कालभैरव की पूजा से दूर होता है मृत्यु और हर तरह के संकट का भय

मंगल ग्रह के दोषों से परेशान हैं तो काल भैरव की पूजा करें

कालभैरव की पूजा से दूर होता है मृत्यु और हर तरह के संकट का भय

- Advertisement -

काल भैरव तंत्र साधना के लिए उत्तम माना जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भैरव बाबा भगवान शंकर का ही अवतार हैं। भैरवाष्टमी के दिन व्रत एवं षोड्षोपचार पूजन करना अत्यंत शुभ एवं फलदायक माना जाता है। इस दिन कालभैरव का दर्शन व पूजन शुभ फल देने वाला होता है। वैदिक ग्रंथों अनुसार काल भैरव का जन्म मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष अष्टमी को प्रदोष काल में हुआ था, तब से इसे भैरव अष्टमी के नाम से जाना जाता है। कालभैरव रूप की पूजा करने से मृत्यु और हर तरह के संकट का भय दूर हो जाता है। काल भैरव के बाल भैरव,बटुक भैरव, स्वर्णाकर्षण भैरव रूप सबसे सुंदर और मृदुल माने गए है | जिनमें स्वर्णाकर्षण भैरव को धन-धान्य के स्वामी और सृष्टि के पालन पोषण कर्ता के रूप पूजा जाता है | भैरव जी के ये तीनों स्वरुप पूर्णतः सात्विक माने गये है तथा भगवान विष्णु , राम , कृष्ण आदि के समान जी इन रूपों की पूजा की जाती है |


महाकाल भैरव स्वरुप के बिल्कुल विपरीत है। इन्हें मृत्यु का देवता माना जाता है।इस रूप को लेकर ही तंत्र साधना की जाती है | तांत्रिक सिद्धियां पाने के लिए भैरव को महाकाल भैरव के रूप में पूजा जाता है | इसलिए गृहस्थ जीवन में महाकाल भैरव की उपासना न करके बाल भैरव , बटुक भैरव और स्वर्णाकर्षण भैरव इन रूपों में पूजा की जानी चाहिए।इनके अतिरिक्त काल भैरवके अन्य 8 रूप इस प्रकार से है-. असिताग भैरव,रु रु भैरव,चंड भैरव,. क्रोधोन्मत भैरव, भयंकर भैरव,कपाली भैरव,भीषण भैरव व संहार भैरव।काल भैरव को भगवान शिव का पांचवा और रौद्र अवतार माना गया है | भैरव जी के सभी 12 रूपों में 9 रूपों को प्रचंड माना गया है | जिनकी उपासना तांत्रिक सिद्धियां पाने के लिए की जाती है। रविवार, बुधवार या भैरव अष्टमी पर इन 8 नामों का उच्चारण करने से मनचाहा वरदान मिलता है। भैरव देवता शीघ्र प्रसन्न होते हैं और हर तरह की सिद्धि प्रदान करते हैं।

भगवान भैरव की महिमा अनेक शास्त्रों में मिलती है। भैरव जहां शिव के गण के रूप में जाने जाते हैं, वहीं वे दुर्गा के अनुचारी माने गए हैं। भैरव की सवारी कुत्ता है। चमेली फूल प्रिय होने के कारण उपासना में इसका विशेष महत्व है। साथ ही भैरव रात्रि के देवता माने जाते हैं और इनकी आराधना का खास समय भी मध्य रात्रि में 12 से 3 बजे का माना जाता है।भैरव के नाम जप मात्र से मनुष्य को कई रोगों से मुक्ति मिलती है। वे संतान को लंबी उम्र प्रदान करते है। अगर आप भूत-प्रेत बाधा, तांत्रिक क्रियाओं से परेशान है, तो आप शनिवार या मंगलवार कभी भी अपने घर में भैरव पाठ का वाचन कराने से समस्त कष्टों और परेशानियों से मुक्त हो सकते हैं। यदि आप जन्मकुंडली में मंगल ग्रह के दोषों से परेशान हैं तो काल भैरव की पूजा करके पत्रिका के दोषों का निवारण सरलता से कर सकते है।

