज के प्रतिस्पर्धा वाले दौर में हर क्षेत्र में एक-दूसरे से आगे निकलने की होड़ है। व्यापार, सरकारी नौकरी या कोई और कारोबार सब अपने- अपने क्षेत्र के शीर्ष पर पहुंचने के लिए कुछ भी करने को तैयार हैं। देखने में आया है कि इनसान मेहनत तो बहुत करता है पर उसको उतनी सफलता नहीं मिल पाती। जिसका वह हकदार होता है। आज हम आप को कुछ ऐसे उपाय बता रहे हैं जिसके द्वारा आप अपने व्यापार को आगे ले जा सकते हैं। जानते हैं क्या है वे टोटके 

 

यह भी पढ़ें  :   शरीर के विभिन्न अंगों पर तिल होने का जीवन पर पड़ता है क्या प्रभाव, जानिए

  • अगर आर्थिक परेशानियों से जूझ रहे हों, तो मंदिर  में केले के दो पौधे (नर-मादा) लगा दें
  •  अमावस्या के दिन पीला त्रिकोण आकृति की पताका विष्णु मन्दिर में ऊंचाई वाले स्थान पर इस प्रकार लगाएं कि वह लहराता हुआ रहे, तो आपका भाग्य शीघ्र ही चमक उठेगा। झंडा लगातार वहाँ लगा रहना चाहिए। यह अनिवार्य शर्त है।
  •  देवी लक्ष्मी के चित्र के समक्ष नौ बत्तियों का घी का दीपक जलाए, उसी दिन धन लाभ होगा।
  •  एक नारियल पर कामिया सिन्दूर, मोली, अक्षत अर्पित कर पूजन करें। फिर हनुमान जी के मन्दिर में चढ़ा आएं। धन लाभ होगा।
  • शनिवार शाम को पीपल के वृक्ष की जड़ में तेल का दीपक जला दें। फिर वापस घर आ जाएं एवं पीछे मुड़कर न देखें। धन लाभ होगा।
  • प्रात:काल पीपल के वृक्ष में जल चढ़ाएँ तथा अपनी सफलता की मनोकामना करें और घर से बाहर शुद्ध केसर से स्वस्तिक बनाकर उस पर पीले पुष्प और अक्षत चढ़ाए । घर से बाहर निकलते समय दाहिना पांव पहले बाहर निकालें।
  • एक हंडिया में सवा किलो हरी साबुत मूंग की दाल, दूसरी में सवा किलो डलिया वाला नमक भर दें। यह दोनों हंडियां घर में कहीं रख दें। यह क्रिया बुधवार को करें। घर में धन आना शुरू हो जाएगा।
  • प्रत्येक मंगलवार को 11 पीपल के पत्ते लें। उनको गंगाजल से अच्छी तरह धोकर लाल चन्दन से हर पत्ते पर 7 बार राम लिखें। इसके बाद हनुमान जी के मन्दिर में चढ़ा आएं तथा वहां प्रसाद बाटें और इस मंत्र का जाप जितना कर सकते हो करें। `”जय जय जय हनुमान गोसाईं, कृपा करो गुरू देव की नांई”  मंगलवार लगातार जप करें। प्रयोग गोपनीय रखें। अवश्य लाभ होगा।
🏻
अगर नौकरी में तरक्की चाहते हैं, तो 7 तरह का अनाज चिड़ियों को डालें।
 मन्त्र इस प्रकार है –
`ॐ भूरिदा भूरि देहिनो, मा दभ्रं भूर्या भर। भूरि घेदिन्द्र दित्ससि। ॐ भूरिदा त्यसि श्रुत: पुरूत्रा शूर वृत्रहन्। आ नो भजस्व राधसि।।´
(हे लक्ष्मीपते ! आप दानी हैं, साधारण दानदाता ही नहीं बहुत बड़े दानी हैं। आप्तजनों से सुना है कि संसारभर से निराश होकर जो याचक आपसे प्रार्थना करता है उसकी पुकार सुनकर उसे आप आर्थिक कष्टों से मुक्त कर देते हैं – उसकी झोली भर देते हैं। हे भगवान मुझे इस अर्थ संकट से मुक्त कर दो।)
 निम्न मन्त्र को शुभ मुहूर्त्त में प्रारम्भ करें। प्रतिदिन नियमपूर्वक 5 माला श्रद्धा से भगवान् श्रीकृष्ण का ध्यान करके,
जप करता रहे –
“ॐ क्लीं नन्दादि गोकुलत्राता दाता दारिद्र्यभंजन।
सर्वमंगलदाता च सर्वकाम प्रदायक:। श्रीकृष्णाय नम:।।”
 भाद्रपद मास के कृष्णपक्ष भरणी नक्षत्र के दिन चार घड़ों में पानी भरकर किसी एकान्त कमरे में रख दें। अगले दिन जिस घड़े का पानी कुछ कम हो उसे अन्न से भरकर प्रतिदिन विधिवत पूजन करते रहें। शेष घड़ों के पानी को घर, आंगन, खेत आदि में छिड़क दें। अन्नपूर्णा देवी सदैव प्रसन्न रहेगीं।
ध्यान रखें, किसी शुभ कार्य के जाने से पहले –
  • रविवार को पान का पत्ता साथ रखकर जायें।
  • सोमवार को दर्पण में अपना चेहरा देखकर जायें।
  • मंगलवार को मिष्ठान खाकर जायें।
  • बुधवार को हरे धनिये के पत्ते खाकर जायें।
  • गुरूवार को सरसों के कुछ दाने मुख में डालकर जायें।
  •  शुक्रवार को दही खाकर जायें।
  • शनिवार को अदरक और घी खाकर जाना चाहिये।
 किसी भी शनिवार की शाम को उड़द की दाल के दाने लें। उस पर थोड़ी सी दही और सिन्दूर लगाकर पीपल के वृक्ष के नीचे रख दें और बिना मुड़कर देखे वापस आ जायें। सात शनिवार लगातार करने से आर्थिक समृद्धि तथा खुशहाली बनी रहेगी।
ज्योतिषाचार्य पं दयानन्द शास्त्री, उज्जैन ( मध्य प्रदेश) मोबाइल–7000395415, 9669290067, वाट्सऐप–9039390067

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है