शांत और तप में लीन देवी ब्रह्मचारिणी

Maa Brahmacharini 2nd day of Navratri

शांत और तप में लीन देवी ब्रह्मचारिणी

- Advertisement -

देवी ब्रह्मचारिणी का स्वरूप पूर्ण ज्योर्तिमय है। मां दुर्गा की नौ शक्तियों में से द्वितीय शक्ति देवी ब्रह्मचारिणी का है। ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली अर्थात तप का आचरण करने वाली मां ब्रह्मचारिणी। यह देवी शांत और निमग्न होकर तप में लीन हैं। मुख पर कठोर तपस्या के कारण अद्भुत तेज और कांति का ऐसा अनूठा संगम है जो तीनों लोको को उजागर कर रहा है। देवी ब्रह्मचारिणी के दाहिने हाथ में अक्ष माला है और बाएं हाथ में कमण्डल होता है। देवी ब्रह्मचारिणी साक्षात ब्रह्म का स्वरूप हैं अर्थात तपस्या का मूर्तिमान रूप हैं। इस देवी के कई अन्य नाम हैं जैसे तपश्चारिणी, अपर्णा और उमा। इस दिन साधक का मन ‘स्वाधिष्ठान ’चक्र में स्थित होता है। इस चक्र में अवस्थित साधक मां ब्रह्मचारिणी जी की कृपा और भक्ति को प्राप्त करता है।


ये भी पढ़ेः नवरात्र में नौ देवियों को लगाएंगे ये भोग तो दूर होंगे सारे रोग…

Maa Brahmachariniब्रह्मचारिणी पूजा विधि :

देवी ब्रह्मचारिणी जी की पूजा का विधान इस प्रकार है, सर्वप्रथम आपने जिन देवी-देवताओं एवं गणों व योगिनियों को कलश में आमत्रित किया है उनकी फूल, अक्षत, रोली, चंदन, से पूजा करें उन्हें दूध, दही, शर्करा, घृत, वमधु से स्नान करायें व देवी को जो कुछ भी प्रसाद अर्पित कर रहे हैं उसमें से एक अंश इन्हें भी अर्पण करें। प्रसाद के पश्चात आचमन और फिर पान, सुपारी भेंट कर इनकी प्रदक्षिणा करें। कलश देवता की पूजा के पश्चात इसी प्रकार नवग्रह, दशदिक्पाल, नगर देवता, ग्राम देवता, की पूजा करें। इनकी पूजा के पश्चात मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करें। देवी की पूजा करते समय सबसे पहले हाथों में एक फूल लेकर प्रार्थना करें ”दधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलू देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा।” इसके पश्चात देवी को पंचामृत स्नान कराएं और फिर भांति-भांति के फूल, अक्षत, कुमकुम, सिन्दूर, अर्पित करें देवी को अरूहूल का फूल (लाल रंग का एक विशेष फूल) व कमल काफी पसंद है उनकी माला पहनाएं। प्रसाद और आचमन के पश्चात पान सुपारी भेंट कर प्रदक्षिणा करें और घी व कपूर मिलाकर देवी की आरती करें। अंत में क्षमा प्रार्थना करें आवाहनं न जानामि न जानामि वसर्जनं, पूजां चैव न जानामि क्षमस्व परमेश्वरी..

ब्रह्मचारिणी की मंत्र :

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ ब्रह्मचारिणी रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
दधाना कर पद्माभ्याम अक्षमाला कमण्डलू।
देवी प्रसीदतु मई ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा।।

ब्रह्मचारिणी की ध्यान :

वन्दे वांछित लाभायचन्द्रार्घकृतशेखराम्।
जपमालाकमण्डलु धराब्रह्मचारिणी शुभाम्॥
गौरवर्णा स्वाधिष्ठानस्थिता द्वितीय दुर्गा त्रिनेत्राम।
धवल परिधाना ब्रह्मरूपा पुष्पालंकार भूषिताम्॥
परम वंदना पल्लवराधरां कांत कपोला पीन।
पयोधराम् कमनीया लावणयं स्मेरमुखी निम्ननाभि नितम्बनीम्॥

ब्रह्मचारिणी की स्तोत्र पाठ :

तपश्चारिणी त्वंहि तापत्रय निवारणीम्।
ब्रह्मरूपधरा ब्रह्मचारिणी प्रणमाम्यहम्॥
शंकरप्रिया त्वंहि भुक्ति-मुक्ति दायिनी।
शान्तिदा ज्ञानदा ब्रह्मचारिणीप्रणमाम्यहम्॥

ब्रह्मचारिणी की कवच :

त्रिपुरा में हृदयं पातु ललाटे पातु शंकरभामिनी।
अर्पण सदापातु नेत्रो, अर्धरी च कपोलो॥
पंचदशी कण्ठे पातुमध्यदेशे पातुमहेश्वरी॥
षोडशी सदापातु नाभो गृहो च पादयो।
अंग प्रत्यंग सतत पातु ब्रह्मचारिणी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

उत्तरकाशी में बादल फटा : 17 की मौत, कई जगह मलबे में दबे लोग, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा का निधन, लंबे समय से थे बीमार

कड़ी सुरक्षा के बीच श्रीनगर में खुले स्कूल, सुरक्षाबल चप्पे-चप्पे पर तैनात

हमीरपुर में भारी बारिश का कहर : हिमुडा कालोनी के नाले में बाढ़, लोग फंसे

बस और ट्रक में जोरदार टक्कर, 11 की मौत, 15 घायल

पांवटा साहिब : उफनती यमुना में शहर के कारोबारी ने लगाई छलांग, अभी कोई सुराग नहीं

मानसून सत्र आज से , सत्तापक्ष को घेरने के लिए विपक्ष तैयार

शिक्षण संस्थानों में छुट्टी को लेकर क्या बोले डीसी कांगड़ा और मंडी-जानिए

हिमाचल में 23 की मौत, शिमला और सोलन में 15 की गई जान-887 सड़कें बंद

रामपुर में बेकाबू ट्रक ने रौंदे दो बच्चे, नारकंडा में मकान पर गिरा पेड़- तीन की मौत

बारिश के चलते अब बिलासपुर में भी बंद रहेंगे शिक्षण संस्थान

देहराः टिप्पर ने एक स्कूटी को पीछे से मारी टक्कर-एक को रौंदा, मां-बेटे की मौत

चंडीगढ़-मनाली एनएच बहाली को करना होगा लंबा इंतजार, कब तक- जानिए

कुल्लू की महिला नेत्री के वीडियो वायरल मामले में मंडी के दो लोग गिरफ्तार

इक्डोलः 19 को होनी वाली बीएड काउंसलिंग की तिथि में फेरबदल, जानिए कब अब होगी

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है