Covid-19 Update

393
मामले (हिमाचल)
189
मरीज ठीक हुए
05
मौत
2,36,657
मामले (भारत)
67,34,088
मामले (दुनिया)

मार्गी चाल छोड़ आज से वक्री हुए शनिदेव, 5 राशियों पर पड़ेगा बुरा प्रभाव, जानिए क्या करें उपाय

जन्मकुंडली में शनि अशुभ भाव में हैं तो आप पर टूटने वाला है दुखों का पहाड़

मार्गी चाल छोड़ आज से वक्री हुए शनिदेव, 5 राशियों पर पड़ेगा बुरा प्रभाव, जानिए क्या करें उपाय

- Advertisement -

शनि न्याय के देवता हैं। जब वे वक्री होते हैं तो वे अपना अशुभ प्रभाव सबसे पहले उन राशियों पर डालते हैं जिन पर साढ़ेसाती या ढैय्या चल रही होती है। यदि आपकी जन्मकुंडली में शनि अशुभ भाव में हैं तो आप पर दुखों का पहाड़ टूटने वाला है। अगर शनि शुभ भाव में हैं तो कोई भी आपका अमंगल नहीं कर सकता। शनिदेव 11 मई, 2020 यानी आज से अपनी मार्गी चाल को छोड़ कर वक्री होने जा रहे हैं। 142 दिनों तक यानि 29 सितंबर तक वे इसी अवस्था में रहेंगे तत्पश्चात वे फिर से मार्गी हो जाएंगे। शनि देव, सोमवार, 11 मई को सुबह के 9 बजकर 27 मिनट से वक्री हो जाएंगे और फिर बुधवार, 29 सितंबर, 2020 को 10 बजकर 30 मिनट से फिर से मार्गी हो जाएंगे।


ज्योतिषाचार्य पंडित दयानंद शास्त्री के मतानुसार शनि की ये बदलती चाल आम जनमानस की तनाव बढ़ाने वाली साबित होगी। आमतौर पर शनि एक राशि में लगभग ढाई वर्षों तक वास करते हैं। 24 जनवरी, 2020 को शनि ने धनु से मकर राशि में प्रवेश किया था। जब शनि वक्री अवस्था में आते हैं तो बहुत कष्ट दुख देते हैं। जिन राशियों पर शनि की नज़र होती है, उनको बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसा भी कहा जा सकता है की उनके जीवन से सुख-शांति सदा के लिए समाप्त हो जाती है। 11 मई, 2020 को शनि अपनी राशि मकर में वक्री हो जाएंगे। इसके बाद 13 मई को शुक्र और फिर 14 मई को बृहस्पति भी वक्री हो रहे हैं। इसके अलावा, 18 जून को बुध उलटी चाल से चलने लगेंगे। गौरतलब है कि 18 जून से 25 जून के बीच ये चारों ग्रह एक ही समय पर प्रतिगामी यानी वक्र रहेंगे। ग्रहों की यह स्थिति 15 जुलाई तक कालपुरुष कुंडली में बने काल सर्प दोष के साथ परस्पर व्याप्त होती है जिसका परिणाम चिंताजनक हो सकता है।

जानें और समझें प्रतिगामी शनि के परिणाम

प्रतिगामी शनि उन कार्यों को आगे बढ़ाने के लिए शक्ति प्रदान करते है जिन्हें अतीत में अधूरा छोड़ दिया गया था। शनि भारत की कुंडली में नौवें और दसवें भाव के स्वामी हैं, अर्थात योगकारक ग्रह हैं। शनि 11 मई से 29 सितंबर 2020 तक मकर राशि में वक्री रहेंगे जो भारत की कुंडली के नौवें भाव में है। भारतीय पंचाग गणना अनुसार 11 मई से शनि वक्री होगे। आगामी 143 दिनों तक वक्री रहकर गोचर में पर प्रभाव देंगे। न्याय के देवता है जातक के कर्मों के मुताबिक राजा और रंक बनाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ते।

इन 5 राशियों पर है शनि का अशुभ प्रभाव –

ज्योतिषशास्त्र में शनि को न्याय का कारक ग्रह माना गया है। शनि के वक्री होने का सबसे ज्यादा असर उन राशि के जातकों पर पड़ेगा जिन राशि पर शनि की साढ़ेसाती या ढैय्या चल रही होगी। अगर आपकी कुंडली में शनि अशुभ भाव में बैठा है तब आपको इसका कष्ट देखने को मिलेगा वहीं अगर आपकी कुंडली में शनि शुभ भाव में है तो आपको इसका अशुभ असर देखने को नहीं मिलेगा। वर्तमान दौर में धनु, मकर और कुंभ राशियों पर शनि की साढ़ेसाती चल रही है। वहीं 2 अन्य राशि मिथुन और तुला पर शनि की ढैय्या चल रही है। ऐसे में शनि के वक्री होने पर कुल पांच राशियों पर सबसे ज्यादा असर देखने को मिलेगा। अन्य 7 राशियों के जातकों को घबराने की अवश्यकता नहीं है।

