रक्षाबंधन में इस जगह होता है खूनी खेल, जानिए क्या है इसके पीछे की कहानी

तब तक चलता है खेल जब तक एक आदमी के बराबर खून नहीं बह जाता

रक्षाबंधन में इस जगह होता है खूनी खेल, जानिए क्या है इसके पीछे की कहानी

- Advertisement -

देहरादून। रक्षाबंधन को भाई-बहन के बीच अटूट प्यार का त्योहार माना जाता है, लेकिन उत्तराखंड (Uttarakhand) के एक गांव में इस दिन खून की नदियां बहती हैं। यह एक ऐसा उन्मादी खेल है, जो तब तक चलता है जब तक एक आदमी के बराबर खून नहीं बह जाता। स्थानीय भाषा में अछ्पुत बग्वाल नाम का यह खेल जिला मुख्यालय चंपावत से 40 किलोमीटर दूर दूवीधूरा गांव में मां बाराही देवी के मंदिर के पास खेला जाता है।


ये भी पढ़ें : रक्षाबंधन विशेष : भाई-बहन का पवित्र रिश्ता

बग्वाल का मतलब है पत्थरों से खेला जाने वाला युद्ध। चार खामो और 7 थोक के लोग एक-दूसरे पर निशाना साधकर पत्थर चलाते हैं। मैदान (Ground) के चारों ओर वीर रस से ओतप्रोत गीत बजते हैं। पत्थरों की मार से बचने के लिए लोग अपने हाथ में बांस के फर्रे लिए होते हैं। फिर भी पत्थरों की चोट से लोग घायल होते हैं और खून भी बहता है। यह परंपरा सदियों से चली आ रही है। पत्थरबाज टोलियों को वीर कहा जाता है। एक खेल में एक साथ बहुत से पत्थर चलते हैं जिससे आसपास खड़े तमाशबीन भी बड़ी संख्या में घायल होते हैं।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

भरमौर चौरासी मंदिर में उमड़ा श्रद्धालुओं का सैलाब, बग्गा में जाम ने निकाला पसीना

किसी कंपनी ने नहीं दिखाई चंबा से गौरीकुंड तक हेली टैक्सी सेवा में रूचि

शिक्षा बोर्ड का फरमानः स्कालरशिप से वंचित रह सकते हैं पुर्नमूल्यांकन परिणाम रद्द छात्र

बॉलीवुड की दंगल गर्ल फातिमा सना शेख मैक्लोडगंज में बिता रहीं छुट्टियां

पंचायत में भ्रष्टाचार की शिकायतों का 15 दिन में होगा निपटारा, भरेंगे सचिवों के 300 पद

मानसून सत्रः सभी सीनियर सेकेंडरी स्कूलों में इसी वर्ष स्थापित होंगी आईसीटी लैब

पुलिस हिरासत से भागा चिट्टा तस्कर दबोचा, दो पुलिस कर्मी सस्पेंड

शिक्षा बोर्ड भरेगा जेओए (आईटी) के यह तीन पद, कल से करें ऑनलाइन आवेदन

सत्ती का बड़ा आरोपः खनन के काम में लगे मुकेश के पीए, बहस की दी चुनौती

हिमाचल विधानसभा में अब सवालों के प्रतिवेदनों के कागजी दस्तावेज नहीं मिलेंगे !

मानसून सत्रः ग्रामीण विद्या उपासक व पैट वेतन विसंगति पर यह बोले शिक्षा मंत्री

डीसी से मिलीं पंचायत प्रधानः बोलीं-क्वार्टर आने को कह रहा अधिकारी, नहीं होने दे रहा काम

मानसून सत्रः एनपीएस और पेंशन बढ़ोतरी को लेकर सदन में क्या बोले जयराम-जानिए

राठौर बोले, चिदंबरम की गिरफ्तारी सोची-समझी राजनीतिक रणनीति

तीन घंटे की पूछताछ में चिदंबरम ने नहीं किया सहयोग, कोर्ट में पेशी कुछ देर में

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है