Covid-19 Update

2879
मामले (हिमाचल)
1714
मरीज ठीक हुए
12
मौत
1,906,121
मामले (भारत)
18,570,148
मामले (दुनिया)

अनमोल हैं भगवान शिव से जुड़ी ये सारी वस्तुएं, आपको बताते हैं इनका महत्व

अनमोल हैं भगवान शिव से जुड़ी ये सारी वस्तुएं, आपको बताते हैं इनका महत्व

- Advertisement -

भगवान शिव से जुड़ी ऐसी कई अनमोल वस्तुएं हैं जिनके बारे में आपके सुना तो होगा लेकिन उनके महत्व के बारे में शायद आप नहीं जानते होंगे। शिव को ‘त्रिलोचन’ कहते हैं यानी उनकी तीन आंखें हैं। प्रत्येक मनुष्य की भौहों के बीच तीसरा नेत्र रहता है। शिव का तीसरा नेत्र हमेशा जागृत रहता है, लेकिन बंद। यदि आप अपनी आंखें बंद करेंगे तो आपको भी इस नेत्र का अहसास होगा। तीसरी आंख का मतलब है कि बोध या अनुभव का एक दूसरा आयाम खुल गया है। दो आंखें सिर्फ भौतिक चीजों को देख सकती हैं जो कि भीतर की ओर देख सकता है। इस बोध से आप जीवन को बिल्कुल अलग ढंग से देख सकते हैं। इसके बाद दुनिया में जितनी चीजों का अनुभव किया जा सकता है, उनका अनुभव हो सकता है इसलिए बनी बनाई चीजों पर चलने से पहले खुद समझें-सोचें। शिव का यह नेत्र आधा खुला और आधा बंद है। यह इसी बात का प्रतीक है कि व्यक्ति ध्यान-साधना या संन्यास में रहकर भी संसार की जिम्मेदारियों को निभा सकता है।


पीयूष ग्रंथि (पीनिअल ग्लैंड) – आध्यात्मिक दृष्टि से कुंडलिनी जागरण में एक चक्र को भेदने के बाद जब षट्चक्र पूर्ण हो जाता है तो इसके बाद आत्मा का तीसरा नेत्र मलशून्य हो जाता है। वह स्वच्छ और प्रसन्न हो जाता है।

शिव अपनी देह पर हस्ति चर्म और व्याघ्र चर्म को धारण करते हैं। हस्ती अर्थात हाथी और व्याघ्र अर्थात शेर। हस्ती अभिमान का और व्याघ्र हिंसा का प्रतीक है अत: शिवजी ने अहंकार और हिंसा दोनों को दबा रखा है।

मृगछाला : इस पर बैठकर साधना का प्रभाव बढ़ता है। मन की अस्थिरता दूर होती है। तपस्वी और साधना करने वाले साधक आज भी मृगासन या मृगछाला के आसन को ही अपनी साधना के लिए श्रेष्ठ मानते हैं।

शिव का पिनाक धनुष – शिव ने जिस धनुष को बनाया था उसकी टंकार से ही बादल फट जाते थे और पर्वत हिलने लगते थे। ऐसा लगता था मानो भूकंप आ गया हो। यह धनुष बहुत ही शक्तिशाली था। इसी के एक तीर से त्रिपुरासुर की तीनों नगरियों को ध्वस्त कर दिया गया था। इस धनुष का नाम पिनाक था। उल्लेखनीय है कि राजा दक्ष के यज्ञ में यज्ञ का भाग शिव को नहीं देने के कारण भगवान शंकर बहुत क्रोधित हो गए थे और उन्होंने सभी देवताओं को अपने पिनाक धनुष से नष्ट करने की ठानी। एक टंकार से धरती का वातावरण भयानक हो गया। बड़ी मुश्किल से उनका क्रोध शांत किया गया, तब उन्होंने यह धनुष देवताओं को दे दिया। राजा जनक के पूर्वजों में निमि के ज्येष्ठ पुत्र देवराज थे। देवताओं ने राजा जनक के पूर्वज देवराज को धनुष दे दिया। शिव-धनुष उन्हीं की धरोहरस्वरूप राजा जनक के पास सुरक्षित था। इस धनुष को भगवान शंकर ने स्वयं अपने हाथों से बनाया था। उनके इस विशालकाय धनुष को कोई भी उठाने की क्षमता नहीं रखता था लेकिन भगवान राम ने इसे उठाकर इसकी प्रत्यंचा चढ़ाई और इसे एक झटके में तोड़ दिया।

