Covid-19 Update

3150
मामले (हिमाचल)
1958
मरीज ठीक हुए
12
मौत
2,085,124
मामले (भारत)
19,392,370
मामले (दुनिया)

सावन में भोलेनाथ को बेलपत्र से करें प्रसन्न, जानिए इसका महत्व

सावन में भोलेनाथ को बेलपत्र से करें प्रसन्न, जानिए इसका महत्व

- Advertisement -

सावन का पावन महीना चल रहा है और इस समय बेलपत्रों से विशेष रूप से शिव की पूजा की जाती है। भगवान शिव (Lord shiva) की पूजा में बेलपत्र का बहुत महत्व होता है और इनके बिना शिव की उपासना संपूर्ण नहीं होती। अगर आप भी देवों के देव महादेव की विशेष कृपा पाना चाहते हैं तो बेलपत्र के महत्व को समझना बेहद ज़रूरी है। बेल के पेड़ की पत्तियों को बेलपत्र कहते हैं। बेलपत्र में तीन पत्तियां एक साथ जुड़ी होती हैं, लेकिन इन्हें एक ही पत्ती मानते हैं। भगवान शिव को बेलपत्र (Bel patra) बेहद प्रिय हैं। भांग धतूरा और बिल्व पत्र से प्रसन्न होने वाले केवल शिव ही हैं। बेलपत्र यूं तो आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं, किंतु कुछ ऐसे बेल पत्र भी होते हैं जो दुर्लभ पर चमत्कारिक और अद्भुत होते हैं।



शिव पूजा में ऐसे होने चाहिए बेलपत्र –

एक बेलपत्र में तीन पत्तियां होनी चाहिए। 

पत्तियां कटी या टूटी हुई न हों और उनमें कोई छेद भी नहीं होना चाहिए।
भगवान शिव
को बेलपत्र चिकनी ओर से ही अर्पित करें।
एक ही बेलपत्र को जल से धोकर बार-बार भी चढ़ा सकते हैं।
शिव जी को बेलपत्र अर्पित करते समय साथ ही में जल की धारा जरूर चढ़ाएं।
बिना जल के बेलपत्र अर्पित नहीं करना चाहिए।

हमारे धार्मिक ग्रंथों में बिल्व पत्र के वृक्ष को श्री वृक्ष भी कहा जाता है इसे शिवद्रुम भी कहते हैं। बिल्वाष्टक और शिव पुराण (Shiva Purana) के अनुसार भगवान शिव को बेलपत्र अत्यंत प्रिय है। मान्यता है कि बेल पत्र के तीनों पत्ते त्रिनेत्रस्वरूप् भगवान शिव के तीनों नेत्रों को विशेष प्रिय हैं। बिल्व पत्र के पूजन से सभी पापों का नाश होता है। स्कंदपुराण में बेल पत्र के वृक्ष की उत्पत्ति के संबंध में कहा गया है कि एक बार मां पार्वती ने अपनी उंगलियों से अपने ललाट पर आया पसीना पोंछकर उसे फेंक दिया, मां के पसीने की कुछ बूंदें मंदार पर्वत पर गिरीं, कहते हैं उसी से बेल वृक्ष उत्पन्न हुआ।

शास्त्रों के अनुसार इस वृक्ष की जड़ों में मां गिरिजा, तने में मां महेश्वरी, इसकी शाखाओं में मां दक्षयायनी, बेल पत्र की पत्तियों में मां पार्वती, इसके फूलों में मां गौरी और बेल पत्र के फलों में मां कात्यायनी का वास हैं। हमारे शास्त्रों में बिल्व का पेड़ संपन्नता का प्रतीक, बहुत पवित्र तथा समृद्धि देने वाला है। बिल वृक्ष में मां लक्ष्मी का भी वास है अत: घर में बेल पत्र लगाने से देवी महालक्ष्मी बहुत प्रसन्न होती हैं, जातक वैभवशाली बनता है।

बेलपत्र से भगवान शिव का पूजन करने से समस्त सांसारिक सुख की प्राप्ति होती है, धन-सम्पति की कभी भी कमी नहीं होती है।

बेलपत्र के पेड़ की टहनी से चुन-चुनकर सिर्फ बेलपत्र ही तोड़ना चाहिए, कभी भी पूरी टहनी नहीं तोड़ना चाहिए।

