Covid-19 Update

1182
मामले (हिमाचल)
899
मरीज ठीक हुए
09
मौत
8,47,575
मामले (भारत)
12,724,087
मामले (दुनिया)

शनि जयंती विशेष : कुंडली में बैठे हैं शनि तो जरूर करें इस विधि से पूजा

शनि जयंती विशेष : कुंडली में बैठे हैं शनि तो जरूर करें इस विधि से पूजा

- Advertisement -

शनि जिन्हें कर्मफलदाता माना जाता है, दंडाधिकारी कहा जाता है और न्यायप्रिय माना जाता है। शनि (Shani) अपनी दृष्टि से राजा को भी रंक बना सकते हैं। हिंदू धर्म में शनि देवता भी हैं और नवग्रहों में प्रमुख ग्रह भी जिन्हें ज्योतिषशास्त्र में बहुत अधिक महत्व मिला है। शनिदेव को सूर्य का पुत्र माना जाता है। मान्यता है कि ज्येष्ठ माह की अमावस्या को ही सूर्यदेव एवं छाया (संवर्णा) की संतान के रूप में शनि का जन्म हुआ। शनि जयंती का पर्व हिंदू पंचांग (Hindu Panchang) के ज्येष्ठ के महीने में अमावस्या को मनाया जाता है। इस वर्ष शनि जयंती 22 मई  को मनाई जाएगी।


यह भी पढ़ें :- आभूषण श्रृंगार के साथ सेहत के लिए भी लाभकारी, जानिए कैसे करें इस्तेमाल

 

शनि जयंती का शुभ मुहूर्त–

शनि जयंती अमावस्या तिथि 21 मई की रात 9 बजकर 40 मिनट पर आरंभ हो जा रही है। अमावस्या का समापन 22 मई की रात 10 बजकर 10 मिनट पर हो जाएगी। शनि जयंती पर्व पूजन शुक्रवार को सूर्योदय से सूर्यास्त एवं 22 मई को रात 10 बजे तक किया जाता है।

शनि जयंती पर शनिदेव की पूजा की जाती है। यह उन व्यक्तियों के लिए सबसे ज्यादा खास पर्व होता है जिनकी कुंडली में शनि की साढ़े साती और शनि की ढैय्या चल रही होती है, क्योंकि शनि दोष से पीड़ित व्यक्ति यदि इस दिन पूजा-पाठ (Worship) करता है तो उसे शनि दोष से मुक्ति मिल जाती है। शनि राशिचक्र की दसवीं व ग्यारहवीं राशि मकर और कुंभ के अधिपति है। जहां एक ओर शनि किसी भी राशि में लगभग 10 महीने तक रहते हैं वहीं दूसरी ओर शनि की महादशा का काल 19 साल तक का होता है।

ऐसा कहा जाता है कि शनि एक क्रूर और पाप ग्रह होते हैं और वो अशुभ फल भी देते हैं लेकिन ये भी माना जाता है कि असल जिंदगी में ऐसा नही है क्योंकि शनि न्याय करने वाले देवता हैं और वो कर्म के हिसाब से कर्मफल देने वाले दाता हैं। वे बुरे कर्म करने वाले लोगों को बुरी सजा और अच्छे कर्म करने वाले को अच्छा परिणाम (Good results) देते हैं। भारतीय वैदिक ज्योतिष में शनिदेव को न्याय तथा मृत्यु का देवता माना जाता है। इनका वर्ण काला है यही कारण इनको काला रंग बहुत ही पसंद है। ज्योतिष में इनको तीसरी सप्तम तथा दशम दृष्टि दी गई है।

शनि सबसे धीरे-धीरे चलने वाला ग्रह है। योगी और तपस्वी का जीवन व्यतीत करना इन्हे बहुत ही पसंद है, यही कारण है कि शनि की दशा में व्यक्ति मोक्ष की बात करने लगता है। शनि जयंती के दिन भारत में स्थित प्रमुख शनि मंदिरों में भक्त शनि देव से संबंधित पूजा-पाठ करते हैं तथा शनि पीड़ा से मुक्ति की प्रार्थना करते हैं। इस दिन उपरोक्त मंत्र का जप कम से कम एक माला जरूर करना चाहिए –

