बुद्धि के अधिष्ठाता सूर्य देव, विद्यार्थी प्रतिदिन दें अर्घ्य

बुद्धि के अधिष्ठाता सूर्य देव, विद्यार्थी प्रतिदिन दें अर्घ्य

- Advertisement -

सूर्य एक शक्ति है। भारत में तो सदियों से सूर्य की पूजा होती आ रही है। सूर्य (Surya) तेज और स्वास्थ्य के दाता माने जाते हैं। यही कारण है कि विभिन्न जाति, धर्म एवं सम्प्रदाय के लोग दैवी शक्ति के रूप में सूर्य की उपासना (Worship) करते हैं। सूर्य प्रत्यक्ष देवता है, संपूर्ण जगत के नेत्र हैं। इन्ही के द्वारा दिन और रात का सृजन होता है। इनसे अधिक निरंतर साथ रहने वाला और कोई देवता नहीं है। इन्ही के उदय होने पर संपूर्ण जगत का उदय होता है और इन्ही के अस्त होने पर समस्त जगत सो जाता है।


यह भी पढ़ें : भूल कर भी न पहने ये दो रत्न एक साथ, होगा बड़ा नुकसान

 

  • सूर्य बुद्धि के अधिष्ठाता देव हैं। विद्यार्थियों (Students) को प्रतिदिन स्नानादि से निवृत्त होकर एक लोटा जल सूर्यदेव को अर्घ्य देना चाहिए।
  • अर्घ्य देते समय इस बीजमंत्र का उच्चारण करना चाहिए – ॐ ह्रां ह्रीं ह्रों सः सूर्याय नमः।
  • सूर्य के उगने पर लोग अपने घरों के किवाड़ खोल कर आने वाले का स्वागत (Welcome) करते हैं और अस्त होने पर अपने घरों के किवाड़ बंद कर लेते हैं। सूर्य ही कालचक्र के प्रणेता है। सूर्य की किरणों में समस्त रोगों को नष्ट करने की क्षमता विद्यमान है। सूर्य की प्रकाश-रश्मियों के द्वारा हृदय की दुर्बलता एवं हृदय रोग मिटते हैं। स्वास्थ्य, बलिष्ठता, रोगमुक्ति एवं आध्यात्मिक उन्नति के लिए सूर्योपासना करनी ही चाहिए। सूर्य नियमितता, तेज एवं प्रकाश के प्रतीक हैं। उनकी किरणें समस्त विश्व में जीवन का संचार करती हैं। भगवान सूर्य नारायण सतत् प्रकाशित रहते हैं। वे अपने कर्तव्य पालन में एक क्षण के लिए भी प्रमाद नहीं करते, कभी अपने कर्त्तव्य से विमुख नहीं होते।
  • प्रत्येक मनुष्य में भी इन सदगुणों का विकास होना चाहिए। नियमतता, लगन, परिश्रम एवं दृढ़ निश्चय द्वारा ही मनुष्य जीवन में सफल हो सकता है तथा कठिन परिस्थितियों (Difficult circumstances) के बीच भी अपने लक्ष्य तक पहुंच सकता है।
  • इस प्रकार मंत्रोच्चारण के साथ जल देने से तेज एवं बौद्धिक बल (Intellectual force) की प्राप्ति होती है। रविवार (Sunday) को प्रात: स्नान कर सूर्य की प्रतिमा या तस्वीर की कुमकुम, अक्षत, फूल अर्पित कर धूप और दीप से आरती करें, सूर्यदेव को अर्घ्य दें और यथाशक्ति इस मंत्र का जप करें –

ॐ भास्कराय विद्महे, महातेजाय धीमहि
तन्नो सूर्य: प्रचोदयात्।।

 

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट के CJ समेत 4 जज की हुई सुप्रीम कोर्ट में नियुक्ति, सोमवार को लेंगे शपथ

एचपीयू ने स्नातक प्रथम वर्ष में फेल हुए 21 हजार विद्यार्थियों को दी राहत, ले सकेंगे दाखिला

युवा कांग्रेस ने सुधीर को दी प्यार भरी सलाह,अपने "उपचुनाव" की करो तैयारी

रामलाल ठाकुर के जख्म हुए हरे, एचपीसीए को लेकर उठाए अब ये सवाल

सत्ती बोले, "सुधीर की हरकतें" बता रही हैं कांग्रेस का हाल

रिजल्ट अपग्रेड नहीं किया तो एनएसयूआई सड़कों पर करेगी आंदोलन

इस दिन होगी टैट की परीक्षाएं, शिक्षा बोर्ड ने जारी किया शैड्यूल  

पूजा के धूप से मैकेनिक की दुकान में लगी आग, दो युवक झुलसे

नाहन: अवैध कब्जों पर ताबड़तोड़ कार्रवाई, तीसरे दिन भी टूटे कई आशियानें

वीरभद्र सिंह की हालत स्थिर, पूरी तरह से स्वस्थ होने में लगेंगे कुछ दिन

सुंदरनगर: कलखर में खाई में लुढ़की कार, पेड़ से अटकी

सोलन में बोले भागवत- संघ कर्म के जरिए लोगों को धर्म से जोड़ने का काम करता है

Video: उपचुनाव से पहले "सुधीर को धर्मशाला में युवा कांग्रेस का अडंगा," फ्लॉप करने का आरोप

औंधे मुंह गिर रहे सेब के दामों के बारे में भी सोचें सरकारः सिंघा

सुधीर की रैली से निगम पार्षदों का किनारा, युवा कांग्रेस पर उठाए सवाल

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है