क्यों मनाया जाता है गुड फ्राइडे और ईस्टर संडे, जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर

क्यों मनाया जाता है गुड फ्राइडे और ईस्टर संडे, जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर

- Advertisement -

आज गुड फ्राइडे (Good Friday) है यानी ईसाई धर्म को मानने वाले लोगों के लिए बहुत बड़ा दिन। ये वो दिन है जब ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था। हालांकि वो तीन दिन बाद जिंदा हो उठे थे जिसकी खुशी में ही ईस्टर संडे (Easter Sunday) का जश्न मनाया जाता है। माना जाता है कि प्रभु यीशु ने मानवता की भलाई और रक्षा के लिए अपने जीवन की बलि चढ़ा दी थी। आज भी लोग ईसा मसीह की दी तालीम को याद करते हैं।


यह भी पढ़ें :-ये है दाढ़ी-मूंछ वाले हनुमान जी का मंदिर, पूजा करने दूर-दूर से आते हैं भक्त

 

ईसाई धर्म के मुताबिक ईसा मसीह परमेश्वर के बेटे हैं और वो संसार के लोगों को जागरूक करने आए थे। अज्ञानता के अंधेरे को दूर करने के प्रयासों के कारण ही उन्हें मृत्यु दंड (Death penalty) दिया गया। उस दौर में यहूदियों के कट्टरपंथी रब्बियों अर्थात धर्मगुरुओं ने अपना दबदबा बनाया हुआ था। उन्होंने यीशु का विरोध किया। ऐसी परिस्थिति में जहां कट्टरपंथियों का गहरा प्रभाव था, उन्हें खुश करने के लिए पिलातुस ने यीशु को क्रॉस पर लटकाने और खत्म करने का फरमान सुना दिया। इतने कष्ट के बावजूद यीशु (Jesus) ने सामने नजर आ रही मौत को देखते हुए भी यही कहा था, ‘हे ईश्‍वर! इन्‍हें क्षमा कर क्‍योंकि ये नहीं जानते कि ये क्‍या कर रहे हैं।’ जिस दिन यीशु को क्रॉस पर लटकाने जैसा दर्दनाक काम को अंजाम दिया गया वो दिन शुक्रवार यानी फ्राइडे था। ईसा मसीह के सकारात्मक (positive) रहने और अपने शत्रुओं के लिए भी अच्छा चाहने की वजह से ही उस दिन को गुड फ्राइडे के नाम से जाना जाता है।

ये दिन और भी नामों से है मशहूर धर्म ग्रंथों के अनुसार यीशु को सिर्फ क्रॉस पर लटकाया ही नहीं गया, उन्हें कई तरह से कष्ट पहुंचाए गए थे। ये दिन गुड फ्राइडे के अलावा होली फ्राइडे, ग्रेट फ्राइडे और ब्लैक फ्राइडे (Black friday) के नाम से भी जाना जाता है। ईसाई धर्म के अनुयायियों के घरों में गुड फ्राइडे के 40 दिन पहले से ही प्रार्थना और उपवास शुरू हो जाते हैं। इस व्रत में लोग शाकाहारी भोजन करते हैं। गुड फ्राइडे के मौके पर लोग चर्च जाते हैं और प्रभु यीशु को स्मरण करते हैं, साथ ही उनके द्वारा दी शिक्षा को याद करते हैं। ईस्टर संडे को यीशु के जीवित हो जाने की खुशी में लोग प्रभु भोज में हिस्सा लेते हैं और एक दूसरे को गिफ्ट्स (Gifts) देते हैं।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Like करें हिमाचल अभी अभी का Facebook Page…. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

सरकारी धन के दुरुपयोग मामले में पंचायत प्रधान निलंबित

शिलाई: एसबीआई के एटीएम को तोड़ने का प्रयास, सीसीटीवी की तारें भी काटी

शिमला पहुंचते ही कलराज बोले, कोशिश रहेगी संवैधानिक मर्यादाओं के विपरीत कार्य न हो

मुकेश का वारः हिमाचल में सीमेंट 100 रुपए हुआ महंगा, अब चुप क्यों बीजेपी

शारीरिक शिक्षकों की दो टूकः खाली पद न भरे तो होगा आंदोलन

कांग्रेस के वोट बैंक को लेकर सत्ती चिंतित, कही यह बड़ी बात

सत्ती की दो टूकः किसी भी रूप में दावेदारी जताई तो समझो पहले ही कटा टिकट

हिमाचल में घोटाले का दर्दनाक पहलूः बिना इलाज चली गई रिटायरी की जान

इस मॉनसून ऊना में लगाएं जाएंगे दो लाख पौधे

बिहार के बाद झारखंड में मॉब लिंचिंग : महिला सहित 4 लोगों को पीट-पीटकर मार डाला

चरस के साथ पकड़े दोः एक मणिकर्ण तो दूसरा जा रहा था श्रीखंड यात्रा पर

अमेरिका में इमरान की बेइज्जती : स्वागत के लिए नहीं पहुंचा कोई, मेट्रो से गए होटल

कांग्रेस मुख्यालय पहुंचा शीला दीक्षित का पार्थिव शरीर, अंतिम दर्शन को पहुंचे लोग

100 रुपए बचाने के चक्कर में यहां खुले में फैंका जा रहा कूड़ा

दिल्ली बीजेपी को झटका : पूर्व अध्यक्ष मांगे राम का निधन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है