भगवान शिव का चक्र – चक्र को छोटा, लेकिन सबसे अचूक अस्त्र माना जाता था। सभी देवी-देवताओं के पास अपने-अपने अलग चक्र होते थे। उन सभी के अलग-अलग नाम थे। शंकरजी के चक्र का नाम भवरेंदु, विष्णुजी के चक्र का नाम कांता चक्र और देवी का चक्र मृत्यु मंजरी के नाम से जाना जाता था। सुदर्शन चक्र का नाम भगवान कृष्ण के नाम के साथ अभिन्न रूप से जुड़ा हुआ है। यह बहुत कम ही लोग जानते हैं कि सुदर्शन चक्र का निर्माण भगवान शंकर ने किया था। प्राचीन और प्रामाणिक शास्त्रों के अनुसार इसका निर्माण भगवान शंकर ने किया था। निर्माण के बाद भगवान शिव ने इसे श्रीविष्णु को सौंप दिया था। जरूरत पड़ने पर श्रीविष्णु ने इसे देवी पार्वती को प्रदान कर दिया। पार्वती ने इसे परशुराम को दे दिया और भगवान कृष्ण को यह सुदर्शन चक्र परशुराम से मिला।

शिव का त्रिपुंड तिलक – अपने माथे पर भगवान शिव त्रिपुंड तिलक लगाते हैं। यह तीन लंबी धारियों वाला तिलक होता है। यह त्रिलोक्य और त्रिगुण का प्रतीक है। यह सतोगुण, रजोगुण और तपोगुण का प्रतीक भी है। यह त्रिपुंड सफेद चंदन का या भस्म का होता है। सतोगुण, रजोगुण और तमोगुण तीनों ही गुणों को नियंत्रित करने के कारण, शिव जी त्रिपुंड तिलक प्रयोग करते हैं। त्रिपुंड दो प्रकार का होता है – पहला तीन धारियों के बीच लाल रंग का एक बिंदु होता है। यह बिंदु शक्ति का प्रतीक होता है। आम इंसान को इस तरह का त्रिपुंड नहीं लगाना चाहिए। दूसरा होता है सिर्फ तीनधारियों वाला तिलक या त्रिपुंड। इससे मन एकाग्र होता है।

कान में कुंडल – हिन्दुओं में एक कर्ण छेदन संस्कार है। शैव, शाक्त और नाथ संप्रदाय में दीक्षा के समय कान छिदवाकर उसमें मुद्रा या कुंडल धारण करने की प्रथा है। कर्ण छिदवाने से कई प्रकार से रोग से तो बचा जा ही सकता है साथ ही इससे मन भी एकाग्र रहता है। मान्यता अनुसार इससे वीर्य शक्ति भी बढ़ती है। कर्णकुंडल धारण करने की प्रथा के आरंभ की खोज करते हुए विद्वानों ने एलोरा गुफा की मूर्ति, सालीसेटी, एलीफैंटा, आरकाट जिले के परशुरामेश्वर के शिवलिंग पर स्थापित मूर्ति आदि अनेक पुरातात्विक सामग्रियों की परीक्षा कर निष्कर्ष निकाला है कि मत्स्येंद्र और गोरक्ष के पूर्व भी कर्णकुंडल धारण करने की प्रथा थी और केवल शिव की ही मूर्तियों में यह बात पाई जाती है। भगवान बुद्ध की मूर्तियों में उनके कान काफी लंबे और छेदे हुए दिखाई पड़ते हैं। प्राचीन मूर्तियों में प्राय: शिव और गणपति के कान में सर्प कुंडल, उमा तथा अन्य देवियों के कान में शंख अथवा पत्र कुंडल और विष्णु के कान में मकर कुंडल देखने में आता है।

रुद्राक्ष का महत्व – माना जाता है कि रुद्राक्ष की उत्पत्ति शिव के आंसुओं से हुई थी। धार्मिक ग्रंथानुसार 21 मुख तक के रुद्राक्ष होने के प्रमाण हैं, परंतु वर्तमान में 14 मुखी के पश्चात सभी रुद्राक्ष अप्राप्य हैं। इसे धारण करने से सकारात्मक ऊर्जा मिलती है रक्त प्रवाह भी संतुलित रहता है। रुद्राक्ष को प्राचीन काल से आभूषण के रूप में, सुरक्षा के लिए, ग्रह शांति के लिए और आध्यात्मिक लाभ के लिए प्रयोग किया जाता रहा है। कुल मिलाकर मुख्य रूप से 17 प्रकार के रुद्राक्ष पाए जाते हैं, परन्तु 12 मुखी रुद्राक्ष विशेष रूप से प्रयोग में आते हैं। रुद्राक्ष कलाई, कंठ और ह्रदय पर धारण किया जा सकता है। इसे कंठ प्रदेश तक धारण करना सर्वोत्तम होगा। कलाई में बारह, कंठ में छत्तीस और ह्रदय पर एक सौ आठ दानो को धारण करना चाहिए। एक दाना भी धारण कर सकते हैं पर यह दाना ह्रदय तक होना चाहिए तथा लाल धागे में होना चाहिए। रुद्राक्ष को कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को या किसी भी सोमवार को धारण कर सकते हैं। फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी अर्थात शिवरात्री को रुद्राक्ष धारण करना सबसे उत्तम होता है। रुद्राक्ष धारण करने के पूर्व उसे शिव जी को समर्पित करना चाहिए तथा उसी माला या रुद्राक्ष पर मंत्र जाप करना चाहिए। जो लोग भी रुद्राक्ष धारण करते हैं उन्हें सात्विक रहना चाहिए तथा आचरण को शुद्ध रखना चाहिए अन्यथा रुद्राक्ष लाभकारी नहीं होगा।