शिवलिंग पर बेलपत्र अर्पित करने से महादेव शीघ्र प्रसन्न होते हैं। मान्यता है कि भगवान शिव की आराधना बेलपत्र के बिना पूरी नहीं होती। लेकिन एक बेलपत्र में तीन पत्तियां अवश्य ही होनी चाहिए तभी वह बिलपत्र शिवलिंग पर चढ़ने योग्य होता है ।

भगवान शिव को बेलपत्र अर्पित करते समय जल की धारा भी जरूर चढ़ाएं।

यह ध्यान दीजिये कि बेलपत्र की पत्तियां कटी फटी या टूटी ना हों और उनमें कोई छेद भी नहीं होना चाहिए।

बेलपत्र को भगवान शिव पर चिकनी तरफ से ही अर्पित करें।

अगर बेलपत्र पर ॐ नम: शिवाय या राम राम लिखकर उसे भगवान भोलेनाथ पर अर्पित किया जाय तो यह बहुत ही पुण्यदायक होता है ।


शास्त्रों के अनुसार रविवार के दिन बेलपत्र का पूजन करने से समस्त पापो का नाश होता है।

तृतीया तिथि के स्वामी देवताओं के कोषाध्यक्ष एवं भगवान भोलाथ के प्रिय कुबेर जी है । तृतीया को बेलपत्र चढ़ाकर कुबेर जी की पूजा करने , उनके मन्त्र का जाप करने से अतुल ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। और अगर कुबेर जी की पूजा बेल के वृक्ष के नीचे बैठकर, अथवा शिव मंदिर में की जाय तो पीढ़ियों तक धन की कोई भी कमी नहीं रहती है ।

शि‍व को बेलपत्र अर्पित करते वक्त और इसे तोड़ते समय कुछ खास नियमों का पालन करना जरूरी होता है ।

बेलपत्र को संस्कृत में ‘बिल्वपत्र’ कहा जाता है। जो कि भगवान शिव को बहुत ही प्रिय है। ऐसी मान्यता है कि बेलपत्र और जल से भगवान शंकर का मस्तिष्क शीतल रहता है। पूजा में इनका प्रयोग करने से वे बहुत जल्द प्रसन्न होते हैं।

जानिए बेलपत्र तोड़ने के नियम –

भूलकर भी चतुर्थी, अष्टमी, नवमी, चतुर्दशी और अमावस्या तिथियों के साथ-साथ सं‍क्रांति के समय और सोमवार को बेलपत्र नहीं तोड़नी चाहिए।

शास्त्रों में कहा गया है कि अगर नया बेलपत्र न मिल सके, तो किसी दूसरे के चढ़ाए हुए बेलपत्र को भी धोकर कई बार इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे किसी भी तरह का पाप नहीं लगेगा। जो स्कंदपुराण में बताया गया है।

अर्पितान्यपि बिल्वानि प्रक्षाल्यापि पुन: पुन:।
शंकरायार्पणीयानि न नवानि यदि क्वचित्।। (स्कंदपुराण)

कभी भी बेलपत्र को टहनी सहित नहीं तोड़ना चाहिए। बल्कि बेलपत्र चुन-चुनकर तोड़ना चाहिए जिससे कि वृक्ष को नुकसान न पहुंचे। इसके साथ ही बेलपत्र तोड़ने से पहले और बाद में वृक्ष को मन ही मन प्रणाम कर लेना चाहिए।

बिल्व-वृक्ष के मूल अर्थात उसकी जड़ में शिव लिंग स्वरूपी भगवान शिव का वास होता है। इसी कारण से बिल्व के मूल में भगवान शिव का पूजन किया जाता हैं। पूजन में इसकी मूल यानी जड़ को सींचा जाता हैं।

कैसे चढ़ाएं शिवलिंग पर बेलपत्र –

शिवलिंग पर हमेशा उल्टा बेलपत्र अर्पित करना चाहिए, यानी पत्ते का चिकना भाग शिवलिंग के ऊपर रहना चाहिए।
बेलपत्र में चक्र और वज्र नहीं होना चाहिए। कोशिश करें तो बेलपत्र कटा-फटा न हो।
बेलपत्र 3 से लेकर 11 दलों तक के होते हैं। ये जितने अधिक पत्र के हों, उतने ही उत्तम माने जाते हैं।
शिवलिंग पर दूसरे के चढ़ाए बेलपत्र की उपेक्षा या अनादर नहीं करना चाहिए।

