पोंगल : सूर्यदेव को समर्पित ये त्योहार, ऐसे होती है पूजा

विधिवत रूप से सूर्य पूजा की जाती है

पोंगल : सूर्यदेव को समर्पित ये त्योहार, ऐसे होती है पूजा

- Advertisement -

मकर संक्रांति के मौके पर दक्षिण भारत विशेष कर तमिलनाडु में पोंगल का त्योहार मनाया जाता है। लोहड़ी की तरह पोंगल भी एक कृषि-त्योहार है। खेती-बाड़ी का सीधा संबंध ऋतुओं से है और ऋतुओं का सीधा संबंध सूर्य से है इसलिए इस दिन विधिवत रूप से सूर्य पूजा की जाती है। वास्तव में इस पर्व के अवसर पर किसान ईश्वर से प्रार्थना करते हैं और जीविकोपार्जन में उनकी सहायता करने लिए अपना आभार व्यक्त करते हैं।


इस त्योहार को पोंगल इसलिए कहते हैं, क्योंकि इस दिन भगवान सूर्यदेव को जो प्रसाद अर्पित किया जाता है, तमिलनाडु में उसे पोंगल कहते हैं। तमिल भाषा में पोंगल का है: अच्छी तरह से उबालना और सूर्य देवता को भोग लगाना। सदियों से चली आ रही परंपरा और रिवाजों के अनुसार इस दिन तमिलनाडु के लोग दूध से भरे एक बरतन को ईख, हल्दी और अदरक के पत्तों को धागे से सिलकर बांधकर इसे प्रज्वलित अग्नि में गर्म करते हैं और उसमें चावल डालकर खीर बनाते हैं फिर उसे सूर्यदेव को समर्पित किया जाता है। तमिलनाडु में पोंगल का विशेष महत्व है। इस दिन से तमिल कैलेंडर के महीने की पहली तारीख शुरू होती है। इस प्रकार पोंगल एक तरह से नववर्ष के आरंभ का भी प्रतीक है। इस बार ये त्योहार 15 से 18 जनवरी तक मनाया जाएगा।

पोंगल पर्व चार दिन चार अलग नामों से मनाया जाता है जो कि इस प्रकार है :

  • पहले दिन भोगी पोंगल में इंद्रदेव की पूजा की जाती है। इंद्रदेव को भोगी के रूप में भी जाना जाता है। वर्षा एवं अच्छी फसल के लिए लोग इंद्रदेव की पूजा एवं आराधना पोंगल के पहले दिन करते हैं।
  • पोंगल की दूसरी पूजा सूर्य पूजा के रूप में होती है। इसमें नए बर्तनों में नए चावल, मूंग की दाल एवं गुड़ डालकर केले के पत्ते पर गन्ना, अदरक आदि के साथ पूजा करते हैं। सूर्य को चढ़ाए जाने वाले इस प्रसाद को सूर्य के प्रकाश में ही बनाया जाता है।
  • तीसरे दिन को मट्टू पोंगल के नाम से मनाया जाता है। मट्टू दरअसल नंदी अर्थात शिव जी के बैल की पूजा इस दिन की जाती है। कहते हैं शिव जी के प्रमुख गणों में से एक नंदी से एक बार कोई भूल हो गई उस भूल के लिए भोलेनाथ ने उसे बैल बनकर पृथ्वी पर जाकर मनुष्यों की सहायता करने को कहा। उसी के याद में आज भी पोंगल का यह पर्व मनाया जाता है।
  • चौथा पोंगल कन्या पोंगल है जो यहां के एक काली मंदिर में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता। इसमें केवल महिलाएं ही भाग लेती हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

मुकेश ने कसा तंज़- हाथ ना मिलाना या फिर मिलाते हुए झटक देना, यह BJP का अंदरूनी मामला

परीक्षार्थियों का आरोप: घंटों बैठाने के बाद रिजेक्ट कर निकाला बाहर; जानें पूरा मामला

ब्रेकिंग: चंबा में हिली धरती, जानें कितनी तीव्रता वाला भूकंप आया

कुफ़री: बर्फबारी के बीच फंसे 187 पर्यटकों को किया गया रेस्क्यू

Una Hospital में प्रसव के बाद महिला मौत मामला: पुलिस ने चिकित्सक के खिलाफ दर्ज किया केस

पोलियो ड्रॉप्स पिलाने जा रही Anganwadi Worker बर्फ पर फिसली, गई जान

रायजादा का आरोप- निजी क्लीनिक भी चला रहे Una Hospital में तैनात डॉक्टर

शिरडी विवाद : शिवसेना सांसद ने खुद को बताया साईं भक्त, कहा - 'सीएम से करूंगा बात'

सोलन में पत्नी ने रेता पति का गला, गंभीर हालत में PGI रेफर

शीतलहर की चपेट में Himachal, पांच जिलों में हिमस्खलन का खतरा

पुलिस ने दड़े- सट्टे की पर्चियों समेत करंसी के साथ धरा सट्टेबाज

नीति आयोग के सदस्य का विवादित बयान : 'जम्मू में Internet का यूज़ 'गंदी फिल्में' देखने में होता है'

CBSE ने जारी किए 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड

पल्स पोलियो अभियान : Himachal में नौनिहालों ने गटकी दो बूंद जिंदगी की

Delhi के टैक्सी ड्राइवर की Manali में गई जान, जांच में जुटी पुलिस

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है