Covid-19 Update

1083
मामले (हिमाचल)
781
मरीज ठीक हुए
09
मौत
7,40,131
मामले (भारत)
11,837,245
मामले (दुनिया)

रक्षाबंधन विशेष : भाई-बहन का पवित्र रिश्ता

रक्षाबंधन विशेष : भाई-बहन का पवित्र रिश्ता

- Advertisement -

भाई और बहन के पवित्र रिश्ते का त्योहार रक्षाबंधन (Raksha Bandhan) श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। इसे ‘सावनी’ या ‘सलूनो’ भी कहते हैं। राखी सामान्यतः बहनें अपने भाइयों की कलाई पर बांधती हैं। इसके बदले में भाई अपनी बहन को रक्षा का वचन देता है और उपहार स्वरूप उसे भेंट भी देता है। इसके अतिरिक्त ब्राह्मणों, गुरुओं और परिवार में छोटी लड़कियों द्वारा संबंधियों को जैसे पुत्री द्वारा पिता को भी रक्षासूत्र या राखी बांधी जाती है।


इस त्योहार (Festival) में बहन अपने भाई की कलाई में राखी बांधती है। रक्षाबंधन के दिन पूरे घर को स्वच्छ बना कर पवित्र कर दिया जाता है। काफी घरों में इस दिन चौक पूरा जाता है। भाई-बहन स्नान कर साफ वस्त्र पहनते हैं तथा राखी बांधने वाले स्थान पर आजाते हैं। बहन, भाई के मस्तक पर रोली-अक्षत का तिलक लगाती है ,उसकी कलाई में राखी बांधती है और उसकी आरती उतारती है तथा उसे मिठाई खिलाती है। भाई बहन को उपहार देता है। भाई दूर हो तो भी इस अवसर पर बहन के घर आकर राखी बंधवाता है। सामान्यतः बहनें ही अपने भाई को राखी बांधती हैं।

यह राखी कच्चे सूत से लेकर रेशमी धागे, चांदी और सोने की भी होती हैं, पर इससे राखी का महत्व (Importance) नहीं कम हो जाता। राखी अनमोल है और स्नेह का यह धागा कच्चे सूत अथवा सोने-चांदी का होने से अपना मूल्य नहीं खोता। रक्षा बंधन स्नेह, प्रेम और परंपराओं की रक्षा का पर्व है। यह भावनाओं और संवेदनाओं से जुड़ा पर्व है। राखी के धागों का जो भाव है, वह जिस विचार के प्रतीक हैं वे भाव जीवन को बहुत ऊंचा बनाने वाले होते है। रक्षाबंधन का यह पावन पर्व सभी भाई-बहनों के लिए मंगलमय हो…।

रक्षा बंधन को लेकर कई कहानियां हैं पर उनमें राजा बलि की कहानी अधिक प्रसिद्ध है। सौ यज्ञ पूर्ण कर लेने पर दानवेन्द्र राजा बलि के मन में स्वर्ग का प्राप्ति की इच्छा बलवती हो गई तो इंद्र का सिंहासन डोलने लगा। इन्द्र आदि देवताओं ने भगवान विष्णु से रक्षा की प्रार्थना की। भगवान ने वामन अवतार लेकर ब्राह्मण का वेष धारण कर लिया और राजा बलि से भिक्षा मांगने पहुंच गए। उन्होंने बलि से तीन पग भूमि भिक्षा में मांग ली। बलि के गुरु शुक्रदेव ने ब्राह्मण रूप धारण किए हुए विष्णु को पहचान लिया और बलि को इस बारे में सावधान किया किंतु दानवेन्द्र राजा बलि अपने वचन से न फिरे और तीन पग भूमि दान कर दी। वामन रूप में भगवान ने एक पग में स्वर्ग और दूसरे पग में पृथ्वी को नाप लिया। तीसरा पैर कहां रखें? बलि के सामने संकट उत्पन्न हो गया। यदि वह अपना वचन नहीं निभाता तो अधर्म होता। आखिरकार उसने अपना सिर भगवान के आगे कर दिया और कहा तीसरा पग आप मेरे सिर पर रख दीजिए। वामन भगवान ने वैसा ही किया। पैर रखते ही वह रसातल लोक में पहुंच गया। जब बलि रसातल में चला गया तब बलि ने अपनी भक्ति के बल से भगवान को रात-दिन अपने सामने रहने का वचन ले लिया और भगवान विष्णु को उनका द्वारपाल बनना पड़ा। लक्ष्मी जी ने सोचा कि यदि स्वामी रसातल में द्वारपाल बन कर निवास करेंगे तो बैकुंठ लोक का क्या होगा? इस समस्या के समाधान के लिए नारद जी ने एक उपाय सुझाया। लक्ष्मी जी ने राजा बलि के पास जाकर उसे रक्षाबन्धन बांधकर अपना भाई बनाया और उपहार स्वरूप अपने पति भगवान विष्णु को अपने साथ ले आईं। उस दिन श्रावण मास की पूर्णिमा तिथि थी तब से इसी तिथि को रक्षा-बंधन मनाया जाने लगा।

