Expand

पहलः Dalai lama संसद के संयुक्त सत्र को करें संबोधित

पहलः Dalai lama संसद के संयुक्त सत्र को करें संबोधित

- Advertisement -

नई दिल्ली। निर्वासित तिब्बती धर्मगुरू दलाईलामा संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करें, ऐसी आवाज पहली मर्तबा सुनने को मिली है। दलाईलामा वर्ष 1959 से भारत में निर्वासित जीवन जी रहे हैं, वह दुनिया भर में कई संसद को संबोधित कर चुके हैं। भारत में पहली मर्तबा उन्हें संसद में बुलाए जाने की बात बीजेपी सांसद शांता कुमार ने कही है।

  • shantaशांता कुमार ने लोस अध्यक्ष सुमित्रा महाजन से भेंट कर रखी बात
  • निर्वासन में रह रहे दलाईलामा कई देशों की संसद को कर चुके संबोधित

शांता ने लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन से नोबल शांति पुरस्कार से सम्मानित दलाईलामा को संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करने हेतु आमंत्रित करने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों में भारत.चीन सम्बन्धों के विषय में तिब्बती गुरु दलाईलामा के विचारों से सांसदों को अवगत करवाना अत्यंत आवश्यक है।  सांसद शांता कुमार ने भारत के तिब्बत समर्थक सर्वदलीय संसदीय मंच के सदस्यों सहित लोकसभा अध्यक्ष  सुमित्रा महाजन से भेंट की और उन्हें इस  संबंध  में एक ज्ञापन भी मंच की और से प्रस्तुत किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि तिब्बती गुरु दलाईलामा ने उनके निर्वाचन क्षेत्र के प्रसिद्द पर्यटन.स्थल मैक्लोडगंज (धर्मशाला) को पिछले पांच दशकों से निर्वासित तिब्बत सरकार का मुख्यालय बना कर हिमाचल को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्रदान की है।

sansadभारत-चीन संबंधों के विषय में लोकसभा अध्यक्ष को नवीनतम जानकारी देते हुए शांता कुमार ने बताया कि भारत और तिब्बत के संबंध पिछले छह दशकों से अति मधुर रहे हैं। चीन, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत के बढ़ते हुए गौरव को देख कर अत्यधिक चिंतित है और देश की सरहदों पर यदाकदा घुसपैठ की घटनाओं को अंजाम देता रहता है। चीन-भारत की बढ़ती अर्थव्यवस्था को भी स्वयं के लिए खतरा समझता है। तिब्बती गुरु दलाईलामा ने इस परिप्रेक्ष में सदैव शांतिपूर्वक समस्याओं के समाधान का विश्व से अनुरोध किया है और भारत को पुनः विश्वगुरु बनने के लिए इस दिशा में पहल करने का सुझाव दिया है।

तिब्बती गुरु  के इन विचारों को जनप्रतिनिधियों तक पहुंचाने के लिए वर्तमान सरकार द्वारा उन्हें संयुक्त सत्र को संबोधित करने हेतु आमंत्रित करना श्रयेस्कर पहल होगी। शांता कुमार ने लोकसभा अध्यक्ष को निर्वासित तिब्बत के संसद के विषय में भी जानकारी दी। इस अवसर पर निर्वासित तिब्बत की संसद के उपाध्यक्ष आचार्य यशी फुंचोक ने लोकसभाध्यक्ष सुमित्रा महाजन को थंका भेंट किया। प्रतिनिधिमंडल में निर्वासित तिब्बत संसद के सदस्य लोपोन और तेनजिन भी शामिल थे।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है