Covid-19 Update

20,040
मामले (हिमाचल)
17,113
मरीज ठीक हुए
280
मौत
7,810,114
मामले (भारत)
42,263,059
मामले (दुनिया)

महाशिवरात्रि पर जानिए भगवान शिव से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

महाशिवरात्रि पर जानिए भगवान शिव से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

- Advertisement -

हिंदू धर्म के प्रमुख देवताओं में एक भगवान शिव देवों के देव हैं। भोलेनाथ की पूजा शिवलिंग तथा मूर्ति दोनों रूपों में की जाती है। महादेव को प्रसन्न करना बहुत आसान है। इनकी पूजा पूरी श्रद्धा और भाव से की जाए तो आप पर भोलेनाथ की कृपा बनी रहती है। हम आप को भगवान शिव से जुड़े रोचक तथ्य बता रहे हैं।

यह भी पढ़ें :- महाशिवरात्रि विशेष : भगवान शिव को भूलकर भी न चढ़ाएं ये चीजें वरना सफल नहीं होगी पूजा

shiva1

  • भगवान शिव का कोई माता-पिता नहीं हैं ! उन्हें अनादि माना गया है! मतलब, जो हमेशा से था, जिसके जन्म की कोई तिथि नहीं !
  • कथक, भरतनाट्यम करते वक्त भगवान शिव की जो मूर्ति रखी जाती है, उसे “नटराज” कहते है!
  • किसी भी देवी-देवता की टूटी हुई मूर्ति की पूजा नहीं होती! लेकिन शिवलिंग चाहे कितना भी टूट जाए फिर भी पूजा जाता है!
  • शंकर भगवान की एक बहन भी थी “अमावरी”! जिसे माता पार्वती की जिद्द पर खुद महादेव ने अपनी माया से बनाया था!
  • भगवान शिव और माता पार्वती का 1 ही पुत्र था! जिसका नाम था कार्तिकेय!
  • गणेश भगवान तो मां पार्वती ने अपने उबटन (शरीर पर लगे लेप) से बनाए थे!
  • भगवान शिव ने गणेश जी का शीश इसलिए काटा था क्योकिं गणेश ने शिव को पार्वती से मिलने नहीं दिया था! उनकी मां पार्वती ने ऐसा करने के लिए बोला था!
  • भोले बाबा ने तांडव करने के बाद सनकादि के लिए चौदह बार डमरू बजाया था! जिससे माहेश्वर सूत्र यानि संस्कृत व्याकरण का आधार प्रकट हुआ था!

यह भी पढ़ें :- समझें शिव के महामंत्र महामृत्युंजय का अर्थ

शंकर भगवान पर कभी भी केतकी का फुल नही चढ़ाया जाता हैं। क्योंकि यह ब्रह्मा जी के झूठ का गवाह बना था
“शिवलिंग पर बेलपत्र तो लगभग सभी चढ़ाते है! लेकिन इसके लिए भी एक ख़ास सावधानी बरतनी पड़ती है कि बिना जल के बेलपत्र नहीं चढ़ाया जा सकता!

शंकर भगवान और शिवलिंग पर कभी भी शंख से जल नहीं चढ़ाया जाता! क्योकिं शिव जी ने शंखचूड़ को अपने त्रिशूल से भस्म कर दिया था। आपको बता दें, शंखचूड़ की हड्डियों से ही शंख बना था!

भगवान शिव के गले में जो सांप लिपटा रहता है! उसका नाम है “वासुकि”। यह शेषनाग के बाद नागों का दूसरा राजा था। भगवान शिव ने खुश होकर इसे गले में डालने का वरदान दिया था।

यह भी पढ़ें :- महाशिवरात्रि की पूजा करेंगी आप की परेशानियों को खत्म

 

चंद्रमा को भगवान शिव की जटाओं में रहने का वरदान मिला हुआ है। नंदी, जो शंकर भगवान का वाहन और उसके सभी गणों में सबसे ऊपर भी है। वह असल में शिलाद ऋषि को वरदान में प्राप्त पुत्र था। जो बाद में कठोर तप के कारण नंदी बना था।

देवी गंगा को जब धरती पर उतारने की सोची तो एक समस्या आई कि इनके वेग से तो भारी विनाश हो जाएगा। तब शंकर भगवान को मनाया गया कि पहले गंगा को अपनी ज़टाओं में बांध लें, फिर अलग-अलग दिशाओं से धीरें-धीरें उन्हें धरती पर उतारें।

शंकर भगवान का शरीर नीला इसलिए पड़ा क्योंकि उन्होने जहर पी लिया था। दरअसल, समुद्र मंथन के समय 14 चीजें निकली थी। 13 चीजें तो असुरों और देवताओं ने आधी-आधी बांट ली लेकिन हलाहल नाम का विष लेने को कोई तैयार नहीं था। ये विष बहुत ही घातक था इसकी एक बूंद भी धरती पर बड़ी तबाही मचा सकती थी। तब भगवान शिव ने इस विष को पीया था। यही से उनका नाम पड़ा “नीलकंठ महादेव”!

