Covid-19 Update

3150
मामले (हिमाचल)
1958
मरीज ठीक हुए
12
मौत
2,085,124
मामले (भारत)
19,392,370
मामले (दुनिया)

रक्षाबंधन मनाने को लेकर प्रचलित हैं ये कहानियां, जरा आप भी डालिए नजर

रक्षाबंधन मनाने को लेकर प्रचलित हैं ये कहानियां, जरा आप भी डालिए नजर

- Advertisement -

रक्षाबंधन का त्योहार भाई-बहन के लिए बेहद खास होता है। इस पवित्र दिन सभी बहनें अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधती हैं, उन्हें मिठाई खिलाकर उनका मुंह मीठा करती हैं और अपनी रक्षा का वचन लेती हैं। कहा जा सकता है कि यह भाई-बहन के पवित्र रिश्ते को और गहरा करने वाला पर्व (festival) है। एक ओर जहां भाई-बहन के प्रति अपने दायित्व निभाने का वचन बहन को देता है तो दूसरी ओर बहन भी भाई की लंबी उम्र के लिये उपवास रखती है। इस दिन भाई की कलाई पर जो राखी बहन बांधती है वह सिर्फ रेशम की डोर या धागा मात्र नहीं होती बल्कि वह बहन-भाई के अटूट और पवित्र प्रेम का बंधन और रक्षा पोटली जैसी शक्ति भी उस साधारण से नजर आने वाले धागे में निहित होती है। रक्षाबंधन का त्योहार (Rakshabandhan festival) मनाने के पीछे कई कहानियां प्रचलित हैं जिनके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं …


यह भी पढ़ें :- इस बार रक्षाबंधन पर रहेगा 12 घंटों का शुभ मुहूर्त

बहुत समय पहले की बाद है देवताओं और असुरों में युद्ध छिड़ा हुआ था लगातार 12 साल तक युद्ध चलता रहा और अंतत: असुरों ने देवताओं पर विजय प्राप्त कर देवराज इंद्र के सिंहासन सहित तीनों लोकों को जीत लिया। इसके बाद इंद्र देवताओं के गुरु, ग्रह बृहस्पति के पास के गए और सलाह मांगी। बृहस्पति ने इन्हें मंत्रोच्चारण के साथ रक्षा विधान करने को कहा। श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन गुरु बृहस्पति ने रक्षा विधान संस्कार आरंभ किया। इस रक्षा विधान के दौरान मंत्रोच्चारण से रक्षा पोटली को मजबूत किया गया। पूजा के बाद इस पोटली को देवराज इंद्र की पत्नी शचि जिन्हें इंद्राणी भी कहा जाता है ने इस रक्षा पोटली को देवराज इंद्र के दाहिने हाथ पर बांधा। इसकी ताकत से ही देवराज इंद्र असुरों को हराने और अपना खोया राज्य वापस पाने में कामयाब हुए।

राखी से जुड़ी एक सुंदर घटना का उल्लेख महाभारत में मिलता है। सुंदर इसलिए क्योंकि यह घटना दर्शाती है कि भाई-बहन के स्नेह के लिए उनका सगा होना जरूरी नहीं है। कथा है कि जब युधिष्ठिर इंद्रप्रस्थ में राजसूय यज्ञ कर रहे थे उस समय सभा में शिशुपाल भी मौजूद था। शिशुपाल ने भगवान श्रीकृष्ण का अपमान किया तो श्रीकृष्ण ने अपने सुदर्शन चक्र से उसका वध कर दिया। लौटते हुए सुदर्शन चक्र से भगवान की छोटी उंगली थोड़ी कट गई और रक्त बहने लगा। यह देख द्रौपदी आगे आईं और उन्होंने अपनी साड़ी का पल्लू फाड़कर श्रीकृष्ण की उंगली पर लपेट दिया। इसी समय श्रीकृष्ण ने द्रौपदी को वचन दिया कि वह एक-एक धागे का ऋण चुकाएंगे। इसके बाद जब कौरवों ने द्रौपदी का चीरहरण करने का प्रयास किया तो श्रीकृष्ण ने चीर बढ़ाकर द्रौपदी के चीर की लाज रखी। कहते हैं जिस दिन द्रौपदी ने श्रीकृष्ण की कलाई में साड़ी का पल्लू बांधा था वह श्रावण पूर्णिमा की दिन था।