वक्री शनि को बली बनाने के इन उपायों से होगा लाभ –

शक्तिशाली है ये मन्त्र – कर्मफलदाता शनि देव को प्रसन्न करने के लिए शनि मंत्र सबसे अधिक प्रभावशाली माना जाता है। शनि की साढ़ेसाती हो या फिर ढैया सबके लिए शनि-मंत्र रामबाण उपाय है।

शनिवार का दिन शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए अत्यंत शुभ दिन होता है। शनि दोष से मुक्ति पाने के लिए शास्त्रों में बहुत सारे उपाय बताए गए हैं लेकिन जो शक्ति शनि मंत्र है वह अन्य किसी उपाय में नहीं है। शनिदेव को खुश करने के लिए शनिवार को सूर्योदय से पहले जगकर पीपल की पूजा करने से शनिदेव खुश होते हैं। शनिवार को पीपल के पेड़ में सरसों का तेल चढ़ाने से शनि देव अति प्रसन्न होते हैं। शनिवार को संध्याकाल में इन मंत्रों का जाप करने से शनि का प्रकोप शांत होता है। साथ ही शनिदेव को इस मंत्र से पूजा करने से जो भी शनि की महादशा भी खत्म होती है।

शनि स्तोत्र : शनि के इस स्तोत्र का पाठ करने से शनि के सभी दोषों से मुक्ति मिलती है। शास्त्रों में ऐसा वर्णन है कि शनि देव को प्रसन्न करने के लिए इससे बेहतर कोई स्तोत्र नहीं है। इस स्तोत्र का कम से कम 11 बार पाठ करना चाहिए।

नमस्ते कोणसंस्थाय पिडगलाय नमोस्तुते।
नमस्ते बभ्रुरूपाय कृष्णाय च नमोस्तु ते।।
नमस्ते रौद्रदेहाय नमस्ते चान्तकाय च।
नमस्ते यमसंज्ञाय नमस्ते सौरये विभो।।
नमस्ते यंमदसंज्ञाय शनैश्वर नमोस्तुते।
प्रसादं कुरू देवेश दीनस्य प्रणतस्य च।।

वैदिक शनि मंत्र : ” ऊँ शन्नोदेवीर भिष्टयऽआपो भवन्तु पीतये शंय्योर भिस्त्रवन्तुन : ”

पौराणिक शनि मंत्र :

“ऊँ ह्रिं नीलांजनसमाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम।
छाया मार्तण्डसम्भूतं तं नमामि शनैश्चरम्।।”

शनि महाग्रह मन्त्र : ॐ नमोऽहते भगवते श्रीमते मुनि सुव्रततीर्थ कराय बरुणयक्ष बहुरु-पिणीयक्षी सहिताय ॐ आं क्रों ह्रीं ह्रः शनिमहाग्रह मम दुष्टग्रह रोगकष्ट निवारण सर्व शांति च कुरू कुरू हूं फट् ।। इस मन्त्र का जप 33 हजार करने का विधान दिया गया है।

शनि व्रत :

शनिवार का व्रत किसी भी माह के शुक्ल पक्ष के प्रथम शनिवार से प्रारंभ करे और 19, 31 या 41 शनिवार तक करे। शनिवार के दिन प्रात: स्नान आदि करके काले रंग की बनियान धारण करें और सरसों के तेल का दान करे तथा तांबे के कलश मे जल, थोडे काले तिल​, लोंग​, दुध, शक्कर, आदि डाल के पीपल अथवा खेजडी के वृक्ष के दर्शन करते हुए पश्चिम दिशा कि तरफ़ मुख रखते हुये जल प्रदान करें तथा “ॐ प्रां प्रीं प्रों स​: शनैश्चराय नम​: ” इस बिज मंत्र का यथाशक्ति जाप करें। इस दिन भोजन में उडद दाल एवं केले और तेल के पदार्थ बनाएं।

भोजन से पूर्व भोजन का कुछ भाग काले कुत्ते या भिखारी को दें उसके बाद प्रथम 7 ग्रास उपरोक्त पदार्थ ग्रहण करें बाद में अन्य पदार्थ ग्रहण करें। अंतिम शनिवार को हवन क्रिया के पश्चात यथाशक्ति तील, छ्त्री, जुता, कम्बल​, नीला-काला वस्त्र​, आदि वस्तुओ का दान निर्धन व्यक्ति को करें। व्रत के दिन जल, सभी प्रकार के फल, दूध एवं दूध से बने पदार्थ या औषध सेवन करने से व्रत नष्ट नहीं होता है। व्रत के दिन एक बार भी पान खाने से, दिन के समय सोने से, स्त्री रति प्रसंग आदि से व्रत नष्ट होता है।