भगवान शिव को संहार का देवता माना जाता है! इसलिए कहते है, तीसरी आंख बंद ही रहे प्रभु की…!!

ज्योतिषाचार्य पं दयानन्द शास्त्री, उज्जैन ( मध्य प्रदेश)मोबाइल–7000395415, 9669290067, वाट्सऐप–9039390067

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Himachal: घर में ट्यूबवेल, बोरवेल और हैंडपंप लगाया है तो जरूर पढ़ें यह खबर

SCERT ऑनलाइन स्पर्धाः हिमाचल के इन 10 शिक्षकों की प्रविष्टियां रहीं अव्वल

सरकार के 'Diwali Bonus' में कर्मचारियों को कितना मिलेगा; गणित समझने के लिए पढ़ें पूरी खबर

कस्टमर केयर एग्जीक्यूटिव के लिए Interview कल धर्मशाला में

सीवर से बचाई थी Street Dog की जान, मौत पर मालिक ने निकाली शवयात्रा, तेरहवीं भी की

IBPS ने क्लर्क के 2557 पदों पर निकाली वैकेंसी: हिमाचल के खाते में कितनी सीटें; ब्योरा जान करें अप्लाई

डेट पर 23 दोस्तों के साथ पहुंची Girlfriend, बिल देखकर उड़े Boyfriend के होश, हुआ रफूचक्कर

#Corona Update: हिमाचल में आज 223 केस, 245 हुए ठीक- पांच की गई जान

Una से नई दिल्ली जनशताब्दी एक्सप्रेस के सफर को करना होगा इंतजार

श्री नैना देवी माता के दर्शनों को आएं तो Mask जरूर लगाएं, कहीं ढीली ना हो जाए जेब

सेना भर्ती की संयुक्त परीक्षा पहली नवंबर को, सुबह 3 बजे से मिलेंगे Admit Card

Shanta के बयान पर #BJP की घेराबंदी, कुलदीप राठौर ने कह दी यह बड़ी बात

कल किया था ABVP का समर्थन, आज NSUI का साथ निभाने HPU पहुंचे विक्रमादित्य सिंह

National Scholarship Portal पर छात्रवृति के लिए इन कक्षाओं के छात्र करें जल्द Online Apply

ऊना में Fake M Form बनाने वाले गिरोह का पर्दाफाश, Punjab का युवक भी किया Arrest

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board

#Himachal के इन स्कूलों में सर्दियों की छुट्टियों पर चलेगी कैंची, प्रस्ताव तैयार

जवाहर नवोदय विद्यालय कक्षा 6 का #Entrance_Exam अब 7 नवंबर को

स्कूलों के बाद अब Colleges खोलने की तैयारी, नवंबर से आएंगे Practical विषयों के छात्र

TET Exam में इन अभ्यर्थियों को मिली छूट, बिना आवेदन दे सकेंगे परीक्षा, बस करना होगा ये काम

#Himachal में School खोलने की तैयारी में सरकार, क्या रहेगा प्लान पढ़े यहां

Big Breaking: हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने टैट परीक्षा का शेड्यूल किया जारी- जानिए

#HPBose: 9वीं, 10वीं, 11वीं और 12वीं कक्षाओं के छात्रों को बड़ी राहत- पढ़ें खबर

हिमाचल में 100% मास्टर जी लौट आए #School, बनने लगा स्टूडेंट्स के लिए माइक्रो प्लान

SMC शिक्षकों को बड़ी राहत, #Supreme_Court ने हिमाचल हाईकोर्ट के फैसले पर लगाई रोक

गोविंद ठाकुर बोले- #Himachal में स्कूल खोलने हैं या नहीं, 9 को होगा फैसला

शिक्षा विभाग ने तैयार किया #Himachal में स्कूल खोलने का प्रस्ताव; जानें क्या है योजना

D.El.Ed CET 2020: 12 से 23 अक्टूबर तक होगी स्क्रीनिंग, अभ्यर्थी करें ऐसा

Himachal में 530 हेड मास्टर और लेक्चरर बने प्रिंसिपल, पर वेतन बढ़ोतरी को करना होगा इंतजार

बिग ब्रेकिंगः हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने आठ विषयों की TET परीक्षा का Result किया आउट

#HPBose: बोर्ड ने छात्र हित में लिया फैसला, 30 तक बढ़ाई यह तिथि



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है