परिवर्तिनी एकादशी : ये व्रत करने वाले को मिलता है वाजपेय यज्ञ का फल

इस दिन निद्रा के दौरान करवट लेते हैं भगवान विष्णु योग

परिवर्तिनी एकादशी : ये व्रत करने वाले को मिलता है वाजपेय यज्ञ का फल

- Advertisement -

भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को जल झूलनी एकादशी या परिवर्तिनी एकादशी कहते हैं। इस दिन भगवान वामन (Lord Vamana) की पूजा की जाती है। इस बार परिवर्तिनी एकादशी 9 सितंबर यानी सोमवार को है। कहा जाता है कि इस दिन भगवान विष्णु (Lord Vishnu) योग निद्रा के दौरान करवट लेते हैं, इसलिए इसको परिवर्तिनी एकादशी कहते हैं। कुछ स्थानों पर ये दिन भगवान श्रीकृष्ण के सूरज पूजा (जन्म के बाद होने वाला मांगलिक कार्यक्रम) के रूप में मनाया जाता है। हम आपको परिवर्तिनी यानी जल झूलनी एकादशी व्रत की विधि और महत्व के बारे में बता रहे हैं …


 

यह भी पढ़ें:बढ़ गया है कर्ज का बोझ, मुक्ति दिलाएगा “ऋणहर्ता गणपति स्तोत्र”

व्रत विधि :

परिवर्तिनी एकादशी व्रत का नियम पालन दशमी तिथि 8 सितंबर की रात से ही शुरू करें व ब्रह्मचर्य का पालन करें। एकादशी के दिन सुबह स्नान आदि करने के बाद साफ कपड़े पहनकर भगवान वामन की प्रतिमा के सामने बैठकर व्रत का संकल्प लें। इस दिन यथासंभव उपवास करें उपवास में अन्न ग्रहण नहीं करें संभव न हो तो एक समय फलाहारी कर सकते हैं। इसके बाद भगवान वामन की पूजा विधि-विधान से करें। (यदि आप पूजन करने में असमर्थ हों तो पूजन किसी योग्य ब्राह्मण से भी करवा सकते हैं।) भगवान वामन को पंचामृत से स्नान कराएं। स्नान के बाद उनके चरणामृत को व्रती (व्रत करने वाला) अपने और परिवार के सभी सदस्यों के अंगों पर छिड़कें और उस चरणामृत को पीएं। इसके बाद भगवान को गंध, पुष्प, धूप, दीप, नैवेद्य आदि पूजन सामग्री अर्पित करें। विष्णु सहस्त्रनाम का जाप एवं भगवान वामन की कथा सुनें। रात को भगवान वामन की मूर्ति के समीप ही सोएं और दूसरे दिन यानी द्वादशी पर वेदपाठी ब्राह्मणों को भोजन कराकर दान देकर आशीर्वाद प्राप्त करें।

ये है व्रत का महत्व :

  • जिसने भाद्रपद शुक्ल एकादशी को व्रत और पूजन किया, उसने ब्रह्मा, विष्णु सहित तीनों लोकों का पूजन किया। अत: हरिवासर अर्थात एकादशी का व्रत अवश्य करना चाहिए।
  • इस व्रत के बारे में भगवान श्रीकृष्ण ने स्वयं युधिष्ठिर से कहा है कि जो इस दिन कमलनयन भगवान का कमल से पूजन करते हैं, वे अवश्य भगवान के समीप जाते हैं।
  • जो मनुष्य यत्न के साथ विधिपूर्वक परिवर्तिनी एकादशी व्रत करते हुए रात्रि जागरण करते हैं, उनके समस्त पाप नष्ट होकर अंत में वे स्वर्गलोक को प्राप्त होते हैं।
  • इस व्रत करने से वाजपेय यज्ञ का फल मिलता है। पापियों के पाप नाश के लिए इससे बढ़कर कोई उपाय नहीं है।
  • जो मनुष्य इस एकादशी को भगवान विष्णु के वामन रूप की पूजा करता है, उससे तीनों लोक पूज्य होते हैं।

 

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

हिमाचल पर्यटन नीति-2019 अधिसूचित, वेब पोर्टल पर लें जानकारी

एनसीसी समूह की साइकिल रैली रवाना, राज्यपाल ने हरी झंडी दिखाई

होटलों की जीएसटी दरों के युक्तिकरण का हिमाचल को होगा फायदा

गोवा में हुई जीएसटी परिषद की बैठक में बिक्रम ठाकुर ने रखी यह बात

गुरकीरत सिंह बोले-वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ बयानबाजी अनुशासनहीनता

बीबीएमबी प्रोजेक्ट्स में हिमाचल को पूर्ण सदस्य बनाया जाए: सीएम जयराम

प्रदेश में झमाझम बारिश के साथ हुआ हिमपात, जाने अगले 6 दिन के मौसम के हाल

लॉ यूनिवर्सिटी के छात्रों ने परिसर में सामान रख बोला हल्ला, एबीवीपी देगी साथ

रायजादा के बयान पर सतपाल सत्ती का पलटवार, कहीं यह बात

गोहर में सिंचाई के लिए बने टैंक में मिला मृत तेंदुआ

रायजादा ने पूछा, सीआईडी जांच रिपोर्ट सत्ती के पास कहां से आई

वीरभद्र सिंह पीजीआई में स्वस्थ, बोले - "ठीक हूं, जल्द शिमला लौटूंगा"

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में आया अब तक का बड़ा उछाल, मुंबई में 78 के पार

छात्रा यौन शोषण केस का आरोपी चिन्मयानंद गिरफ्तार, 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

बसाहीधार में गिरी कार, नगरोटा बगवां के दो युवकों की मौत, 2 घायल

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है