Covid-19 Update

393
मामले (हिमाचल)
189
मरीज ठीक हुए
05
मौत
2,36,657
मामले (भारत)
67,34,088
मामले (दुनिया)

अजर, अमर, अविनाशी भगवान परशुराम

माता रेणुका तथा पिता जमदग्रि के घर हुआ जन्म

अजर, अमर, अविनाशी भगवान परशुराम

- Advertisement -

 परशुराम श्रीविष्णु के अंशावतार थे और उन्होंने क्षत्रियों के नाश के लिए ही जन्म लिया था। अजर, अमर, अविनाशी भगवान परशुराम का प्राकट्य बैसाख मास की शुक्ल पक्ष की तृतीया (अक्षय तृतीया) को माता रेणुका तथा पिता जमदग्रि के घर हुआ था। कहते हैं एक बार ऋषि भृगु ने अपनी पुत्रवधू सत्यवती से वर मांगने को कहा। सत्यवती ने अपने तथा अपनी माता के लिए पुत्र जन्म की कामना की। भृगु ने उन दोनों को ‘चरु’ खाने के लिए दिए तथा कहा कि सत्यवती गूलर के पेड़ तथा उसकी माता पीपल के पेड़ का आलिंगन करें तो दोनों को पुत्र प्राप्त होंगे।



मां-बेटी के चरु खाने में उलट-फेर हो गई। दिव्य दृष्टि से देखकर भृगु पुनः वहां पधारे तथा उन्होंने सत्यवती से कहा कि तुम्हारी माता का पुत्र क्षत्रिय होकर भी ब्राह्मणोचित व्यवहार करेगा तथा तुम्हारा बेटा ब्राह्मणोचित होकर भी क्षत्रियोचित आचार-विचार वाला होगा। बहुत अनुनय-विनय करने पर भृगु ने मान लिया कि सत्यवती का बेटा ब्राह्मणोचित रहेगा किंतु पोता क्षत्रियों की तरह कार्य करने वाला होगा। सत्यवती के पुत्र जमदग्नि मुनि हुए। उन्होंने राजा प्रसेनजित की पुत्री रेणुका से विवाह किया, जिनसे पांच पुत्र हुए। उनमें पांचवें पुत्र परशुराम थे। वही क्षत्रियोचित आचार-विचार वाला पुत्र था। कहते हैं कि एक बार उनकी मां रेणुका जल का कलश लेकर भरने के लिए नदी पर गईं। वहां गंधर्व चित्ररथ अप्सराओं के साथ जलक्रीड़ा कर रहा था।

उसे देखने में रेणुका इतनी तन्मय हो गईं कि जल लाने में विलंब हो गया तथा यज्ञ का समय व्यतीत हो गया। उसकी मानसिक स्थिति समझकर जमदग्नि ने अपने पुत्रों को उसका वध करने के लिए कहा। परशुराम के अतिरिक्त कोई भी ऐसा करने के लिए तैयार नहीं हुआ। पिता के कहने से परशुराम ने मां का वध कर दिया। परशुराम के पिता ने अपने अन्य पुत्रों को संज्ञाहीन कर दिया । परशुराम ने पिता की आज्ञा मानकर माता का शीश काट डाला। पिता ने प्रसन्न होकर वर मांगने को कहा तो उन्होंने चार वरदान माँगे, वे थे मां पुनर्जीवित हो जाएं उन्हें मरने की स्मृति न रहे। भाई चेतना-युक्त हो जाएं और मैं परमायु हो जाउं । जमदग्नि ने उन्हें चारों वरदान दे दिये।

दुर्वासा की भांति परशुराम भी अपने क्रोधी स्वभाव के लिए विख्यात है। एक बार कार्तवीर्य ने परशुराम की अनुपस्थिति में आश्रम उजाड़ डाला था, जिससे परशुराम ने क्रोधित हो उसकी सहस्त्र भुजाओं को काट डाला। कार्तवीर्य के संबंधियों ने प्रतिशोध की भावना से जमदग्नि का वध कर दिया। इस पर परशुराम ने 21 बार पृथ्वी को क्षत्रिय-विहीन कर दिया  और पांच झीलों को रक्त से भर दिया। अंत में पितरों की आकाशवाणी सुनकर उन्होंने क्षत्रियों से युद्ध करना छोड़कर तपस्या की ओर ध्यान लगाया।

