Covid-19 Update

353
मामले (हिमाचल)
140
मरीज ठीक हुए
05
मौत
2,07,615
मामले (भारत)
63,78,237
मामले (दुनिया)

महावीर जयंती विशेष : बारह वर्ष की तप साधना में सिर्फ 349 दिन ग्रहण किया था अन्न-जल

महावीर जयंती विशेष : बारह वर्ष की तप साधना में सिर्फ 349 दिन ग्रहण किया था अन्न-जल

- Advertisement -

श्री पार्श्वनाथ के निर्वाण के लगभग दो शताब्दी बाद, जैन धर्म की महाविभूति महावीर (Mahavira) का आविर्भाव हुआ। इनकी जन्म तिथि चैत्र शुक्ल त्रयोदशी 618 या 5 99 ईसा पूर्व मानी जाती है। अपने महान पूर्ववर्ती तीर्थंकरों की भांति यह भी राजकुल में ही उत्पन्न हुए थे। मगध (Magadh) के प्रसिद्ध वृजिगण के ज्ञात्रिक कुल में कौंडिन्यपुर के राजा सिद्धार्थ और त्रिशला के यहां इनका जन्म हुआ था। महावीर इनका जन्म नाम नहीं था, यह नाम तो बाद में इनके अनुयायियों द्वारा दिया गया था। राजकुमार के रूप में निगण्ठ, नात पूत, वेसालिए, विदेह और वर्द्धमान आदि नामों से इन्हें पुकारा जाता था। आचारांग सूत्र (2/15/15) के अनुसार इनका विवाह (marriage) यशोदा के साथ हुआ था और इन्हें अणोज्जा या प्रियदर्शना नाम की कन्या भी थी हालांकि इस बात को श्वेतांबर मत स्वीकार करता है, दिगम्बर मत नहीं।



यह भी पढ़ें :- पढ़े श्री रामरक्षा स्‍त्रोत और इसके पाठ के लाभ

अपने जीवन की तीस वर्ष की आयु में ही वैराग्य (reclusion) धारण कर केश लोचन कर कायोत्सर्ग व्रत का नियम लेकर महावीर कुम्मार नामक गांव में केवल हाथों में ही भिक्षा लेकर दिगम्बर अवस्था में रहे। बारह वर्षों की तप साधना के समय सिर्फ 349 दिन ही उन्होंने अन्न-जल ग्रहण किया और शेष समय निराहार व्यतीत किया। उनके शरीर पर कई जंतु रेंगते रहते थे पर महावीर तप में लीन ही रहे इस कारण उन्हें इसका भान भी नहीं रहता था। तेरहवें वर्ष में ज्रम्भिका ग्राम के समीप ऋजुपालिका नदी के तट पर शाल वृक्ष के नीचे इन्हें कैवल्य ज्ञान प्राप्त हुआ, तभी से वे जिन या अर्हत कहलाए। आचारांग सूत्र, कल्पसूत्र आदि जैन ग्रन्थों में इनकी जीवन गाथा के प्रामाणिक विवरण उपलब्ध है।

ज्ञानावरणीय, दर्शनावरणीय, मोहनीय एवम अंतराय नामक चार प्रकार के घातीय कर्मों तथा आयु नाम गौत्र एवं वेदनीय नामक चार प्रकार के अघातीय कर्मो का अहिंसा सत्य, अस्तेय, अपरिग्रह और ब्रह्मचर्य इन पांच व्रतों तथा क्षमा मृदुता सरलता शौच्य सत्य संयम तप त्याग औदासिन्य एवम ब्रह्मचर्य नामक दस उत्तम धर्मो के परिपालन से आत्मोद्धार की ओर अग्रसर हो पुनः संसार में लौटकर नहीं आते। वह अनंतकाल तक सिद्ध शिला पर वास करने के अधिकारी बन जाते हैं। इस स्थिति तक पहुंचकर ऊपर उठने वाले ही तीर्थंकर कहलाते हैं। वर्धमान महावीर और उनके पहले के पार्श्व आदि पुरुष ऐसे ही सिद्ध महात्मा थे। आचार मुलक जीवन दर्शन प्रणाली का नाम ही जैन धर्म है।

दुःखों को आत्यन्तिक निवृत्ति का उद्देश्य लिए देह ओर अन्तःकरण की शुद्धि परमावश्यक कर्त्तव्य के रूप में स्वीकार की गई है। सम्यक दर्शन सम्यक ज्ञान और सम्यक चरित्र रूपी त्रिरत्नो की प्राप्ति के महान लक्ष्य में यही आदर्श निहित है। परन्तु संसार को जैन धर्म (Jainism) और उसके महान प्रकाश स्तम्भ वर्धमान महावीर की सबसे बड़ी देन है तो वह है अहिंसा का सिद्धांत जो उनके जीवन दर्शन की मुख्य प्रतिपादित धुरी है। भौतिक उन्नति के चरम शिखर की ओर अग्रसर होकर भी आज मानव परमाणु अस्त्रों का अंबार रचते हुए सर्वनाश के अतल स्पर्शी कगार पर खड़ा हुआ है। इस विषम क्षण में अहिंसा (Nonviolence) के इस अमोघ अस्त्र सिवा परित्राण का हमारे लिए दूसरा उपाय ही क्या है? अहिंसा का जो स्वप्न आज से ढाई हजार वर्ष पूर्व जैन धर्म की महावीर द्वारा संजोया गया था। इसमे कोई संदेह नहीं कि महावीर की इस शिक्षा में विश्व शांति की कुंजी निहित है।

