Story in Audio

Story in Audio

हनुमान जयंती पर जरूर करें बजरंग बाण के ये अचूक उपाय, दूर करेंगे आपके कष्ट

हनुमान जयंती पर जरूर करें बजरंग बाण के ये अचूक उपाय, दूर करेंगे आपके कष्ट

- Advertisement -

अंजनी सुत, पवन पुत्र हनुमान का जन्मोत्सव चैत्र माह की पूर्णिमा को मनाया जाता है। हनुमान जयंती (Hanuman jayanti) के दिन बजरंगबली का विधिवत पूजा-पाठ करने से शत्रु पर विजय और मनोकामना की पूर्ति होती है। इस वर्ष 2019 में हनुमान जयंती 19 अप्रैल 2019, शुक्रवार को है।


पूर्णिमा तिथि आरंभ = सायं 07:26 बजे (18 अप्रैल 2019, गुरुवार)
पूर्णिमा तिथि समाप्त = सायं 04:41 बजे (19 अप्रैल 2019, शुक्रवार)

श्री हनुमान चालीसा की तरह ही श्री बजरंग बाण (Bajrang baan) भी एक सिद्ध स्तोत्र है। इस सिद्ध शक्तिशाली बाण को विधि पूर्वक प्रयोग करने से साधक के समस्त कष्टों का निवारण हो जाता है। इस बाण की सिद्धि करने से साधक के शरीर में हनुमान जी की शक्ति प्रवेश कर जाती है। क्रिया एक ही है कि अपने सामने हनुमान जी का चित्र रखकर श्रद्धा और विश्वास के साथ उनका ध्यान करना चाहिए। मन की एकाग्रता का अभ्यास करते हुए मन स्वतः ही काबू में हो जाता है। हनुमान जी के चित्र की भली-भांति पूजा-अर्चना करके श्रद्धायुक्त प्रणाम कर यह स्तुति करनी चाहिए।

“अतुलित बलधामं हेमशैलाभ देहं दनुजवन कृशानुं ज्ञानिनामग्रगण्यम्, सकल गुणनिधानं वानराणामधीशं, रघुपति प्रिय भक्तं वातजातं नमामि।”

यह स्तुति करके साधक को चाहिए कि वह पास ही दाहिनी ओर एक आसन और बिछा दे जैसे कि शास्त्र (ethology) में इसका वर्णन आता है कि जब भी बजरंग बाण का पाठ किया जाए तो स्वयं हनुमान जी आसन पर आकर विराजते हैं। बजरंग बाण का जब भी पाठ करें, ऊनी वस्त्र के आसन पर ही बैठकर करें। जिसे हनुमान जी वरण कर लेते हैं। तब साधक के अंदर एक नई स्फूर्ति एवं शक्ति का संचार हो जाता है। मन में एक नई चेतना एक नये जोश का स्फुरण होने पर वह अपने को बलवान समझने लगता है, निर्भीक और निर्भय हो जाता है तथा समस्त प्रेत बाधाएं तथा आसुरी शक्तियां (Demonic powers) ऐसे भजन को देखते ही भाग खड़ी होती हैं। यह हजारों का अनुभव है उन्होंने कहा है कि बजरंग बाण का नियमित पाठ बाधाओं और आने वाली कठिनाईयों से रक्षा करता है।


यह भी पढ़ें :- महावीर जयंती विशेष : बारह वर्ष की तप साधना में सिर्फ 349 दिन ग्रहण किया था अन्न-जल

बजरंग बाण के बारे में कहा जाता है कि इसका प्रयोग हर कहीं, हर किसी को नहीं करना चाहिए। जब व्यक्ति घोर संकट में हो तब ही इसका इस्तेमाल करना चाहिए वरना राम भक्त हनुमान इसके प्रयोग में हुई त्रुटि को क्षमा नहीं करते हैं। छोटी-मोटी समस्याओं में इसका प्रयोग निषेध है। इसका प्रयोग किसी अत्यंत अभिष्ट कार्य के लिए भी किया जाता है, मगर इसमें सावधानी रखने की जरूरत होती है। इष्ट कार्य की सिद्धि के लिए इन बातों की रखें सावधानी –

