दो श्मशान घाटों के बीच बसा हिमाचल का ये मंदिर, संस्कार से पहले यहां रखना पड़ता है शव

भूत, प्रेत, पिशाच व काली शक्तियों से हमेशा के लिए मिलता है छुटकारा

दो श्मशान घाटों के बीच बसा हिमाचल का ये मंदिर, संस्कार से पहले यहां रखना पड़ता है शव

- Advertisement -

सुंदरनगर। देव भूमि हिमाचल प्राचीन देव संस्कृति के नाम से जाना जाता है। प्रदेश में कई ऐसे देवस्थल हैं जिनके इतिहास को लेकर आमजन को विश्वास कर पाना मुश्किल हो जाता है। आज हम ऐसे ही एक महाभारतकालीन देवता देव दवाहली के मूल स्थान ल्याड मंदिर का रहस्य बताने जा रहे हैं। देव दवाहली मंडी जिला के उपमंडल करसोग की नगर पंचायत के गांव ल्याड में ल्याडेश्वर महादेव के नाम से विराजमान हैं। हैरानी की बात यह है कि इस मंदिर का निर्माण दो श्मशान घाटों के बीचोंबीच किया गया है। इन श्मशान घाट में किसी शव का अंतिम संस्कार करने से पहले मंदिर के प्रांगण में बनी जगह पर लाना अनिवार्य है। इसके उपरांत ही शव का अंतिम संस्कार किया जाता है।


मान्यतानुसार करसोग को महाभारत के समय पनचक्र (एकचक्रानगरी) के नाम से जाना जाता था और अपने अज्ञातवास के दौरान पांडवों ने करसोग पहुंचने पर दैत्य बकासुर के उत्पात से आमजन को दुखी पाया। इस पर स्थानीय लोगों को उनके दुख से निजात दिलवाने के लिए भीम ने तीन दिन तक चले युद्ध में बकासुर का संहार कर लोगों को राहत प्रदान की गई। वहीं दैत्य बकासुर भगवान शिव का परम भक्त होने के कारण उन्हें शिव द्वारा जनकल्याण के लिए देवत्व प्रदान किया गया। इस उपरांत देव दवाहली ने जनकल्याण के लिए विभिन्न क्षेत्रों में कई जगह अपना स्थान बनाया। ल्याड मंदिर के आंगन में बकासुर की छाती पाषाण रूप में आज तक मौजूद है। ल्याड मंदिर में 5 शिवलिंग मौजूद है जिस कारण इसे पंचमुखी महादेव के नाम से भी जाना जाता है।

स्थानीय लोगों के अनुसार इस प्राचीन मंदिर में महाभारत के संपूर्ण युद्ध का चित्रण आज भी पत्थरों पर मूर्ति के रूप में मौजूद हैं। मंदिर में भीम और बकासुर के बीच हुए घमासान युद्ध को लेकर कालचक्र और तीन दिन तक चले इस युद्ध पर भीम द्वारा खुद पथर की एक शीला पर तीन रेखाएं उकेरना इसका प्रत्यक्ष प्रमाण मौजूद हैं। इस रहस्यमयी मंदिर में भूत, प्रेत, पिशाच आदि काली शक्तियों का विधिविधान से इलाज कर पूर्ण रूप से हमेशा के लिए छुटकारा किया जाता है। स्थानीय लोगों के अनुसार इस मंदिर में बाबा गोरखनाथ भी अपने शिष्यों के साथ भ्रमण करने आए थे। मंदिर में प्रत्येक माह सक्रांति को देवता को जागृत कर लोगों की समस्याओं का हल किया जाता है और इस दिन प्रदेश के विभिन्न स्थानों से लोग आकर देव दवाहली का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं।