पंडित दयानंद शास्त्री, उज्जैन (म.प्र.) (ज्योतिष-वास्तु सलाहकार) 09669290067, 09039390067

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

First Hand: कांगड़ा को कोरोना का करंट, चार नए मामले Positive-एक हवाई जहाज से है आया

Solan में हड़ताल पर बैठे 120 सफाई कर्मचारी, ये है मांगें

Breaking: एसओएस की 10वीं व जमा दो कक्षा के प्रैक्टिकल की Datesheet जारी,  यहां पर पढ़ें पूरी खबर

Big Breaking: पटवारी भर्ती परीक्षा मामले में प्रदेश सरकार को बड़ी राहत, याचिका खारिज

Pulwama में जैश के टॉप कमांडर सहित 3 आतंकी ढेर, IED साजिश में थे शामिल

बरागटा बोले, Modi Government के दूसरे कार्यकाल का पहला वर्ष स्वर्णिम

58 एडवोकेट के लाइसेंस रद, Shanta को लगता है Fake Degrees के तार Himachal से जुड़े

Covid-19 का नया एपिसेंटर बना Brazil, एक ही दिन में हुईं सबसे ज्यादा मौत

जॉर्ज फ्लॉयड मामला : America में हिंसक प्रदर्शन जारी, 67 हजार National Guard तैनात

Corona in India - 2 लाख को पार कर गया कुल मरीजों का आंकड़ा, 24 घंटे में 8,909 नए मामले

Breaking - हिमाचल का जनजातीय जिला भी कोरोना की चपेट में, Kinnaur में 2 शिमला-बिलासपुर में 1-1 पॉजिटिव

आज Mumbai में तबाही मचा सकता है ‘निसर्ग’, 90-100 किमी प्रति घंटा हुई हवा की रफ्तार

कोरोना वायरस से बचने के लिए कौन सा Mask है बेहतर, इस Study में हुआ खुलासा

HPU में 274 पदों पर निकली भर्ती, यह होगी Online आवेदन की अंतिम तिथि

भाषा शिक्षा प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के लिए आवेदन की तिथि 15 जुलाई तक बढ़ी

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

Breaking: एसओएस की 10वीं व जमा दो कक्षा के प्रैक्टिकल की Datesheet जारी,  यहां पर पढ़ें पूरी खबर

निजी स्कूलों को राहत,पहली जून से ले सकेंगे Fees, नहीं लगेगा कोई जुर्माना

Breaking: लॉकडाउन के बीच हिमाचल के Schools में 15 जून तक छुट्टियां घोषित, ये रहा अहम कारण

ब्रेकिंगः 12वीं Geography और 10वीं वाद्य संगीत व गृह विज्ञान परीक्षा की तिथि घोषित

लाॅकडाउन के बीच Employment का मौका, Himachal में एक कंपनी भरने जा रही है 800 से ज्यादा पद

CBSE: 15,000 से अधिक सेंटरों में आयोजित होंगी 10वीं-12वीं की बची हुई परीक्षाएं, जानिए डिटेल

ICSE की 10वीं और ISC की 12वीं की बची हुई परीक्षाएं 1 जुलाई से 14 जुलाई तक

CBSE: अपने ही स्कूलों में बचे हुए सब्जेक्ट्स के Exam देंगे छात्र; जानें कब आएगा रिजल्ट

D.EL.ED CET- 2020 की तिथि घोषित, 21 मई से करें ऑनलाइन आवेदन

सरकार के आदेशों का कड़ाई से पालन करें Private School वरना होगी कड़ी कार्रवाई

CBSE: 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षाओं में स्‍टूडेंट्स को पहनना होगा Mask; जानिए नए निर्देश

CBSE ने जारी की 10वीं-12वीं की Pending Exams की डेटशीट, जाने कब शुरू होंगे पेपर

12वीं Geography, कंप्यूटर साइंस और वोकेशनल परीक्षा को लेकर Board का बड़ा फैसला-जानिए

अर्धवार्षिक व प्री बोर्ड परीक्षाओं में प्राप्त अंकों के आधार पर मिलेंगे Practical के अंक

Himachal के सरकारी स्कूलों में 31 मई तक छुट्टियां, आदेश जारी


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है