हनुमान जयंती या फिर मंगलवार या शनिवार का दिन तय करें। हनुमानजी की प्रतिमा या आकर्षक चित्र रख लें। ॐ हनुमंते नम: का जप निरंतर करें।

पूजा के लिए कुशासन (एक विशेष प्रकार की घास से बना आसन) प्रयोग करें।

जप के प्रारंभ में यह संकल्प लें कि आपका कार्य जब भी सिद्ध होगा, हनुमानजी की सेवा में नियमित कुछ अवश्य करेंगे। अब शुद्ध उच्चारण से हनुमान जी की छवि पर ध्यान केन्द्रित करके बजरंग बाण का जाप प्रारंभ करें। ‘श्रीराम’ से लेकर ‘सिद्ध करैं हनुमान’ तक एक बैठक में ही इसकी एक माला जप करनी है।

पूजा के लिए स्थान का शुद्ध एवं शान्त होना जरूरी है। किसी एकांत अथवा निर्जन स्थल में स्थित हनुमानजी के मन्दिर (Hanuman Temple) में प्रयोग करें।

हनुमान जी की पूजा में दीपदान का खास महत्व होता है। पांच अनाजों (गेहूं, चावल, मूंग, उड़द और काले तिल) को पूजा से पहले एक-एक मुट्ठी मात्रा में लेकर शुद्ध गंगाजल में भिगो दें।
अनुष्ठान वाले दिन इन अनाजों को पीसकर इस आटे से दीया बनाएं।

बत्ती के लिए एक कच्चे सूत को अपनी लंबाई के बराबर काटकर लाल रंग में रंग लें। इस धागे को पांच बार मोड़ लें।

इस प्रकार के धागे की बत्ती को सुगन्धित तिल (Aromatic sesame) के तेल में डालकर प्रयोग करें।

जब तक पूजा चले यह दिया जलता रहना चाहिए। गूगल और धूप की विशेष व्यवस्था रखें।

 

यह भी पढ़ें :- क्या है भगवान शिव का पंचाक्षर व षडक्षर ॐ नमः शिवाय मंत्र का अर्थ और लाभ


बजरंग बाण के लाभ :

विवाह बाधा खत्म – कदली वन, या कदली वृक्ष के नीचे बजरंग बाण का पाठ करने से विवाह की बाधा खत्म हो जाती है। यहां तक कि तलाक जैसे कुयोग भी टलते हैं।

ग्रहदोष समाप्त- अगर किसी प्रकार के ग्रहदोष से पीड़ित हों, तो प्रात:काल बजरंग बाण का पाठ, आटे के दीप में लाल बत्ती जलाकर करें। ऐसा करने से बड़े से बड़ा ग्रह दोष पल भर में टल जायेगा।

साढ़े साती-राहु से नुकसान की भरपाई – अगर शनि, राहु, केतु जैसे क्रूर ग्रहों की दशा, महादशा चल रही हो तो उड़द दाल के 21 या 51 बड़े एक धागे में माला बनाकर चढ़ायें। सारे बड़े प्रसाद के रूप में बांट दें। आपको तिल के तेल का दीपक जलाकर सिर्फ 3 बार बजरंग बाण का पाठ करना होगा।

कारागार से मुक्ति – अगर किसी कारणवश जेल जाने के योग बन रहे हों, या फिर कोई संबंधी जेल में बंद हो तो उसे मुक्त कराने के लिए हनुमान जी की पूंछ पर सिंदूर से 11 टीका लगाकर 11 बार बजरंग बाण पढ़ने से कारागार योग से मुक्ति मिल जाती है।

अगर आप 11 बार बजरंग बाण पढ़कर हनुमान जी को 11 गुलाब चढ़ाते हैं या फिर चमेली के तेल में 11 लाल बत्ती के दीपक जलाते हैं तो बड़े से बड़े कोर्ट केस में भी आपको जीत मिल जायेगी।

