Covid-19 Update

12174
मामले (हिमाचल)
7667
मरीज ठीक हुए
121
मौत
5,487,580
मामले (भारत)
30,928,163
मामले (दुनिया)

पितृपक्ष में जानें कौओं का महत्व, आवाज से शुद्ध हो जाता है घर

पितृपक्ष में जानें कौओं का महत्व, आवाज से शुद्ध हो जाता है घर

- Advertisement -

कौओं को पितरों का रूप माना जाता है। मान्यता है कि श्राद्ध ग्रहण करने के लिए हमारे पितृ कौए का रूप धारण करके आते हैं। गरुड़ पुराण (Garuda Purana) में बताया है कि कौवे यमराज के संदेश वाहक होते हैं। श्राद्ध पक्ष में कौए घर-घर जाकर खाना ग्रहण करते हैं, इससे यमलोक में स्थित पितर देवताओं को तृप्ति मिलती है। शास्त्रों में उल्लेख मिलता है कि कौवा एक मात्र ऐसा पक्षी है जो पितृ-दूत कहलाता है। यदि पितरों के लिए बनाए गए भोजन को यह पक्षी चख ले, तो पितृ तृप्त हो जाते हैं। कौवा सूरज निकलते ही घर की मुंडेर पर बैठकर यदि वह कांव-कांव की आवाज निकाल दे, तो घर शुद्ध हो जाता है।


यह भी पढ़ें :-श्राद्ध के दिनों भूल कर भी न करें ये गलतियां


श्राद्ध (Shraddh) के दिनों में इस पक्षी का महत्व बढ़ जाता है। यदि श्राद्ध के सोलह दिन में यह घर की छत का मेहमान बन जाए, तो इसे पितरों का प्रतीक और दिवंगत अतिथि स्वरूप माना गया है। इसलिए श्राद्ध पक्ष में पितरों को प्रसन्न करने के लिए श्रद्धा से पकवान बनाकर कौओं को भोजन कराते हैं। हिंदू धर्मशास्त्रों ने कौए को देवपुत्र माना है और यही वजह है कि हम श्राद्ध का भोजन कौओं को अर्पित करते हैं।

हमारे शास्त्रों में कौवे को पितरों के समकक्ष माना गया है इसलिए उन्हें ग्रास देने का विधान किया जाता है। इस मौके पर पितरों को याद करते हुए उन्हें भोजन कराने की परंपरा है। वहीं गरुण पुराण में कहा गया है कि कौवा यमराज की वाहन होता है। पितृपक्ष के समय घर-घर जाकर भोजन करता है जिससे पूर्वजों की आत्मा तृप्त होती है। इसलिए कैवे का महत्व पितृपक्ष में कौवे का महत्व बढ़ जाता है। कौवा एवं पीपल को पितृ प्रतीक माना जाता है। इन दिनों कौए को खाना एवं पीपल को पानी पिलाकर पितरों को तृप्त किया जाता है। कौए को पितरों का प्रतीक क्यों समझा जाता है, यह अभी भी शोध का विषय बना हुआ है।

कौवा एक विस्मयकारक पक्षी है। इनमें इतनी विविधता है कि इस पर एक ‘कागशास्त्र’ की रचना की गई है। रामायण के एक प्रसंग के अनुसार भगवान राम एवं सीता पंचवटी में एक वृक्ष के नीचे बैठे थे। श्रीराम सीता माता के बालों में फूलों की वेणी लगा रहे थे। यह दृश्य इंद्रपुत्र जयंत देख नहीं सके। ईर्ष्यावश उन्होंने कौए का रूप धारण किया एवं सीताजी के पैर पर चोंच मारी। राम ने उन्हें सजा देने के लिए बाण चलाया। इंद्र के माफी मांगने पर बाण से जयंत की एक आंख फोड़ दी, तब से कौए को एकाक्षी समझा जाता है। अगर कौवा हमारे आंगन में बोल रहा है तो समझो कोई मेहमान आने वाला है। यह पुराने समय से चली आ रही धारणा है।