पंडित दयानंद शास्त्री, उज्जैन (म.प्र.)
(ज्योतिष-वास्तु सलाहगाड़ी) 09669290067, 09039390067

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group…

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Corona Update: चंबा में एक साथ सामने आएं 17 Case, कांगड़ा और चंबा से 4-4

फील्ड के आदी  हैं CM Jai Ram ,लेकिन मौका हाथ नहीं लग पा रहा ,रोचक है मामला

Himachal से सटी सीमा पर चीनी गतिविधियों पर कड़ी नजर रखें, खुफिया तंत्र को मजबूत करें

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस यूजिंग पायथन के Training Program के पहले बैच में ये हुए पास

Apple Season के दौरान  बागवानों को एक क्लिक पर उपलब्ध होंगे मजदूर , जानें कैसे

इन 4 जिला के युवकों के लिए निकली सेना में भर्ती , जल्द करेंआवेदन

अयोध्या में राम मंदिर के शिलान्यास पर Himachal में जश्न, घी के दीये जलाकर बांटे जा रहे लड्डू

Big Breaking: नियमित किए गए PTA, पैट और पैरा शिक्षक; जारी हुई आधिकारिक अधिसूचना

निर्वासित Tibet सरकार के चुनाव का बज गया डंका, ऐसे होंगे इस मर्तबा नियम

Job : ग्राम रोजगार सेवकों के भरे जाएंगे पद, जल्दी करें समय बचा है बहुत कम

हिमाचलः पति ने पत्नी की गोली मारकर ले ली जान, Hospital ले जाने तक हो चुकी थी ढेर

Himachal के Kinnaur में फटा बादल : चोलिंग आर्मी हेलीपैड पर घुसा मलबा

Video : बड़े धमाके से दहला Beirut, अब तक 78 की गई जान, 4000 हुए घायल

Ayodhya में राम मंदिर भूमि पूजन पर TV के राम-सीता ने इस तरह से जाहिर की खुशी

अयोध्या: सम्पन्न हुआ राम मंदिर शिलान्यास कार्यक्रम, PM बोले- राम काज कीनु बिन मोहि कहां विश्राम

loading...
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

शिक्षा बोर्ड ने SOS परीक्षाओं के लिए आवेदन तिथि बढ़ाई- जाने नई डेट

कोरोना संकट चलता रहा तो Students को घर पर ही मिल जाएगी वर्दी-बैग

Himachal में यहां मेधावी बेटियों को प्रतियोगी परीक्षाओं की मिलेगी निशुल्क Coaching

Breaking : हिमाचल में अब ई-पीटीएम, अभिभावक रख सकेंगे अपनी बात खुलकर

Covid-19 के चलते HPBOSE ने स्थगित की TET की परीक्षाएं, 2 अगस्त से होनी थी शुरू

9वीं से 12वीं के पाठ्यक्रम में कटौती को कवायद तेज, सरकार को भेजा जाएगा Proposal

Himachal में संस्कृत विश्वविद्यालय के लिए चिन्हित की जा रही जमीन

HPU ने यूजी के छात्रों को दी राहत, घर के नजदीक कॉलेजों में दे सकेंगे परीक्षा

TGT के इन 89 पदों पर होगी बैचवाइज भर्ती, दुर्गम और दूरदराज क्षेत्रों में मिलेगी तैनाती

इस दिन से शुरू होंगी यूजी अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएं, HPU ने जारी की डेटशीट

HPBOSE ने D.El.Ed CET परीक्षा की Answer Key दोबारा की अपलोड

बड़ी खबरः JBT और शास्त्री टैट की परीक्षा को लेकर बोर्ड का बड़ा फैसला

SOS जमा दो का रिजल्ट आउट, 10वीं और 12वीं के नियमित छात्रों को भी राहत

HPBOSE: टैट की परीक्षा के लिए Admit Card जारी, ऐसे करें डाउनलोड

टैट के 52,859 आवेदनों में 4,146 बिना फीस के आए, Board ने जारी की लिस्ट


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है