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Corona Update: आज सात नए मामलों के साथ हिमाचल में आंकड़ा पहुंचा 400

नाहन: कांशीवाला में बीच सड़क पलटा Truck, नीचे दबे 6 प्रवासी- गंभीर घायल

Una में 21 वर्षीय विवाहिता कोरोना पॉजिटिव, कोई Travel History नहीं- गांव में ही रह रही थी

Bilaspur: विस्फोटक से गर्भवती गाय को घायल करने वाला आरोपी Arrest

Kangra मिशन रोड निर्माण में घोटाले का आरोप, 42 लाख के भुगतान पर रोक

Fake Degree Case: राणा को High Court से मिली अग्रिम जमानत, जांच में करना होगा सहयोग

आला अधिकारी ने फर्जीवाड़ा कर पत्नी की लगाई Job, सरकार ने तलब किया रिकॉर्ड

Corona Update: हिमाचल में आज 5 नए मामले, तीन मरीज हुए ठीक- एक्टिव केस 201

Breaking: हिमाचल में आशिक मिजाज BDO पर FIR,महिला सचिव के साथ कर बैठे छेड़छाड़

हिमाचल में बेरोजगार ग्रामीण MNREGA के तहत अपनी भूमि पर कर सकते हैं कार्य

नहीं रहे शिलाई के यह स्वतंत्रता सेनानी, Indira Gandhi और वाईएस परमार के थे करीबी

Corona Breaking: कांगड़ा जिला में तीन और मामले, सभी दिल्ली रिटर्न

Big News: संकट की घड़ी में जयराम सरकार ने दी राहत, नहीं बढ़ेंगी बिजली की दरें

Lockdown के बीच शांत माहौल में जंगल छोड़ Hotel पहुंचा भालू, शीशे से टकराया

बिलासपुर में गर्भवती गाय को खिलाया विस्फोटक; Social Media पर फजीहत के बाद अलर्ट हुआ प्रशासन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

स्कूली छात्र-छात्राओं को अटल स्कूल वर्दी योजना के तहत School Bags की खरीद को मंजूरी

Breaking: एसओएस की 10वीं व जमा दो कक्षा के प्रैक्टिकल की Datesheet जारी,  यहां पर पढ़ें पूरी खबर

निजी स्कूलों को राहत,पहली जून से ले सकेंगे Fees, नहीं लगेगा कोई जुर्माना

Breaking: लॉकडाउन के बीच हिमाचल के Schools में 15 जून तक छुट्टियां घोषित, ये रहा अहम कारण

ब्रेकिंगः 12वीं Geography और 10वीं वाद्य संगीत व गृह विज्ञान परीक्षा की तिथि घोषित

लाॅकडाउन के बीच Employment का मौका, Himachal में एक कंपनी भरने जा रही है 800 से ज्यादा पद

CBSE: 15,000 से अधिक सेंटरों में आयोजित होंगी 10वीं-12वीं की बची हुई परीक्षाएं, जानिए डिटेल

ICSE की 10वीं और ISC की 12वीं की बची हुई परीक्षाएं 1 जुलाई से 14 जुलाई तक

CBSE: अपने ही स्कूलों में बचे हुए सब्जेक्ट्स के Exam देंगे छात्र; जानें कब आएगा रिजल्ट

D.EL.ED CET- 2020 की तिथि घोषित, 21 मई से करें ऑनलाइन आवेदन

सरकार के आदेशों का कड़ाई से पालन करें Private School वरना होगी कड़ी कार्रवाई

CBSE: 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षाओं में स्‍टूडेंट्स को पहनना होगा Mask; जानिए नए निर्देश

CBSE ने जारी की 10वीं-12वीं की Pending Exams की डेटशीट, जाने कब शुरू होंगे पेपर

12वीं Geography, कंप्यूटर साइंस और वोकेशनल परीक्षा को लेकर Board का बड़ा फैसला-जानिए

अर्धवार्षिक व प्री बोर्ड परीक्षाओं में प्राप्त अंकों के आधार पर मिलेंगे Practical के अंक


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है