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Shimla में झमाझम बरसे मेघ, अगले तीन दिन भारी बारिश और अंधड़ की चेतावनी जारी

कोरोना अपडेटः हिमाचल में कम हो रहे Active case, आज 6 जिलों में 27 हुए ठीक

Mukesh ने लाहुल स्पीति में महिलाओं पर मामला दर्ज करने पर घेरी जयराम सरकार

J&K: SSB के जवान ने हिमाचल के कांगड़ा निवासी अफसर को मारी गोली; फिर खुद भी कर लिया सुसाइड

हिमाचल में B.Ed करने के इच्छुकों के लिए राहत देने वाली है ये रपट, क्लिक करें

Himachal में क्या बनेंगी नई पंचायतें या पहले की तरह रहेगी स्थिति- जानिए

अमेरिका ने भारत को तिब्बती धर्म गुरू Dalai Lama की मेजबानी के लिए किया धन्यवाद

Rathore का वार- मजबूती से पक्ष नहीं रख पाई जयराम सरकार, केंद्र के दबाव में खोली सीमाएं

Rajendra Rana ने क्यों कर डाला Anurag Thakur का खुले मन से स्वागत, गंभीर है मसला जानें

UGC के निर्देश : सितंबर के अंत तक करवानी होंगी UG Final Semester की परीक्षाएं, और भी बहुत कुछ, जानें

Medical College Nahan की महिला डॉक्टर चंडीगढ़ में Corona positive

Himachal के किन्नौर जिला में भूकंप के झटके, 3.2 रही तीव्रता

India के अरुणाचल में हिली धरती, Singapore और Indonesia में भी भूकंप के झटके

कोरोना ब्रेकिंगः Solan में बाप के बाद बेटा भी संक्रमित, ऊना में SBI कर्मी पॉजिटिव

High Court के आदेश, स्वास्थ्य निदेशक डॉक्टरों को बताएं पढ़ने योग्य भाषा में लिखें MLC

loading...
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

HRD मंत्री का ऐलान: CBSE कक्षा 9 से 12वीं तक के सिलेबस को 30% तक करेगा कम

हिमाचल में B.Ed करने के इच्छुकों के लिए राहत देने वाली है ये रपट, क्लिक करें

UGC के निर्देश : सितंबर के अंत तक करवानी होंगी UG Final Semester की परीक्षाएं, और भी बहुत कुछ, जानें

Kendriya Vidyalaya: फेल नहीं होंगे 9वीं-11वीं के छात्र; बिना परीक्षा के प्रोजेक्ट वर्क के जरिए होंगे प्रोमोट

हिमाचल के स्कूलों में Morning Prayer सभा एक जैसी हो, शिक्षा बोर्ड कर रहा तैयारी

SOS अगस्त व सितंबर की परीक्षाओं के ऑनलाइन पंजीकरण की तिथियां घोषित

CBSE ने टीचर्स के लिए शुरू किए Online कोर्स: यहां देखें डीटेल्स

Himachal में अध्यापकों को 12 तक छुट्टियां; 13 से होगी Online पढ़ाई शुरू

HPU सहित प्रदेश के 17 Colleges को मिलेगा कुल 27 करोड़ का ग्रांट; जानें किसके हिस्से में कितना

HPBOSE: SOS का 10वीं व 8वीं कक्षा का Result Out, दसवीं में  32.07 फीसदी हुए पास

15 जुलाई तक जारी होंगे CBSE- ICSE के नतीजे, असेसमेंट स्कीम को Supreme Court की मंजूरी

NCERT: स्कूलों के लिए अब आएगा नया सिलेबस; 15 साल बाद सरकार ने दिया ये आदेश

CBSE 10वीं की परीक्षा रद्द, 12वीं को दो ऑप्शन!, ICSE बोर्ड भी बोला- रद्द करने के लिए सहमत

Himachal में पहली जुलाई से नहीं खुलेंगे School, शिक्षा मंत्री बोले - केंद्र की गाइडलाइन का करेंगे इंतजार

हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने D.EL.ED CET- 2020 की आवेदन तिथि बढ़ाई


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है