पंडित दयानंद शास्त्री, उज्जैन (म.प्र.) (ज्योतिष-वास्तु सलाहगाड़ी) 09669290067, 09039390067

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

कंवर का पलटवार, बोले- कांग्रेसी Mukesh को नेता और Rathore को अध्यक्ष मानने को तैयार नहीं

Anni के राणाबाग में खाई में समाई Car, दो की गई जान

ब्रेकिंगः BJP के एक और नेता निकले कोरोना पॉजिटिव, सुखराम चौधरी के आए थे संपर्क में

Chamba में धड़ोग मोहल्ले में कम्युनिटी ट्रांसमिशन के आसार; एक साथ 40 केस; प्रदेश में अब तक 69 मामले

बिग ब्रेकिंगः Mankotia ने जयराम कैबिनेट के एक मंत्री पर लगाए भूमि सौदे के आरोप

अंधेरे में घर से निकली महिला, परिजनों ने खोजा तो जल शक्ति विभाग के टैंक में मिला शव

अंब में एक उद्योग में लगी Fire, लाखों का जल गया सामान

कोविड-19 के प्रकोप के बीच Himachal की आर्थिकी को तीस हजार करोड़ का हुआ नुकसान

Himachal में फिर बिगड़ेगा मौसम, इस दिन भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी

ब्रेकिंगः HPPSC ने इन पदों के Personality Test की तिथि की घोषित

जयराम बोले, Mission Repeat को सुनिश्चित बनाने के लिए सरकार-संगठन के बीच बेहतर ताल-मेल जरूरी

ऊना विजिलेंस के चार कर्मचारी Corona पॉजिटिव, चिंतपूर्णी मंदिर में तैनात कांगड़ा का होमगार्ड भी संक्रमित

सीएम जयराम की मौजूदगी में  Pawan Rana -Ramesh Dhawala ने साझा किया पार्टी का मंच

Big Breaking: टैट परीक्षाओं का नया शेड्यूल जारी, कौन परीक्षा कब होगी-जानिए

Kullu जिले के इस गांव ने पूरे देश में जमाई धाक, जुड़ी यह बड़ी उपलब्धि

loading...
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

Big Breaking: टैट परीक्षाओं का नया शेड्यूल जारी, कौन परीक्षा कब होगी-जानिए

शिक्षा बोर्ड ने SOS परीक्षाओं के लिए आवेदन तिथि बढ़ाई- जाने नई डेट

कोरोना संकट चलता रहा तो Students को घर पर ही मिल जाएगी वर्दी-बैग

Himachal में यहां मेधावी बेटियों को प्रतियोगी परीक्षाओं की मिलेगी निशुल्क Coaching

Breaking : हिमाचल में अब ई-पीटीएम, अभिभावक रख सकेंगे अपनी बात खुलकर

Covid-19 के चलते HPBOSE ने स्थगित की TET की परीक्षाएं, 2 अगस्त से होनी थी शुरू

9वीं से 12वीं के पाठ्यक्रम में कटौती को कवायद तेज, सरकार को भेजा जाएगा Proposal

Himachal में संस्कृत विश्वविद्यालय के लिए चिन्हित की जा रही जमीन

HPU ने यूजी के छात्रों को दी राहत, घर के नजदीक कॉलेजों में दे सकेंगे परीक्षा

TGT के इन 89 पदों पर होगी बैचवाइज भर्ती, दुर्गम और दूरदराज क्षेत्रों में मिलेगी तैनाती

इस दिन से शुरू होंगी यूजी अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएं, HPU ने जारी की डेटशीट

HPBOSE ने D.El.Ed CET परीक्षा की Answer Key दोबारा की अपलोड

बड़ी खबरः JBT और शास्त्री टैट की परीक्षा को लेकर बोर्ड का बड़ा फैसला

SOS जमा दो का रिजल्ट आउट, 10वीं और 12वीं के नियमित छात्रों को भी राहत

HPBOSE: टैट की परीक्षा के लिए Admit Card जारी, ऐसे करें डाउनलोड


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है