Story in Audio

Story in Audio

महावीर जयंती विशेष : बारह वर्ष की तप साधना में सिर्फ 349 दिन ग्रहण किया था अन्न-जल

महावीर जयंती विशेष : बारह वर्ष की तप साधना में सिर्फ 349 दिन ग्रहण किया था अन्न-जल

- Advertisement -

श्री पार्श्वनाथ के निर्वाण के लगभग दो शताब्दी बाद, जैन धर्म की महाविभूति महावीर (Mahavira) का आविर्भाव हुआ। इनकी जन्म तिथि चैत्र शुक्ल त्रयोदशी 618 या 5 99 ईसा पूर्व मानी जाती है। अपने महान पूर्ववर्ती तीर्थंकरों की भांति यह भी राजकुल में ही उत्पन्न हुए थे। मगध (Magadh) के प्रसिद्ध वृजिगण के ज्ञात्रिक कुल में कौंडिन्यपुर के राजा सिद्धार्थ और त्रिशला के यहां इनका जन्म हुआ था। महावीर इनका जन्म नाम नहीं था, यह नाम तो बाद में इनके अनुयायियों द्वारा दिया गया था। राजकुमार के रूप में निगण्ठ, नात पूत, वेसालिए, विदेह और वर्द्धमान आदि नामों से इन्हें पुकारा जाता था। आचारांग सूत्र (2/15/15) के अनुसार इनका विवाह (marriage) यशोदा के साथ हुआ था और इन्हें अणोज्जा या प्रियदर्शना नाम की कन्या भी थी हालांकि इस बात को श्वेतांबर मत स्वीकार करता है, दिगम्बर मत नहीं।



यह भी पढ़ें :- पढ़े श्री रामरक्षा स्‍त्रोत और इसके पाठ के लाभ

अपने जीवन की तीस वर्ष की आयु में ही वैराग्य (reclusion) धारण कर केश लोचन कर कायोत्सर्ग व्रत का नियम लेकर महावीर कुम्मार नामक गांव में केवल हाथों में ही भिक्षा लेकर दिगम्बर अवस्था में रहे। बारह वर्षों की तप साधना के समय सिर्फ 349 दिन ही उन्होंने अन्न-जल ग्रहण किया और शेष समय निराहार व्यतीत किया। उनके शरीर पर कई जंतु रेंगते रहते थे पर महावीर तप में लीन ही रहे इस कारण उन्हें इसका भान भी नहीं रहता था। तेरहवें वर्ष में ज्रम्भिका ग्राम के समीप ऋजुपालिका नदी के तट पर शाल वृक्ष के नीचे इन्हें कैवल्य ज्ञान प्राप्त हुआ, तभी से वे जिन या अर्हत कहलाए। आचारांग सूत्र, कल्पसूत्र आदि जैन ग्रन्थों में इनकी जीवन गाथा के प्रामाणिक विवरण उपलब्ध है।

ज्ञानावरणीय, दर्शनावरणीय, मोहनीय एवम अंतराय नामक चार प्रकार के घातीय कर्मों तथा आयु नाम गौत्र एवं वेदनीय नामक चार प्रकार के अघातीय कर्मो का अहिंसा सत्य, अस्तेय, अपरिग्रह और ब्रह्मचर्य इन पांच व्रतों तथा क्षमा मृदुता सरलता शौच्य सत्य संयम तप त्याग औदासिन्य एवम ब्रह्मचर्य नामक दस उत्तम धर्मो के परिपालन से आत्मोद्धार की ओर अग्रसर हो पुनः संसार में लौटकर नहीं आते। वह अनंतकाल तक सिद्ध शिला पर वास करने के अधिकारी बन जाते हैं। इस स्थिति तक पहुंचकर ऊपर उठने वाले ही तीर्थंकर कहलाते हैं। वर्धमान महावीर और उनके पहले के पार्श्व आदि पुरुष ऐसे ही सिद्ध महात्मा थे। आचार मुलक जीवन दर्शन प्रणाली का नाम ही जैन धर्म है।

