महाशिवरात्रि पर जानिए भगवान शिव से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

महाशिवरात्रि पर जानिए भगवान शिव से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

- Advertisement -

आज महाशिवरात्रि ( Mahashivratri) का पर्व मनाया जा रहा है। हिंदू धर्म के प्रमुख देवताओं में एक भगवान शिव देवों के देव हैं। भोलेनाथ की पूजा शिवलिंग तथा मूर्ति दोनों रूपों में की जाती है। महादेव को प्रसन्न करना बहुत आसान है। इनकी पूजा पूरी श्रद्धा और भाव से की जाए तो आप पर भोलेनाथ की कृपा बनी रहती है। आज शिवालयों में शिव की पूजा हो रही है और भक्त अपने भगवान का आशीर्वाद पाने के लिए कतारों में लगे हुए हैं। महाशिवरात्रि के अवसर पर हम आप को भगवान शिव से जुड़े रोचक तथ्य बता रहे हैं।

यह भी पढ़ें :- महाशिवरात्रि विशेष : भगवान शिव को भूलकर भी न चढ़ाएं ये चीजें वरना सफल नहीं होगी पूजा

 

  • भगवान शिव का कोई माता-पिता नहीं हैं ! उन्हें अनादि माना गया है! मतलब, जो हमेशा से था, जिसके जन्म की कोई तिथि नहीं !
  • कथक, भरतनाट्यम करते वक्त भगवान शिव की जो मूर्ति रखी जाती है, उसे “नटराज” कहते है!
  • किसी भी देवी-देवता की टूटी हुई मूर्ति की पूजा नहीं होती! लेकिन शिवलिंग चाहे कितना भी टूट जाए फिर भी पूजा जाता है!

 

  • शंकर भगवान की एक बहन भी थी “अमावरी”! जिसे माता पार्वती की जिद्द पर खुद महादेव ने अपनी माया से बनाया था!
  • भगवान शिव और माता पार्वती का 1 ही पुत्र था! जिसका नाम था कार्तिकेय!
  • गणेश भगवान तो मां पार्वती ने अपने उबटन (शरीर पर लगे लेप) से बनाए थे!
  • भगवान शिव ने गणेश जी का शीश इसलिए काटा था क्योकिं गणेश ने शिव को पार्वती से मिलने नहीं दिया था! उनकी मां पार्वती ने ऐसा करने के लिए बोला था!
  • भोले बाबा ने तांडव करने के बाद सनकादि के लिए चौदह बार डमरू बजाया था! जिससे माहेश्वर सूत्र यानि संस्कृत व्याकरण का आधार प्रकट हुआ था!

यह भी पढ़ें :- समझें शिव के महामंत्र महामृत्युंजय का अर्थ

शंकर भगवान पर कभी भी केतकी का फुल नही चढ़ाया जाता हैं। क्योंकि यह ब्रह्मा जी के झूठ का गवाह बना था
“शिवलिंग पर बेलपत्र तो लगभग सभी चढ़ाते है! लेकिन इसके लिए भी एक ख़ास सावधानी बरतनी पड़ती है कि बिना जल के बेलपत्र नहीं चढ़ाया जा सकता!

शंकर भगवान और शिवलिंग पर कभी भी शंख से जल नहीं चढ़ाया जाता! क्योकिं शिव जी ने शंखचूड़ को अपने त्रिशूल से भस्म कर दिया था। आपको बता दें, शंखचूड़ की हड्डियों से ही शंख बना था!

भगवान शिव के गले में जो सांप लिपटा रहता है! उसका नाम है “वासुकि”। यह शेषनाग के बाद नागों का दूसरा राजा था। भगवान शिव ने खुश होकर इसे गले में डालने का वरदान दिया था।

यह भी पढ़ें :- महाशिवरात्रि की पूजा करेंगी आप की परेशानियों को खत्म

 

चंद्रमा को भगवान शिव की जटाओं में रहने का वरदान मिला हुआ है। नंदी, जो शंकर भगवान का वाहन और उसके सभी गणों में सबसे ऊपर भी है। वह असल में शिलाद ऋषि को वरदान में प्राप्त पुत्र था। जो बाद में कठोर तप के कारण नंदी बना था।

देवी गंगा को जब धरती पर उतारने की सोची तो एक समस्या आई कि इनके वेग से तो भारी विनाश हो जाएगा। तब शंकर भगवान को मनाया गया कि पहले गंगा को अपनी ज़टाओं में बांध लें, फिर अलग-अलग दिशाओं से धीरें-धीरें उन्हें धरती पर उतारें।

शंकर भगवान का शरीर नीला इसलिए पड़ा क्योंकि उन्होने जहर पी लिया था। दरअसल, समुद्र मंथन के समय 14 चीजें निकली थी। 13 चीजें तो असुरों और देवताओं ने आधी-आधी बांट ली लेकिन हलाहल नाम का विष लेने को कोई तैयार नहीं था। ये विष बहुत ही घातक था इसकी एक बूंद भी धरती पर बड़ी तबाही मचा सकती थी। तब भगवान शिव ने इस विष को पीया था। यही से उनका नाम पड़ा “नीलकंठ महादेव”!

भगवान शिव को संहार का देवता माना जाता है! इसलिए कहते है, तीसरी आंख बंद ही रहे प्रभु की…!!

ज्योतिषाचार्य पं दयानन्द शास्त्री, उज्जैन ( मध्य प्रदेश)

मोबाइल–7000395415, 9669290067, वाट्सऐप–9039390067

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है