दीपक जलाते समय इन बातों का रखेंगे ध्यान तो होगा लाभ

गाय के देसी घी और तिल के तेल का दीया है शुभ

दीपक जलाते समय इन बातों का रखेंगे ध्यान तो होगा लाभ

- Advertisement -

दीपक यानी दीया हर घर में जलाया जाता है। दीए में सूत की बाती के साथ तेल या घी डालकर जलाया जाता हैं। पहले लोग मिट्टी का दीया जलाते थे लेकिन अब पात्र का दीया जलाने का चलन भी हैं ।


दीपक जलाने का मतलब होता है कि अपने जीवन से अंधकार हटाकर प्रकाश फैलाना। प्रकाश ज्ञान का प्रतीक होता है। कहा जाता है कि पूजा में दीपक जलाकर हम अंधकार को अपने जीवन से बाहर करते हैं। ऐसा करने से व्यक्ति पर अग्निदेव प्रसन्न होते हैं और उसे जीवन में कई तरह की परेशानियों से बचाते हैं। पूजा के समय गाय के देसी घी और तिल के तेल का ही इस्तेमाल करना शुभ माना गया है।

देवी-देवताओं की पूजा बिना दीपक जलाए पूरी नहीं हो सकती है। अगर विधिवत पूजा नहीं कर सकते हैं तो सिर्फ दीपक जलाएं और एक विशेष मंत्र बोलकर सामान्य पूजा की जा सकती है। मंदिर में आरती लेते समय भी यहां बताए जा रहे मंत्र का जाप करना शुभ रहता है।

यह भी पढ़ें :  मां दुर्गा की कृपा पाने के लिए नवरात्र में करें इन मंत्रों का जाप

मंत्र-
दीपज्योति: परब्रह्म: दीपज्योति: जनार्दन:।
दीपोहरतिमे पापं संध्यादीपं नामोस्तुते।।

शुभं करोतु कल्याणमारोग्यं सुखं सम्पदां।
शत्रुवृद्धि विनाशं च दीपज्योति: नमोस्तुति।।

इस मंत्र का सरल अर्थ यह है कि शुभ और कल्याण करने वाली, आरोग्य और धन संपदा देने वाली, शत्रु बुद्धि का नाश और शत्रुओं पर विजय दिलाने वाली दीपक की ज्योति को हम नमस्कार करते हैं।

वैसे देखा जाए तो भारत में दीये का इतिहास 5000 वर्षों से भी अधिक पुराना है । वेदों में अग्नि को देवता के समान माना गया है । यही वजह है कि आज भी भगवान के सामने शुभ कार्य के समय दीपक जलाते हैं।
पीतल का दीपक माना जाता है शुद्धः

आजकल बाजारों में स्‍टील के दीपक भी प्रचलन में हैं लेकिन प्राचीन समय से पीतल धातु को ही पूजा में रखने के लिए शुभ माना गया है । पूजा में दीपक जलाते हैं तो पीतल का ही दीपक लेकर आए । इसमें दीपक जलाने से आपकी आयु और आय दोनों में वृद्धि होती है । पीतल के दीपक को समय-समय पर साफ करते रहें । गंदे दीपक में दिया जलाने से आपको पूजा का फल प्राप्‍त नहीं होगा ।

मिट्टी का दिया सबसे शुभः

भगवान आपके मंदिर का वैभव नहीं देखते वो देखते हैं कि आप उनकी सच्‍चे मन से प्रार्थना कर रहे हैं कि नहीं । भगवान की पूजा के लिए मिट्टी के दिए सबसे शुभ माने जाते हैं । बस ये ध्‍यान रखें कि ये दिए टूटे फूटे ना हों, इनमें से तेल लीक ना कर रहा । मिट्टी को आग में पकाकर दिए बनाए जाते हैं, ये बहुत ही शुभ और पवित्र माने जाते हैं । पूजा में इस्‍तेमाल करते हुए इन्‍हें पानी में कुछ देर भिगा दें ।