दुःखों को आत्यन्तिक निवृत्ति का उद्देश्य लिए देह ओर अन्तःकरण की शुद्धि परमावश्यक कर्त्तव्य के रूप में स्वीकार की गई है। सम्यक दर्शन सम्यक ज्ञान और सम्यक चरित्र रूपी त्रिरत्नो की प्राप्ति के महान लक्ष्य में यही आदर्श निहित है। परन्तु संसार को जैन धर्म (Jainism) और उसके महान प्रकाश स्तम्भ वर्धमान महावीर की सबसे बड़ी देन है तो वह है अहिंसा का सिद्धांत जो उनके जीवन दर्शन की मुख्य प्रतिपादित धुरी है। भौतिक उन्नति के चरम शिखर की ओर अग्रसर होकर भी आज मानव परमाणु अस्त्रों का अंबार रचते हुए सर्वनाश के अतल स्पर्शी कगार पर खड़ा हुआ है। इस विषम क्षण में अहिंसा (Nonviolence) के इस अमोघ अस्त्र सिवा परित्राण का हमारे लिए दूसरा उपाय ही क्या है? अहिंसा का जो स्वप्न आज से ढाई हजार वर्ष पूर्व जैन धर्म की महावीर द्वारा संजोया गया था। इसमे कोई संदेह नहीं कि महावीर की इस शिक्षा में विश्व शांति की कुंजी निहित है।

पंडित दयानंद शास्त्री, उज्जैन (म.प्र.) (ज्योतिष-वास्तु सलाहकार) 09669290067, 09039390067

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Hamirpur: स्कूल में प्रैक्टिकल के दौरान छात्र ने किया 'एसिड अटैक', 3 छात्राएं झुलसी

हमीरपुरः शादी के कार्ड बांटने गए युवक का झाड़ियों में मिला शव, हत्या की आशंका

भव्य शोभायात्रा के साथ शुरू हुआ International Shivratri Festival

ब्रेकिंगः Cabinet की बैठक 25 को, इस बार क्या रहेगा एजेंडा- जानिए

Kasauli में स्कूली बच्चों से भरी गाड़ी लुढ़की, 14 बच्चे थे सवार

हिमाचल की 'Himachali Pahari' गाय को राष्ट्रीय स्तर पर मिली पहचान

पुराने पैटर्न में ही डाल दिया 12वीं Computer Science का प्रैक्टिकल पेपर, छात्र हुए परेशान

लापरवाही: बीच रास्ते में बस से उतर गया HRTC का टल्ली कंडक्टर, दूसरे के आने तक रुकी रही Bus

14 गोरखा ट्रेनिंग सेंटर सुबाथू में कोर्स 125 के जवानों ने ली देश सेवा की शपथ

Jai Ram सरकार ने Kangra को ब्रिक्स से बाहर कर किया कुठाराघात, देखें Video

दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक New Zealand ने बनाए 216 रन, भारत के खिलाफ 51 रन की बढ़त

लीग मैच के दौरान Pak खिलाड़ियों ने की फिक्सिंग ! शोएब अख्तर ने शेयर की तस्वीर

विधवा से दुष्कर्म मामले में BJP MLA समेत 6 को क्लीन चिट, एक गिरफ्तार

बेटी का हत्यारा निकला रक्षा मंत्री की सुरक्षा में तैनात Commando,ऐसे हुआ खुलासा

पशुओं के लिए चारा लेने जंगल गया था युवक, खाई में गिरने से गई जान

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

विज्ञान विषयः अध्याय-10... प्रकाश-परावर्तन तथा अपवर्तन

Students के लिए अब आसान होगी केलकुलेशन, शिक्षा बोर्ड करेगा कुछ ऐसा

विज्ञान विषयः अध्याय-9......... अनुवंशिकता एवं जैव विकास

विज्ञान विषयः अध्याय-8......... जीव जनन कैसे करते हैं?

इस बार दो लाख 17 हजार 555 छात्र देंगे बोर्ड परीक्षाएं, 15 से Practical

शिक्षा बोर्डः 10वीं और 12वीं के Admit Card अपलोड, फोन नंबर भी जारी

ब्रेकिंगः HP Board ने इस शुल्क में की कटौती, 300 से 150 किया

विज्ञान विषयः अध्याय-7......... नियंत्रण एवं समन्वय

विज्ञान विषयः अध्याय-6......... जैव प्रक्रम

बोर्ड इन छात्रों को पेपर हल करने के लिए एक घंटा देगा अतिरिक्त, डेटशीट जारी

विज्ञान विषयः अध्याय-5......... तत्वों का आवर्त वर्गीकरण

बोर्ड एग्जाम में आएंगे अच्छे मार्क्स,  बस फॉलो करें ये ख़ास टिप्स

विज्ञान विषयः अध्याय-4… कार्बन और इसके घटक

Breaking: ग्रीष्मकालीन स्कूलों की 9वीं और 11वीं वार्षिक परीक्षा की Date Sheet जारी

विज्ञान विषयः अध्याय-3 ……धातु एवं अधातु


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है