देव दवाहली का पर्व वर्ष में मात्र एक बार बड़ी धूमधाम से ममलेश्वर महादेव के सानिध्य में बूढ़ी दिवाली के रूप में मनाया जाता है। बूढ़ी दिवाली से एक माह के बाद आने वाली अमावस्या को शिव मंदिर ममेल में हजारों भक्तों संग मनाया जाता है। इस रात देव दवाहली अपने 9 भाईयों संग अपनी उपस्थिति दर्ज कर देव खेल के माध्यम से भक्तों की समस्याओं का निवारण करते हैं। बूढ़ी दिवाली पर देव दवाहली अपने अन्य स्थानों की भांति मुख्य स्थान ल्याड मंदिर से भी ढोल-नगाड़ों और मशालों सहित सैकड़ों देवलुओं संग ममलेश्वर महादेव मंदिर पहुंचते हैं जहां देव दवाहली दो दिन तक निवास करते हैं।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

बुरी खबर: इन 90000 सैनिकों को नहीं दिए जाएंगे जनवरी-फरवरी के भत्ते, पढ़ें रिपोर्ट्

HPSSC ने घोषित किया यह फाइनल रिजल्ट, ये रहे सफल

Corona virus के दौरान क्या करना चाहिए खुद बता रहे हैं The Dalai Lama, सुनिए ऑडियो

अंबोटा में शव बीच बाजार रखकर प्रदर्शन, Police के खिलाफ नारेबाजी-जाने मामला

ब्रेकिंग : DSP के भाई समेत दो की सड़क हादसे में मौत, बर्फ पर Car के स्किड होने की आशंका

Job के नाम पर 51 लाख की धोखाधड़ी करने वाली महिला को फिर मिला Police रिमांड

BJP सांसद का ऐलान, सरकार बनी तो 1 घंटे में खाली करवा देंगे शाहीन बाग

शादी की पहली सालगिरह पर बेरहम पति ने पत्नी के साथ किया ऐसा, जिंदगी भर नहीं चाहेगी कुछ

बारिश-बर्फबारी ने किया बेहाल : Upper Shimla में फंसे सैकड़ों वाहन, मनाली-केलंग मार्ग पर गिरा हिमखंड

गोली मारो नारे पर Anurag घिरे, चुनाव आयोग ने तलब की रिपोर्ट, देखें Video

सड़क किनारे खड़े Tipper से टकराई बाइक, बाइक सवार की गई जान

Kullu में चलती Car में भड़की आग, पति और पत्नी थे सवार

लापता शुभम मामले में आरोपी Narco Test से मुकरा, स्वास्थ्य कारणों का दिया हवाला

चंबाः मुंह काला कर, गले में जूतों की माला पहनाकर गांव में घुमाया व्यक्ति, 7 धरे

हिमाचल में शुरू हुआ बर्फबारी दौर, अगले तीन दिन कैसा रहेगा मौसम- पढ़ें

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

विज्ञान विषयः अध्याय-4… कार्बन और इसके घटक

Breaking: ग्रीष्मकालीन स्कूलों की 9वीं और 11वीं वार्षिक परीक्षा की Date Sheet जारी

विज्ञान विषयः अध्याय-3 ……धातु एवं अधातु

10वीं, जमा दो की परीक्षाओं को लेकर क्या बोले बोर्ड अध्यक्ष Suresh Kumar Soni, पढ़ें पूरी खबर

ब्रेकिंगः स्कूल शिक्षा बोर्ड ने 8 वीं की Datesheet में किया संशोधन, पढ़े ये है नई डेटशीट

हिमाचल शिक्षा बोर्ड का बड़ा फैसला, मार्च से लागू होगी यह नई व्यवस्था

बिग ब्रेकिंगः TET का रिजल्ट आउट, TGT Arts का 12.57 फीसदी रहा

SOS के 504 छात्रों के बिना परीक्षा शुल्क पहुंचे प्रवेश पत्र, बोर्ड ने लिया यह फैसला

विज्ञान विषयः रासायनिक अभिक्रियाएं एवं समीकरण

बड़ी खबरः ग्रीष्मकालीन अवकाश वाले स्कूलों में अब 22 से होंगी छुट्टियां-जानिए क्यों

SOS के छात्रों के लिए पीसीपी 22 दिसंबर से, यह छात्र ले सकेंगे भाग

शिक्षा बोर्ड ने 10वीं और 12वीं की डेटशीट की जारी, मांगे सुझाव और आपत्तियां


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है