Covid-19 Update

59,059
मामले (हिमाचल)
57,473
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,204,179
मामले (भारत)
116,873,133
मामले (दुनिया)

Tibet छोड़ते वक्त Dalai Lama को क्या क्या लगा था – ट्वीट कर कही ये बड़ी बात

बोले-मैंने कभी उम्मीद नहीं छोड़ी, समस्या को व्यापक दृष्टिकोण से देखना होगा

Tibet छोड़ते वक्त Dalai Lama को क्या क्या लगा था – ट्वीट कर कही ये बड़ी बात

- Advertisement -

मैक्लोडगंज। तिब्बती धर्मगुरू दलाई लामा (The Dalai Lama) ने कहा है कि यदि आप किसी समस्या को देखते हुए उस पर नजदीक से ध्यान केंद्रित करते हैं तो आप उम्मीद खो सकते हैं, लेकिन आप इसे (Wider Perspective) व्यापक दृष्टिकोण से देखते हैं, तो अधिक सकारात्मक (Positive) हो सकते है। तिब्बती धर्मगुरू ने ट्वीट कर कहा है कि जब मैंने तिब्बत छोड़ने का फैसला किया, तो हमने यह नहीं जाना कि क्या हम अगले दिन देखने के लिए जीवित रहेंगे, लेकिन मैंने कभी उम्मीद नहीं छोड़ी। यानि दलाई लामा ने इस ट्वीट के जरिए एक सकारात्मकता की दिशा में संदेश देने का प्रयास किया है। याद रहे कि दलाई लामा केवल 15 वर्ष के थे तो उन्होंने अपनी सरकार के वरिष्ठ होने के नाते राजनीतिक जिम्मेदारियों (Political Responsibilities) का निर्वाह शुरू कर दिया था।

यह भी पढ़ें: Breaking : निर्वासित तिब्बतियों का Sikyong बनने की दौड़, प्रारंभिक चरण में Penpa Tsearing सबसे आगे

 

यह भी पढ़ें: तिब्बतियों के नववर्ष Losar पर होने वाले सभी कार्यक्रम स्थगित, घरों में होगी पूजा-कल सीटीए हॉल में संक्षिप्त कार्यक्रम

वर्ष 1954 में महामहिम चीनी नेताओं से बातचीत करने चीन की राजधानी (Beijing) बीजिंग गए, जब चीन तिब्बत के बारे में असहयोगपूर्ण रवैया अपनाए हुए था। वर्ष 1956 में वे महात्मा बुद्ध (Mahatma Buddha) की 2500वीं वर्षगांठ पर भारत आए व तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू से तिब्बत (Tibet) की दुर्दशा पर लंबी बातचीत की। अंततः तिब्बत में चीन सरकार के बढ़ते आतंक से उत्पन्न खतरे को भांपकर उन्हें 1959 में तिब्बत छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा। आज का ये ट्वीट उनकी उसी बात की तरफ इशारा करता है कि 1959 में जो व्यापक दृष्टिकोण अपनाया, उसी का नतीजा है कि हम आज भी उम्मीद नहीं छोड़े हैं। तिब्बती धर्मगुरू (McLeodganj in Himachal Pradesh) हिमाचल प्रदेश के मैक्लोडगंज स्थित अस्थायी निवास में रहते हैं। यही पर (Tibetan Exile Government) तिब्बती निर्वासित सरकार का मुख्यालय भी चलता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है