जानिए राखी बांधने के लिए क्यों जरूरी है शुभ मुहूर्त का ध्यान रखना

जानिए राखी बांधने के लिए क्यों जरूरी है शुभ मुहूर्त का ध्यान रखना

- Advertisement -

श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन रक्षाबंधन का पर्व मनाया जाता है। शास्त्रों के अनुसार भद्रा समय में श्रावणी और फाल्गुनी दोनों ही नक्षत्र समय अवधि में राखी बांधने का कार्य करना वर्जित होता है। इस वर्ष 2019 में रक्षाबंधन का पर्व (Raksha bandhan festival) भद्रा रहित रहेगा। एक मान्यता के अनुसार श्रावण नक्षत्र में राजा ओर फाल्गुणी नक्षत्र में राखी बांधने से प्रजा का अनिष्ट होता है। यही कारण है कि राखी बांधते समय, समय की शुभता का विशेष रूप से ध्यान रखा जाता है। इस वर्ष 2019 में रक्षाबंधन का त्योहार 15 अगस्त को मनाया जाएगा। 15 अगस्त को रक्षाबंधन अनुष्ठान का समय प्रातः 05:59 से 17:59 और शुभ मुहूर्त- 13:44 से 16:22 तक रहेगा।


यह भी पढ़ें :- इस बार रक्षाबंधन पर रहेगा 12 घंटों का शुभ मुहूर्त


ऐसे करें राखी बांधने की तैयारी

इस दिन बहनें प्रात: काल में स्नानादि से निवृत्त होकर कई प्रकार के पकवान बनाती हैं। इसके बाद पूजा की थाली सजाई जाती है। थाली में राखी के साथ कुमकुम रोली, हल्दी, चावल, दीपक, अगरबती, मिठाई और कुछ पैसे भी रखे जाते हैं। सर्वप्रथम अपने ईष्ट देव की पूजा की जाती है। भाई को चयनित स्थान पर बिठाया जाता है। इसके बाद कुमकुम हल्दी से भाई का टीका करके चावल का टीका लगाया जाता है, अक्षत सिर पर छिड़के जाते हैं, आरती उतारी जाती है और भाई की दाहिनी कलाई पर राखी बांधी जाती है। पैसे उसके सिर से उतारकर, गरीबों में बांट दिये जाते हैं।

इस पवित्र दिन सभी बहनें अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधती हैं, उन्हें मिठाई खिलाकर उनका मुंह मीठा करती हैं और अपनी रक्षा का वचन लेती हैं। भाई भी राखी बंधवाने के बाद अपनी बहनों को वचन देने के साथ ही कोई तोहफा व लिफाफा भी देते हैं। इसी तरह हंसी-ठिठोली के बीच परिवार के सभी सदस्य साथ बैठकर राखी के त्योहार को मनाते हैं। भारत के अन्य त्योहारों की तरह इस त्योहार पर भी उपहार और पकवान अपना विशेष महत्व रखते हैं। इस पर्व पर भोजन प्राय: दोपहर के बाद ही किया जाता है। इस समय बहनें अपने ससुराल से राखी बांधने के लिए मायके आती हैं।

रक्षा बंधन मंत्र :

राखी बांधते समय बहनें निम्न मंत्र का उच्चारण करें, इससे भाईयों की आयु में वृ्द्धि होती है —

येन बद्धो बलि राजा, दानवेन्द्रो महाबल: I तेन त्वांमनुबध्नामि, रक्षे मा चल मा चल II

राखी बांधते समय उपरोक्त मंत्र का उच्चारण करना विशेष शुभ माना जाता है। इस मंत्र में कहा गया है कि जिस रक्षा डोर से महान शक्तिशाली दानव के राजा बलि को बांधा गया था, उसी रक्षाबंधन से में तुम्हें बांधती हूं यह डोर तुम्हारी रक्षा करेगी।

पंडित दयानंद शास्त्री, उज्जैन (म.प्र.) (ज्योतिष-वास्तु सलाहगाड़ी) 09669290067, 09039390067


हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

सरकार ने किया साफः नहीं भरे जाएंगे फीमेल हेल्थ वर्कर्ज के बेचवाइज पद

चंद्रताल में फंसे 127 पर्यटक रेस्क्यू, काजा मार्ग पर 300 की अभी भी अटकी हैं सांसे

मानसून सत्रः सदन में गूंजा विधायक रायजादा मामला, विपक्ष का हंगामा-नारेबाजी की

हिमाचल विधानसभा का मानसून सत्र शुरू, 31 तक चलेगा

मानसून सत्रः जलरक्षकों को लेकर सरकार ने कही यह बड़ी बात-जानिए

बेरहम मौसमः इस जिला के शिक्षण संस्थानों में कल भी छुट्टी घोषित 

मणिमहेश यात्रा को लेकर आ गया प्रशासन का ये बड़ा फैसला, जाने से पहले देना ध्यान

बैन के बावजूद गिलानी को इंटरनेट सेवा उपलब्ध करवाने वाले दो BSNL अधिकारी सस्पेंड

खड्ड में आई बाढ़ , ताश के पत्तों की तरह ढह गया साईं कॉलेज

आज नहीं अब इस दिन होगी कैबिनेट की बैठक

सिरमौरः नाले में बही आल्टो , गिरि नदी के किनारे मकान कराए खाली

भागवत कथा सुनने जा रही थी 75 साल की कमला, बस टायर के नीचे आकर कुचली गई

मंडीः ब्यास का जलस्तर घटा, लेकिन मौसम का खतरा बरकरार

खड्ड पार करते बह गए स्टूडेंट-टीचर : टूटा पुल, हमीरपुर-शिमला मार्ग बंद

कश्मीर पर ट्वीट कर बढ़ी शहला राशिद की मुश्किलें, सुप्रीम कोर्ट में शिकायत दर्ज

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है