Expand

कोटरोपी पहुंचे डीसी, मौके पर खुद लिया पूरी स्थिति का जायजा

मिट्टी धंसने का क्रम शुरू होते ही सेंसर देगा चेतावनी

कोटरोपी पहुंचे डीसी, मौके पर खुद लिया पूरी स्थिति का जायजा

- Advertisement -

मंडी। आखिरकार प्रशासन की तंद्रा भंग हुई और कोटरोपी के लोगों का हाल जाने और वहां के ताजा हालत को समझने के लिए डीसी मंडी खुद ग्राउड जीरो पहुंचे। हादसे के बाद वहां की ताजा स्थिति के बारे में खबरें सामने आने पर मंडी जिला प्रशासन हरकत में आया। ऋग्वेद ठाकुर खुद ग्राउंड जीरो पर पहुंचे और पूरे हालात का जायजा लिया। डीसी के साथ एडीएम मंडी राजीव कुमार, एसडीएम पधर आशीष शर्मा और आईआईटी के विशेषज्ञों सहित तमाम अधिकारी मौजूद रहे। डीसी ऋग्वेद ठाकुर ने कोटरोपी के चप्पे-चप्पे में जाकर स्थिति का जायजा लिया।स्थानीय लोगों से मुलाकात और प्रभावित गांव तथा घरों में जाकर लोगों से मिलकर उनकी समस्याओं को जानने का प्रयास किया। डीसी मंडी ने बताया कि कोटरोपी के पास आईआईटी मंडी के सहयोग से दो सेंसर लगाए जाएंगे और इन्हें जल्द ही स्थापित कर दिया जाएगा। यह सेंसर भूस्खलन की चेतावनी जारी करेंगे। मिट्टी के खिसकने का क्रम शुरू होते ही एक मैसेज मोबाइल पर चला जाएगा और यदि खतरा ज्यादा बड़ा हुआ तो जोर का हूटर बजेगा। इसके अलावा अन्य जो संवेदनशील स्पॉट हैं वहां पर भी ऐसे ही सेंसर लगाए जाएंगे। इस सेंसर को आईआईटी मंडी के स्टूडेंटस ने बनाया है और इसका प्रयोग काफी सफल रहा है। साथ ही प्रशासन घटनास्थल के दोनों तरफ रेड लाईट भी लगाएगा ताकि लोग यहां से सावधानी से गुजरें।

डीसी ने की प्रभावित परिवारों से मुलाकात

डीसी मंडी ने माना कि इससे पहले जो निर्णय लिए जा रहे थे वो कार्यालयों में बैठकर ही लिए जा रहे थे। क्योंकि यह हादसा उनके कार्यकाल में नहीं हुआ इसलिए उन्होंने खुद वास्तुस्थिति जानने के लिए मौके पर आना उचित समझा। डीसी ने पाया कि यहां पानी की निकासी के लिए उचित प्रबंध नहीं है। इसलिए विभाग को निर्देश दिए कि यहां और पाइप डाले जाएं ताकि पानी सही ढंग से बाहर निकल सके। वहीं डीसी मंडी ने प्रभावित परिवारों से भी मुलाकात की और उनकी समस्याओं को जाना।उन्होंने बताया कि इलाके में वन विभाग की जमीन के सिवाय और कोई जमीन उपलब्ध नहीं है। इसलिए सरकार को स्पेशल केस बनाकर भेजा गया है और उसकी मंजूरी मिलते ही प्रभावितों को जमीन आबंटित कर दी जाएगी। वहीं कोटरोपी में भूस्खलन के कारण जो अस्थाई जलाशय बन गए थे उन्हें भी मिट्टी डालकर भर दिया गया है, ताकि बरसात का पानी इसमें न रूके। इसके साथ ही बरसात के समय में यहां बंद पड़ी स्ट्रीट लाइटों को भी फिर से ