शादी में आ रही है अड़चन तो गुरुवार को करें ये खास उपाय

शादी में आ रही है अड़चन तो गुरुवार को करें ये खास उपाय

- Advertisement -

भगवान बृहस्पति सभी देवताओं के गुरु हैं, कैसी भी समस्या हो ये सभी का समाधान करते हैं। अगर आपकी कुंडली में गुरु ग्रह का दोष है जिसके कारण आपकी शादी (Marriage) न होना या अनुकूल स्थितियां होते हुए भी विवाह में समस्या उत्पन्न हो रही है तो गुरुवार (Thursday) का दिन आपके लिए शुभ हो सकता है। गुरु दोष की शांति के लिए गुरुवार को कुछ उपाय करें जिससे आपको अपने काम में सफलता जरूर मिलेगी, क्योंकि गुरुवार का दिन देवताओं के गुरु बृहस्पति (Guru brihaspati) का होता है।

गुरु आपके वैवाहिक और भाग्य का कारक ग्रह है, साथ ही यह दिन साईं बाबा का भी होता है अगर आप उन्हें मानते हैं तो उनकी भी पूजा कर सकते हैं। जानिए ऐसे उपाय के बारे में जिसे गुरुवार के दिन करने से गुरु ग्रह के दोष दूर हो जाएंगे, साथ ही आपको धन-धान्य की प्राप्ति होगी। गुरुवार को भगवान बृहस्पति देव की पूजा का विधान माना गया है। इस दिन पूजा करने से धन, विद्या, पुत्र तथा मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। परिवार मे सुख और शांति का समावेश होता है। ज्योतिषों का मानना है कि जिन जातकों के विवाह में बाधाएं उत्पन्न हो रही हो उन्हें गुरुवार का व्रत करना चाहिए।

यह भी पढ़ें :-कुछ यूं होती है देवी-देवताओं की होली

इस दिन बृहस्पतेश्वर महादेव जी की पूजा करें। दिन में एक समय ही भोजन करें। पीले वस्त्र धारण करें, पीले पुष्पों को धारण करें। भोजन भी चने की दाल का होना चाहिए। नमक नहीं खाना चाहिए। पीले रंग का फूल, चने की दाल, पीले कपड़े और पीले चन्दन से पूजा करनी चाहिए। पूजन के बाद कथा सुननी चाहिए। इस व्रत से बृहस्पति जी खुश होते हैं तथा धन और विद्या का लाभ होता है। यह व्रत महिलाएं आवश्य करें। व्रत मे केले का पूजन होता है।


गुरुवार को करें ये उपाय, मिलेगा हर समस्या से छुटकारा :

गुरु दोष के शांति के लिए गुरुवार को कुछ उपाय करें जिससे आपको अपने काम में सफलता जरूर मिलेगी, क्योंकि गुरुवार का दिन हिंदू धर्म के देवताओं के गुरु ब्रहस्पति देव का होता है। गुरुवार के दिन नहाते वक्त अपने नहाने वाले पानी में एक चुटकी हल्दी डालकर स्नान करें इसके बाद “ऊं नमो भगवते वासुदेवाय” का जप करते हुए केसर का तिलक लगाएं और केले के वृक्ष में जल अर्पित हुए उसकी धूप- दीप से पूजा करें।

गुरुवार को सूर्योदय से पहले उठें। स्नान के बाद भगवान विष्णु के सामने घी का दीपक जलाएं। इसके बाद विष्णु सहस्रनाम का पाठ भी करें। अगर आपकी कुंडली में गुरु का दोष हो तो हर गुरुवार को शिवजी को बेसन के लड्डू का भोग लगाएं। इससे आपको काफी फायदा मिलेगा।

अगर आपने व्रत रखा है तो इस दिन केले के वृक्ष की पूजा करके सत्यनारायण की कथा सुनें।

गुरु से जुड़ी पीली वस्तुओं का दान करें जैसे कि चने की दाल, सोना, हल्दी, आम आदि।

गुरु ब्रहस्पति की मूर्ति या तस्वीर को पीलें रंग के कपड़े पर विराजित करें, साथ ही विधि-विधान से पूजा करें। पूजा में केसरिया चंदन, पीले फूल और प्रसाद में गुड और चनें की दाल चढ़ाएं या इस रंग का कोई पकवान चढ़ाएं।

गुरुवार के दिन लेन देन थोड़ा संभलकर करें और अगर कोई इस दिन धन मांगने आता है तो धन देने से आपका गुरु कमजोर हो जाता है जिससे आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता हैं।

बृहस्पतिवार के द‌िन को लेकर माना जाता है क‌ि इस द‌िन शरीर पर साबुन लगाना, बाल धोना और कटवाना तीनों ही शुभ नहीं होता। इसके पीछे ज्योत‌िषिय और वैज्ञान‌िक दोनों कारण बताए जाते हैं।

ज्योत‌िष के अनुसार मान्यता है क‌ि बृहस्पतिवार का द‌िन देवताओं के गुरु बृहस्पत‌ि को समर्पित है। बृहस्पति देव संतान और ज्ञान
के प्रधान देव हैं। गुरुवार को बाल कटवाने से आर्थिक हानि, संतान कष्ट और ज्ञान क्षीणता होने के आसार होते हैं।

धार्म‌िक दृष्ट‌िकोण से माना जाता है क‌ि बृहस्पतिवार का द‌िन लक्ष्मी नारायण का है इसलिए कहते हैं क‌ि इस द‌िन बाल कटवाने
अथवा धोने से आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

ज्योत‌िष के अनुसार अविवाहितों के ल‌िए गुरुवार को बाल धोना और कटवाना व‌िवाह में बाधाएं उत्पन्न करता है। अमर सुहाग चाहने वाली सुहागन महिलाओं के ल‌िए इस द‌िन बाल धोना अच्छा नहीं माना जाता है।

बृहस्पतिवार को बाल कटवाना ही नहीं शेव‌िंग करवाना भी अच्छा नहीं होता। कहते हैं क‌ि इससे उम्र छोटी होती है।

शनिवार, मंगलवार और गुरुवार के दिन बाल न कटवाने की मान्यता है कि इन तीन दिनों में ग्रहों से कुछ विशिष्ट किरणों का संचार होता है। जो हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होती हैं। मस्तिष्क मानवीय काया का अहम अंग है। मस्तिष्क सिर में होता है और सिर के बीच का भाग बहुत संवेदनशील और कोमल होता है। इसकी सुरक्षा करते हैं हमारे बाल। शनिवार, मंगलवार और गुरुवार के दिनों में विशिष्ट किरणें बालों के सुरक्षा कवच के रूप में मस्तिष्क को कोई नुकसान नहीं पहुंचा पाती। जिससे की इन तीनों दिन बाल कटवाने से इन किरणों का सीधा प्रभाव हमारे सिर पर पड़ेगा। जिससे मस्तिष्क प्रभावित होगा इसलिए इन तीनों दिनों में बालों को न कटवाने का विधान बनाया गया है।

देवगुरु बृहस्पति के तंत्रोक्त मंत्र ना सिर्फ धन और वैभव की दृष्टि से चमत्कारी है बल्कि तुरंत असर करने वाले हैं। जरूरत है इन्हें एक साथ निरंतर जपने की। इन चमत्कारी पांचों मंत्रों की जप संख्या 19 हजार है। आप किसी भी एक गुरु मंत्र का गुरुवार के दिन जप कर सकते हैं …

ॐ बृं बृहस्पतये नमः ||

ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:।

ॐ ऐं श्रीं बृहस्पतये नम:।

ॐ गुं गुरवे नम:।

ॐ क्लीं बृहस्पतये नम:।

 

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है