ॐ प्रां प्रीं प्रौ स: शनये नमः॥
अथवा
ॐ शं शनैश्चराय नमः।

इस विधि से पूजन कर करें शनिदेव को प्रसन्न

शनिदेव की पूजा भी अन्य देवी-देवताओं के जैसे ही होती है। इनके लिए कुछ अलग नहीं करना होता है। शनि जयंती के दिन उपवास भी रखा जाता है। व्रत वाले दिन सुबह उठने के बाद दैनिक क्रिया कलापों को करके स्नान किया जाता है। जिसके बाद लकड़ी के एक पाट पर साफ-सुथरे काले रंग के कपड़े या नए काले रंग के कपड़े को बिछाकर शनिदेव की प्रतिमा को स्थापित करना चाहिए। अगर शनिदेव की प्रतिमा या तस्वीर आपको पास न हो तो एक सुपारी के दोनों ओर शुद्ध घी व तेल का दीपक और धूप जलाना चाहिए। उसके बाद उस स्वरूप को पंचगव्य, पंचामृत, इत्र आदि से स्नान करवाना चाहिए। सिंदूर, कुमकुम, काजल, अबीर, गुलाल आदि के साथ-साथ नीले या काले फूल शनिदेव को चढ़ाना चाहिए। इमरती व तेल से बने पदार्थों को व श्री फल के साथ-साथ अन्य फल भी आप शनिदेव को चढ़ा सकते हैं। पूजा करने के बाद शनि मंत्र की एक माला का जाप करना चाहिए और फिर शनि चालीसा का पाठ भी करना चाहिए। अंत में शनिदेव की आरती करके पूजा संपन्न करना चाहिए।।

 

यह भी पढ़ें :- सूर्य उदय से पहले छत पर डाल दें ये, घर का हर दुख होगा दूर


इन कर्मों से कर सकते हैं शनि देव को प्रसन्न

 

  • अपने मता पिता, विकलांग तथा वृद्ध व्यक्ति की सेवा और आदर-सम्मान करना चाहिए।
  • हनुमानजी की आराधना करनी चाहिए।
  • दशरथ कृत शनि स्तोत्र का नियमित पाठ करे।
  • कभी भी भिखारी, निर्बल-दुर्बल या अशक्त व्यक्ति को देखकर मज़ाक या परिहास नहीं करना चाहिए।
  • शनिवार के दिन छाया पात्र (तिल का तेल एक कटोरी में लेकर उसमें अपना मुंह देखकर शनि मंदिर में रखना) शनि
  • मंदिर में अर्पण करना चाहिए। तिल के तेल से शनि देव शीघ्र ही प्रसन्न होते है।
  • काली चीजें जैसे काले चने, काले तिल, उड़द की दाल, काले कपड़े आदि का दान सामर्थ्यानुसार नि:स्वार्थ मन से किसी
  • गरीब को करे ऐसा करने से शनिदेव जल्द ही प्रसन्न होकर आपका कल्याण करेंगे।
  • पीपल की जड़ में केसर, चंदन, चावल, फूल मिला पवित्र जल अर्पित करें।
  • शनिवार के दिन तिल का तेल का दीप जलाएं और पूजा करें।
  • सूर्योदय से पूर्व शरीर पर तेल मालिश कर स्नान करें।
  • तेल में बनी खाद्य सामग्री का दान गाय, कुत्ता व भिखारी को करें।
  • शमी का पेड़ घर में लगाए तथा जड़ में जल अर्पण करे।
  • मांस मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए।

शनि देव की पूजा से होने वाले लाभ

 

मानसिक संताप दूर होता है।
घर गृहस्थी में शांति बनी रहती है।
आर्थिक समृद्धि के रास्ते खुल जाते है।
रुका हुआ काम पूरा हो जाता है।
स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या धीरे धीरे समाप्त होने लगती है।
छात्रों को प्रतियोगी परीक्षा में सफलता मिलती है।
राजनेता मंत्री पद प्राप्त करते है।
शारीरिक आआलस्यपन दूर होता है।

पंडित दयानंद शास्त्री, उज्जैन (म.प्र.) (ज्योतिष-वास्तु सलाहकार)