यह भी पढ़ें :-यहां नहीं मनाया जाता रक्षाबंधन का त्योहार, 700 साल से चल रही परंपरा


राखी की एक अन्य कथा है कि पांडवों को महाभारत का युद्ध जिताने में रक्षासूत्र का बड़ा योगदान था। महाभारत युद्ध के दौरान युधिष्ठिर ने भगवान कृष्ण से पूछा कि हे कान्हा, मैं कैसे सभी संकटों से पार पा सकता हूं? मुझे कोई उपाय बतलाएं। तब श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर से कहा कि वह अपने सभी सैनिकों को रक्षासूत्र बांधें। इससे उनकी विजय सुनिश्चित होगी। युधिष्ठिर ने ऐसा ही किया और विजयी बने। यह घटना भी सावन महीने की पूर्णिमा तिथि पर ही घटित हुई मानी जाती है। तब से इस दिन पवित्र रक्षासूत्र बांधा जाता है। इसलिए सैनिकों को इसदिन राखी बांधी जाती है।


भविष्य पुराण में एक कथा है कि वृत्रासुर से युद्ध में देवराज इंद्र की रक्षा के लिए इंद्राणी शची ने अपने तपोबल से एक रक्षासूत्र तैयार किया और श्रावण पूर्णिमा के दिन इंद्र की कलाई में बांध दी। इस रक्षासूत्र ने देवराज की रक्षा की और वह युद्ध में विजयी हुए। यह घटना भी सतयुग में हुई थी।

एक अन्य कहानी के अनुसार सिकंदर पूरे विश्व को फतह करने निकला और भारत आ पहुंचा। यहां उसका सामना भारतीय राजा पुरु से हुआ। राजा पुरु बहुत वीर और बलशाली राजा थे, उन्होंने युद्ध में सिकंदर को धूल चटा दी। इसी दौरान सिकंदर की पत्नी को भारतीय त्योहार रक्षाबंधन के बारे में पता चला। तब उन्होंने अपने पति सिकंदर की जान बख्शने के लिए राजा पुरु को राखी भेजी। पुरु आश्चर्य में पड़ गए, लेकिन राखी के धागों का सम्मान करते हुए उन्होंने युद्ध के दौरान जब सिकंदर पर वार करने के लिए अपना हाथ उठाया तो राखी देखकर ठिठक गए और बाद में बंदी बना लिए गए। दूसरी ओर बंदी बने पुरु की कलाई में राखी को देखकर सिकंदर ने भी अपना बड़ा दिल दिखाया और पुरु को उनका राज्य वापस कर दिया।


एक अन्य प्रचलित कथा यह है कि राजा बली बहुत दानी राजा थे और भगवान विष्णु के अनन्य भक्त भी थे। एक बार उन्होंने यज्ञ का आयोजन किया। इसी दौरान उनकी परीक्षा लेने के लिए भगवान विष्णु वामनावतार लेकर आए और दान में राजा बलि से तीन पग भूमि देने के लिए कहा। लेकिन उन्होंने दो पग में ही पूरी पृथ्वी और आकाश नाप लिया। इस पर राजा बलि समझ गए कि भगवान उनकी परीक्षा ले रहे हैं। तीसरे पग के लिए उन्होंने भगवान का पग अपने सिर पर रखवा लिया। फिर उन्होंने भगवान से याचना की कि अब तो मेरा सबकुछ चला ही गया है, प्रभु आप मेरी विनती स्वीकारें और मेरे साथ पाताल में चलकर रहें। भगवान ने भक्त की बात मान ली और बैकुंठ छोड़कर पाताल चले गए। उधर देवी लक्ष्मी परेशान हो गईं। फिर उन्होंने लीला रची और गरीब महिला बनकर राजा बलि के सामने पहुंचीं और राजा बलि को राखी बांधी। बलि ने कहा कि मेरे पास तो आपको देने के लिए कुछ भी नहीं हैं, इस पर देवी लक्ष्मी अपने रूप में आ गईं और बोलीं कि आपके पास तो साक्षात भगवान हैं, मुझे वही चाहिए मैं उन्हें ही लेने आई हूं। इस पर बलि ने भगवान विष्णु को माता लक्ष्मी के साथ जाने दिया। जाते समय भगवान विष्णु ने राजा बलि को वरदान दिया कि वह हर साल चार महीने पाताल में ही निवास करेंगे। यह चार महीना चर्तुमास के रूप में जाना जाता है जो देवशयनी एकादशी से लेकर देवउठानी एकादशी तक होता है।

