Covid-19 Update

2,18,314
मामले (हिमाचल)
2,12,899
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,678,119
मामले (भारत)
232,488,605
मामले (दुनिया)

बीमार बोस के लिए संजीवनी बनी थी Dalhousie,पूर्ण रूप से स्वस्थ होकर लौटे थे

बीमार बोस के लिए संजीवनी बनी थी Dalhousie,पूर्ण रूप से स्वस्थ होकर लौटे थे

- Advertisement -

पुनीत शर्मा/चंबा। हिंदुस्तान की आजादी के आंदोलन के महानायक सुभाष चन्द्र बॉस का डलहौजी ( Dalhousie)से गहरा नाता रहा है। प्रदेश के जिला चंबा की पर्यटन नगरी डलहौजी में पहुंचे बीमार बोस यहां से पूर्ण रूप से स्वस्थ हो लौटे थे। सिविल सर्विस की नौकरी को छोड़ ‘जय हिंद’ का नारा देकर ब्रिटिश हुकूमत की नींव हिला देने वाले भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के महानायक सुभाष चंद्र बोस( Subhash Chandra Bose)ने वर्ष 1937 में मई महीने की शुरुआत में सुभाष चंद्र बोस ने डलहौजी में सात महीने गुप्त रूप से बिताए थे।

यह भी पढ़ें: पुरूषोत्तम सिंह ने वर्ल्ड वोविनाम मार्शल आर्ट चैंपियनशिप में Bronze Medal

डलहौजी आने से पहले ब्रिटिश हुकूमत ने सुभाष को जेल में डाल दिया था। यहां उनका स्वास्थ्य तेजी से गिर रहा था। परिवार के आग्रह पर और बिगड़ती हालत के चलते ब्रिटिश हाईकोर्ट (British highcourt) ने ‘नेताजी’ को पैरोल पर रिहा कर दिया। इसके बाद सुभाष चंद्र बोस ने इंग्लैंड के अपने छात्र जीवन के मित्र डॉ. धर्मवीर और उनकी पत्नी के पास डलहौजी जाने का फैसला किया। उन दिनों डलहौजी उत्तर भारत का प्रसिद्ध आरोग्य-स्थल था। सात महीने बाद ‘नेताजी’ डलहौजी से बिल्कुल स्वस्थ होकर लौटे।काइनांस इस्टेट मूलतया लाहौर के रहने वाले डॉ. एनआर धर्मवीर का निजी बंगला था। यह बंगला उन्होंने 1933 में बनवाया था। यह भवन विश्वविख्यात हो गया, जब यहां 1937 में सुभाष चंद्र बोस ने सात माह गुप्त रूप से बिताए। काइनांस इस्टेट बंगले तक गांधी चौक से पंजपूला रोड पर करीब पांच मिनट पैदल चलकर पहुंचा जा सकता है। यह बंगला अब दिल्ली के किसी व्यक्ति ने खरीद लिया है।यहां जिस प्राकृतिक जलस्त्रोत से वो पानी पीते थे तथा बोस के स्वस्थ होने में जिसकी अहम भूमिका बताई जाती है वो सुभाष बावली के नाम से जाना जाता है।

 

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है