09669290067, 09039390067

 

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें

 

 

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

तो क्या Himachal में फिर थम जाएंगे निजी बसों के पहिए, जानने के लिए पढ़ें खबर

Full and Final Lunch: वीरभद्र के हॉली लॉज से Seniors का किनारा,दूसरी पांत वालों का सहारा

Mandi में गुरुग्राम से लौटी युवती निकली कोरोना पॉजिटिव, ऊना में Migrate मरीजों ने बढ़ाई चिंता

विक्रमादित्य बार-बार जोर देकर बोले, लंच Political नहीं-पारिवारिक मिलन है

पेड़ से लटकी मिली महिला की Deadbody की हुई शिनाख्त, ऋषिकेश की थी रहने वाली

वीरभद्र के हॉली लॉज की चढ़ाई नहीं चढ़ पाए Kaul-Sukhu- बाली, देखें तस्वीरें

कोरोना संकट से निपटने को UP Govt का नया प्लान, Saturday-Sunday बंद रहेंगे बाजार और दफ्तर

अनियंत्रित Car तीन मर्तबा पलटकर घर के आंगन में पहुंची, College lecturer की गई जान

Himachal में अब मंत्री-विधायक नहीं कर पाएंगे शिक्षकों की Transfer, जानिए क्या होगी नई प्रक्रिया

Raj Bhavan के 18 सदस्य कोरोना पॉजिटिव, Maharashtra के राज्यपाल ने खुद को किया आइसोलेट

Big B और उनके बेटे अभिषेक Corona Positive : हालत स्थिर, आइसोलेशन वार्ड में इलाज जारी

कोरोना अपडेटः Himachal में 11 नए मामले, 23 लोग हुए ठीक

Corona Breaking: मेडिकल जांच को ऊना से टांडा लाया दुराचार का आरोपी निकला पॉजिटिव

रोहतांग सुरंग का निरीक्षण करने Manali आएंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

हिमाचल में Bus किराए को लेकर क्या है सच जानिए Transport Minister की जुबानी, यहां करें क्लिक

loading...
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

Himachal में अब मंत्री-विधायक नहीं कर पाएंगे शिक्षकों की Transfer, जानिए क्या होगी नई प्रक्रिया

ICSE की 10वीं और ISC की 12वीं परीक्षा का रिजल्ट हुआ आउट: यहां चेक करें

कल दोपहर 3 बजे घोषित होगा ICSE की 10वीं और ISC की 12वीं परीक्षा का रिजल्ट

बड़ी खबरः अब 12 को नहीं होगी D.El.Ed CET प्रवेश परीक्षा, कब होगी-जानिए

हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने TET के लिए आवेदन तिथि बढ़ाई, कल तक कर सकते हैं आवेदन

CBSE ने सिलेबस से हटाए राष्ट्रवाद, Secularism जैसे Chapters,और भी बहुत कुछ

HRD मंत्री का ऐलान: CBSE कक्षा 9 से 12वीं तक के सिलेबस को 30% तक करेगा कम

हिमाचल में B.Ed करने के इच्छुकों के लिए राहत देने वाली है ये रपट, क्लिक करें

UGC के निर्देश : सितंबर के अंत तक करवानी होंगी UG Final Semester की परीक्षाएं, और भी बहुत कुछ, जानें

Kendriya Vidyalaya: फेल नहीं होंगे 9वीं-11वीं के छात्र; बिना परीक्षा के प्रोजेक्ट वर्क के जरिए होंगे प्रोमोट

हिमाचल के स्कूलों में Morning Prayer सभा एक जैसी हो, शिक्षा बोर्ड कर रहा तैयारी

SOS अगस्त व सितंबर की परीक्षाओं के ऑनलाइन पंजीकरण की तिथियां घोषित

CBSE ने टीचर्स के लिए शुरू किए Online कोर्स: यहां देखें डीटेल्स

Himachal में अध्यापकों को 12 तक छुट्टियां; 13 से होगी Online पढ़ाई शुरू

HPU सहित प्रदेश के 17 Colleges को मिलेगा कुल 27 करोड़ का ग्रांट; जानें किसके हिस्से में कितना


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है