सर्जरी और गंभीर बीमारी टाले – बजरंग बाण कई बार पेट की गंभीर बीमारी जैसे लीवर में खराबी, पेट में अल्सर या कैंसर (cancer) जैसे रोग हो जाते हैं, ऐसे रोग अशुभ मंगल की वजह से होते हैं। अगर इस तरह के रोग से मुक्ति पानी हो तो हनुमान जी को 21 पान के पत्ते की माला चढ़ाते हुए 5 बार बजरंग बाण पढ़ना चाहिए। ध्यान रहे कि बजरंगबाण का पाठ राहुकाल में ही करें। पाठ के समय घी का दीप जरूर जलायें।

छूटी नौकरी दोबारा दिलाए – बजरंग बाण अगर नौकरी छूटने का डर हो या छूटी हुई नौकरी (job) दोबारा पानी हो तो बजरंगबाण का पाठ रात में नक्षत्र दर्शन करने के बाद करें। इसके लिए आपको मंगलवार का व्रत भी रखना होगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Hamirpur: स्कूल में प्रैक्टिकल के दौरान छात्र ने किया 'एसिड अटैक', 3 छात्राएं झुलसी

हमीरपुरः शादी के कार्ड बांटने गए युवक का झाड़ियों में मिला शव, हत्या की आशंका

भव्य शोभायात्रा के साथ शुरू हुआ International Shivratri Festival

ब्रेकिंगः Cabinet की बैठक 25 को, इस बार क्या रहेगा एजेंडा- जानिए

Kasauli में स्कूली बच्चों से भरी गाड़ी लुढ़की, 14 बच्चे थे सवार

हिमाचल की 'Himachali Pahari' गाय को राष्ट्रीय स्तर पर मिली पहचान

पुराने पैटर्न में ही डाल दिया 12वीं Computer Science का प्रैक्टिकल पेपर, छात्र हुए परेशान

लापरवाही: बीच रास्ते में बस से उतर गया HRTC का टल्ली कंडक्टर, दूसरे के आने तक रुकी रही Bus

14 गोरखा ट्रेनिंग सेंटर सुबाथू में कोर्स 125 के जवानों ने ली देश सेवा की शपथ

Jai Ram सरकार ने Kangra को ब्रिक्स से बाहर कर किया कुठाराघात, देखें Video

दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक New Zealand ने बनाए 216 रन, भारत के खिलाफ 51 रन की बढ़त

लीग मैच के दौरान Pak खिलाड़ियों ने की फिक्सिंग ! शोएब अख्तर ने शेयर की तस्वीर

विधवा से दुष्कर्म मामले में BJP MLA समेत 6 को क्लीन चिट, एक गिरफ्तार

बेटी का हत्यारा निकला रक्षा मंत्री की सुरक्षा में तैनात Commando,ऐसे हुआ खुलासा

पशुओं के लिए चारा लेने जंगल गया था युवक, खाई में गिरने से गई जान

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

विज्ञान विषयः अध्याय-10... प्रकाश-परावर्तन तथा अपवर्तन

Students के लिए अब आसान होगी केलकुलेशन, शिक्षा बोर्ड करेगा कुछ ऐसा

विज्ञान विषयः अध्याय-9......... अनुवंशिकता एवं जैव विकास

विज्ञान विषयः अध्याय-8......... जीव जनन कैसे करते हैं?

इस बार दो लाख 17 हजार 555 छात्र देंगे बोर्ड परीक्षाएं, 15 से Practical

शिक्षा बोर्डः 10वीं और 12वीं के Admit Card अपलोड, फोन नंबर भी जारी

ब्रेकिंगः HP Board ने इस शुल्क में की कटौती, 300 से 150 किया

विज्ञान विषयः अध्याय-7......... नियंत्रण एवं समन्वय

विज्ञान विषयः अध्याय-6......... जैव प्रक्रम

बोर्ड इन छात्रों को पेपर हल करने के लिए एक घंटा देगा अतिरिक्त, डेटशीट जारी

विज्ञान विषयः अध्याय-5......... तत्वों का आवर्त वर्गीकरण

बोर्ड एग्जाम में आएंगे अच्छे मार्क्स,  बस फॉलो करें ये ख़ास टिप्स

विज्ञान विषयः अध्याय-4… कार्बन और इसके घटक

Breaking: ग्रीष्मकालीन स्कूलों की 9वीं और 11वीं वार्षिक परीक्षा की Date Sheet जारी

विज्ञान विषयः अध्याय-3 ……धातु एवं अधातु


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है