पंडित दयानंद शास्त्री, उज्जैन (म.प्र.) (ज्योतिष-वास्तु सलाहगाड़ी) 09669290067, 09039390067


हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

कंवर का पलटवार, बोले- कांग्रेसी Mukesh को नेता और Rathore को अध्यक्ष मानने को तैयार नहीं

Anni के राणाबाग में खाई में समाई Car, दो की गई जान

ब्रेकिंगः BJP के एक और नेता निकले कोरोना पॉजिटिव, सुखराम चौधरी के आए थे संपर्क में

Chamba में धड़ोग मोहल्ले में कम्युनिटी ट्रांसमिशन के आसार; एक साथ 40 केस; प्रदेश में अब तक 69 मामले

बिग ब्रेकिंगः Mankotia ने जयराम कैबिनेट के एक मंत्री पर लगाए भूमि सौदे के आरोप

अंधेरे में घर से निकली महिला, परिजनों ने खोजा तो जल शक्ति विभाग के टैंक में मिला शव

अंब में एक उद्योग में लगी Fire, लाखों का जल गया सामान

कोविड-19 के प्रकोप के बीच Himachal की आर्थिकी को तीस हजार करोड़ का हुआ नुकसान

Himachal में फिर बिगड़ेगा मौसम, इस दिन भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी

ब्रेकिंगः HPPSC ने इन पदों के Personality Test की तिथि की घोषित

जयराम बोले, Mission Repeat को सुनिश्चित बनाने के लिए सरकार-संगठन के बीच बेहतर ताल-मेल जरूरी

ऊना विजिलेंस के चार कर्मचारी Corona पॉजिटिव, चिंतपूर्णी मंदिर में तैनात कांगड़ा का होमगार्ड भी संक्रमित

सीएम जयराम की मौजूदगी में  Pawan Rana -Ramesh Dhawala ने साझा किया पार्टी का मंच

Big Breaking: टैट परीक्षाओं का नया शेड्यूल जारी, कौन परीक्षा कब होगी-जानिए

Kullu जिले के इस गांव ने पूरे देश में जमाई धाक, जुड़ी यह बड़ी उपलब्धि

loading...
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

Big Breaking: टैट परीक्षाओं का नया शेड्यूल जारी, कौन परीक्षा कब होगी-जानिए

शिक्षा बोर्ड ने SOS परीक्षाओं के लिए आवेदन तिथि बढ़ाई- जाने नई डेट

कोरोना संकट चलता रहा तो Students को घर पर ही मिल जाएगी वर्दी-बैग

Himachal में यहां मेधावी बेटियों को प्रतियोगी परीक्षाओं की मिलेगी निशुल्क Coaching

Breaking : हिमाचल में अब ई-पीटीएम, अभिभावक रख सकेंगे अपनी बात खुलकर

Covid-19 के चलते HPBOSE ने स्थगित की TET की परीक्षाएं, 2 अगस्त से होनी थी शुरू

9वीं से 12वीं के पाठ्यक्रम में कटौती को कवायद तेज, सरकार को भेजा जाएगा Proposal

Himachal में संस्कृत विश्वविद्यालय के लिए चिन्हित की जा रही जमीन

HPU ने यूजी के छात्रों को दी राहत, घर के नजदीक कॉलेजों में दे सकेंगे परीक्षा

TGT के इन 89 पदों पर होगी बैचवाइज भर्ती, दुर्गम और दूरदराज क्षेत्रों में मिलेगी तैनाती

इस दिन से शुरू होंगी यूजी अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएं, HPU ने जारी की डेटशीट

HPBOSE ने D.El.Ed CET परीक्षा की Answer Key दोबारा की अपलोड

बड़ी खबरः JBT और शास्त्री टैट की परीक्षा को लेकर बोर्ड का बड़ा फैसला

SOS जमा दो का रिजल्ट आउट, 10वीं और 12वीं के नियमित छात्रों को भी राहत

HPBOSE: टैट की परीक्षा के लिए Admit Card जारी, ऐसे करें डाउनलोड


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है