  • प्रत्येक शनिवार को शनि देव का उपवास रखें।
  • शाम को पीपल के वृक्ष में जल चढ़ाएं और सरसों के तेल का दीपक जलाएं।
  • शनि के बीज मंत्र ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः का 108 बार जाप करें।
  • काले या नीले रंग के वस्त्र धारण करें।
  • गरीबों को अन्न-वस्त्र दान करें।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Big Breaking: दिल्ली से लौटा चालक निकला Corona Positive ,ज्वालामुखी से रखता है ताल्लुक

First Hand: ऑरेंज अलर्ट के बीच राजधानी Shimla में धराशायी हुई 6 मंजिला बिल्डिंग

MP में राजनीतिक घमासान के बीच Jyotiraditya Scindia ने ट्विटर प्रोफाइल से हटाया BJP,अटकलें तेज

हिमाचल में आठ से नहीं खुलेंगे Hotel, होटलियर्स ने कह दी है बड़ी बात

India-China Border Dispute: चुशूल के लिए रवाना हुए भारतीय सैन्य अधिकारी , कुछ देर में होगी बैठक

Pakistan के पूर्व Home Minister पर अमेरिकी पत्रकार ने लगाया Rape का आरोप

Corona ने तोड़ा रिकार्डः देश में 24 घंटे में सबसे ज्यादा मौतें, दुनिया में छठे नंबर पर पहुंचा India

बड़ी चूकः Bus में सिरमौर अपने गांव पहुंच गया युवक, हरियाणा के नारायणगढ़ में निकला Positive

Corona Update: हिमाचल में 8 माह की मासूम सहित आज 10 पॉजिटिव, दस ही मरीज हुए ठीक

मौसम : Shimla सहित प्रदेश के कई हिस्सों में बारिश-ओलावृष्टि ने मचाई तबाही, पहाड़ों पर बर्फबारी

ब्रेकिंगः Himachal में वेंटिलेटर खरीद को लेकर आए गुमनाम पत्र मामले में FIR

Dalai Lama की उपस्थिति में उनके निवास स्थान में Buddha Purnima पर बोधिचित्त समारोह आयोजित

Kangra में बेटे के बाद माता और पिता भी निकले Corona पॉजिटिव, दो मरीज हुए ठीक

Jai Ram बोले- बेमिसाल रहा Modi सरकार का एक वर्ष का कार्यकाल, और मजबूत हुआ भारत

हिमाचल में भी आठ से मंदिर-मस्जिद, Hotel-Restaurant खोलने की तैयारी, और भी बहुत कुछ

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

स्कूली छात्र-छात्राओं को अटल स्कूल वर्दी योजना के तहत School Bags की खरीद को मंजूरी

Breaking: एसओएस की 10वीं व जमा दो कक्षा के प्रैक्टिकल की Datesheet जारी,  यहां पर पढ़ें पूरी खबर

निजी स्कूलों को राहत,पहली जून से ले सकेंगे Fees, नहीं लगेगा कोई जुर्माना

Breaking: लॉकडाउन के बीच हिमाचल के Schools में 15 जून तक छुट्टियां घोषित, ये रहा अहम कारण

ब्रेकिंगः 12वीं Geography और 10वीं वाद्य संगीत व गृह विज्ञान परीक्षा की तिथि घोषित

लाॅकडाउन के बीच Employment का मौका, Himachal में एक कंपनी भरने जा रही है 800 से ज्यादा पद

CBSE: 15,000 से अधिक सेंटरों में आयोजित होंगी 10वीं-12वीं की बची हुई परीक्षाएं, जानिए डिटेल

ICSE की 10वीं और ISC की 12वीं की बची हुई परीक्षाएं 1 जुलाई से 14 जुलाई तक

CBSE: अपने ही स्कूलों में बचे हुए सब्जेक्ट्स के Exam देंगे छात्र; जानें कब आएगा रिजल्ट

D.EL.ED CET- 2020 की तिथि घोषित, 21 मई से करें ऑनलाइन आवेदन

सरकार के आदेशों का कड़ाई से पालन करें Private School वरना होगी कड़ी कार्रवाई

CBSE: 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षाओं में स्‍टूडेंट्स को पहनना होगा Mask; जानिए नए निर्देश

CBSE ने जारी की 10वीं-12वीं की Pending Exams की डेटशीट, जाने कब शुरू होंगे पेपर

12वीं Geography, कंप्यूटर साइंस और वोकेशनल परीक्षा को लेकर Board का बड़ा फैसला-जानिए

अर्धवार्षिक व प्री बोर्ड परीक्षाओं में प्राप्त अंकों के आधार पर मिलेंगे Practical के अंक


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है