शनि या राहु से पीडि़त व्यक्ति अगर शनिवार और रविवार को काल भैरव के मंदिर में जाकर उनका दर्शन करें। तो उसके सारे कार्य सकुशल संपन्न हो जाते है।भैरव उपासना क्रूर ग्रहों के प्रभाव को समाप्त करती है. भैरव देव जी के राजस, तामस एवं सात्विक तीनों प्रकार के साधना तंत्र प्राप्त होते हैं। भैरव साधना स्तंभन, वशीकरण, उच्चाटन और सम्मोहन जैसी तांत्रिक क्रियाओं के दुष्प्रभाव को नष्ट करने के लिए कि जाती है। इनकी साधना करने से सभी प्रकार की तांत्रिक क्रियाओं के प्रभाव नष्ट हो जाते हैं।राहु केतु के उपायों के लिए भी इनका पूजन करना अच्छा माना जाता है। भैरव की पूजा में काली उड़द और उड़द से बने मिष्‍ठान्न इमरती, दही बड़े, दूध और मेवा का भोग लगाना लाभकारी है इससे भैरव प्रसन्न होते है।

भैरव की पूजा-अर्चना करने से परिवार में सुख-शांति, समृद्धि के साथ-साथ स्वास्थ्य की रक्षा भी होती है। तंत्र के ये जाने-माने महान देवता काशी के कोतवाल माने जाते हैं। भैरव तंत्रोक्त, बटुक भैरव कवच, काल भैरव स्तोत्र, बटुक भैरव ब्रह्म कवच आदि का नियमित पाठ करने से अपनी अनेक समस्याओं का निदान कर सकते हैं। भैरव कवच से असामायिक मृत्यु से बचा जा सकता है।कालभैरव की पूजा करने से मनुष्‍य की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है। मनुष्‍य किसी रोग से लम्बे समय से पीड़‍ि‍त है तो वह रोग, तकलीफ और दुख भी दूर होती हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

शीतकालीन सत्र का तीसरा दिन : प्रश्नकाल के दौरान सुक्खू ने उठाए मुख्यमंत्री आवास योजना पर सवाल

सुंदरनगर में फर्जी आईएएस बनकर मांगे 5 लाख, धमकी भी दी

जातीय भेदभाव मामलाः बच्चों के बयान दर्ज करने पहुंचे स्कूल पहुंचे डीएसपी व एसएचओ

ऊना बहस करने के बाद किया दराट से हमला, घायल अस्पताल में

हिमाचल : पिस्तौल और जिंदा कारतूस सहित दिल्ली निवासी धरा, क्या था प्लान जानिए

सलौणी में टैंकर और स्कूटी की टक्कर में एक की मौत, एक घायल

जवालीः करोड़ों के फर्जीवाड़े मामले में तीन कंपनियों सहित पांच लोगों पर एफआईआर

अलर्ट: हिमाचल में निर्मित इन 6 जरूरी दवाओं के सैंपल हुए फेल, खरीदने की गलती मत करना!

वीडियो: मंडी के सरकारी स्कूल में मिड डे मील के दौरान जातीय भेदभाव, मामला दर्ज

मंडीः घर निर्माण में लगाया जा रहा था सरकारी सीमेंट, महिला सहित दो पर एफआईआर

बिक्रम ठाकुर का इन्वेस्टर मीट में गड़बड़ियों से इनकार, बताया कितना हुआ खर्च

जयराम का वार-इन्वेस्टर मीट से अधिक तो कांग्रेस ने मिट्टी हटाने पर ही खर्च डाले

खुशखबरी: HPPSC ने निकाली स्कूल लेक्चरर के 396 पदों पर वैकेंसी, पुराने आवेदकों के लिए सूचना

हिमाचल: भारी बारिश-बर्फबारी की चेतावनी के बीच सात जिलों में येलो अलर्ट जारी

प्रश्नकालः कांगड़ा हवाई अड्डा विस्तारीकरण, पौंग विस्थापित मामले में क्या बोली सरकार

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है