प्राचीन ग्रंथोंऔर महाकाव्यों में इस कौवे से जुड़ी कई रोचक कथाएं और मान्यताएं भी लिखी हुई है। पुराणों में भी कौवों का बहुत महत्व बताया गया है। पुराणों के अनुसार कौवों की मौत कभी बीमारी से या वृद्ध होकर नहीं होती है। कौवे की मौत हमेशा आकस्मिक ही होती है और जब एक कौआ मरता है, तो उस दिन उस कौवे के साथी खाना नहीं खाते है। कौवे की खासियत है कि वह कभी भी अकेले भोजन नहीं करते हैं। वह हमेशा अपने साथी के संग मिल बांटकर ही भोजन करता है।

 

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

कुल्लू-मनाली में ब्यास के किनारे लगे नजारे, अठखेलियां करते नजर आ रहे Tourist

अब मात्र Spray से होगा मशरूम उत्पादन, ऊना के इस किसान ने तैयार किया Liquid Culture

Lok Sabha में गूंजा #Bollywood में यौन शोषण का मुद्दा, रवि किशन ने की कठोर कानून की मांग की

शादी के कार्ड पर लड़की ने मांगा Cash, गिफ्ट के आधार पर सेट किया खाने का Menu

New Pension Scheme Employees Union अब सरकार के खिलाफ करेगा आंदोलन

#Solan: आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के घर दबिश, चीनी, तेल व बिस्कुट बरामद- सील

पानी के तेज बहाव में बह गई 3 परिवारों की कई बीघा भूमि व मिट्टी में मिले पेड़

पूड़े के साथ पुदीने की चटनी व खीर खानी है तो Himachalके इस शहर का करना होगा रूख

Atal Tunnel में बीएसएनएल देगा Highspeed connectivity, उद्घाटन के साथ होगी शुरू

Shimla में रिज पर बने Water Tank की मरम्मत का काम शुरू ,2 माह लगेंगे दरारें भरने में

ये हैं दुनिया के 5 सबसे जानलेवा जीव: लिस्ट में शामिल है मक्खी और मच्छर का भी नाम, जानें

#China में आया नया वायरस, तीन हजार से ज्यादा लोग निकले Positive

अटल टनल रोहतांग में 4G नेटवर्क की सुविधा का Trial सफल; जानें कितनी मिलेगी स्पीड

#Corona_Update: हिमाचल में आज 286 नए मामले, पांच लोगों ने गंवाई जान

Big Breaking: शिमला में कंडा जेल का कैदी पुलिस को चकमा देकर हुआ फरार

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board

#HPBose: SOS मैट्रिक व जमा दो कक्षाओं की प्रैक्टिकल परीक्षा की डेटशीट जारी

तकनीकी विवि में द्वितीय, चतुर्थ और छठे समेस्टर के छात्रों को किया जाएगा Promote

शिक्षकों-गैर शिक्षकों को स्कूल बुलाने के लिए Notification जारी, विभाग ने ये दिए निर्देश

#HPBose: बोर्ड की अनुपूरक परीक्षाओं से संबंधित जानकारी के लिए घुमाएं ये नंबर

D.El.Ed. CET -2020 की स्पोर्टस कोटे की काउंसिलिंग अब 17 को डाइट में होगी

#HPBose: बोर्ड ने D.El.Ed.CET स्पोर्ट्स कैटेगरी काउंसलिंग की तिथि की तय

#HPBose: हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने घोषित किया यह रिजल्ट- जानिए

Himachal के सरकारी स्कूलों में नौवीं से 12वीं के #OnlineExam आज से शुरू

#HPBose: D.El.Ed. CET स्पोर्ट्स कैटेगरी की काउंसलिंग स्थगित- जाने कारण

#HPBose_ Dharamshala: बोर्ड ने घोषित किया यह रिजल्ट, वेबसाइट में देखें

बड़ी खबर: हिमाचल में सितंबर के बाद स्कूल खुलने के संकेत; छात्रों के #Syllabus को लेकर भी बड़ा फैसला

Himachal: तकनीकी शिक्षा बोर्ड विद्यार्थियों को अगली कक्षा में करेगा प्रमोट, इनकी होंगी परीक्षाएं

मार्च की 10वीं और 12वीं SOS की Practical परीक्षा में Absent छात्रों को विशेष अवसर

#HPBose: D.El.Ed. CET स्पोर्ट्स कैटेगरी काउंसलिंग की तिथियां घोषित

#HPBose: बड़ा फैसला- SOS के तहत जमा दो मेडिकल व नॉन मेडिकल की हो सकेगी पढ़ाई



×
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है