ऐसी बाती करें इस्‍तेमालः

घरों में दीपक जलाने के लिए उसमें बाती लगाई जाती है । ज्‍यादातर घरों में रुई की बाती बनाई जाती है लेकिन क्‍या आप जानते हैं रुई की बाती से भी शुभ एक ऐसी चीज है जिसकी बाती लक्ष्‍मी के आने का मार्ग प्रशस्‍त करती है । दिए में मौली की बाती बनाकर जलाएं, ये बाती प्रकाश के साथ आपके जीवन में सारी खुशियों को ले आएगी, समृद्धि के नए द्वार खोलेगी ।



जलते हुए दीपक को स्वयं से कभी ना बुझाएंः

हिन्दू धर्म में दीपक की बड़ी महत्ता है । अन्धकार को दूर कर प्रकाश लाने वाले दीपक के बारे में नियम ये है कि इसे कभी भी स्वयं से नहीं बुझाना चाहिए।

ध्यान रखें, जलते हुए दीपक से कभी अगरबत्ती या धूपबत्ती नहीं जलानी चाहिए। शुद्ध घी का दीपक पूजा में अपनी दायीं ओर और तेल का दीपक अपनी बाईं ओर प्रज्वलित करें .अपनी सामर्थ्य के अनुसार दीपक जलाएं । तेल या घी नहीं प्रभु आपकी श्रद्धा से प्रसन्न होते हैं ।

खंडित दीपकः

खंडित मूर्तियों की ही तरह खंडित दीपक आपकी पूजा को पूर्ण नहीं करता है । पूजा करते समय अक्सर लोग इस बात का ध्यान नहीं देते हैं कि वो जिस दीपक का प्रयोग कर रहे हैं वो टूटा तो नहीं है। पूजा से पहले दीपक जरा भी टूट जाए या फिर खंडित हो जाए तो उसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। ऐसा नहीं करने से पूजा का फल आपको नहीं मिल पाता है। इस गलती से हमेशा बचें।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

कुल्लू में रावण का वध, लंका दहन के प्रतीक के तौर पर जलाई झाड़ियां

हिमाचल: एक बार फिर सताएगा मौसम, जाने कब होगी बारिश

आतंकी आलर्टः  चक्की दरिया के साथ लगते क्षेत्र का चप्पा-चप्पा छाना

अंग्रेजी इम्प्रूवमेंट परीक्षा का पेपर आउट ऑफ सिलेबस, परीक्षार्थियों ने किया बहिष्कार

अर्थशास्त्र में इस भारतीय मूल के अर्थशास्त्री समेत तीन को मिला नोबेल, जानें

तीन जिला के युवाओं के लिए मंडी में होगी सेना भर्ती, आवेदन को सिर्फ तीन दिन बाकी

शांता बोले-बिरादरी के नाम पर वोट नहीं मांग रही बीजेपी, इन्वेस्टर मीट पर कही यह बात

कांग्रेस बोली-बिंदल, महेंद्र सिंह के प्रचार पर रोक न लगाई तो राष्ट्रपति से होगी शिकायत

Breaking : देवी-देवताओं का नजराना पांच फीसदी, बजंतरियों का 15 फीसदी बढ़ा और भी बहुत कुछ, पढ़ें

सत्ती ने मुकेश को धर्मशाला के विकास पर पढ़ा दी पूरी की पूरी किताब

जयसिंहपुर में टैक्सी हादसे का हुई शिकार,चालक की मौत

होटल में चल रहा था कसीनो, पुलिस ने छापेमारी कर 11 लाख रुपए और सामान के साथ पकड़े 50 लोग

करवा चौथ पर हिमाचल आओगे, पर्यटन निगम मुफ्त में देगा पूजा की थाली-सरगी

फिर गायब हुआ सेब की पेटियों से लदा ट्रक

सौरव गांगुली होंगे बीसीसीआई के नए अध्यक्ष !

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है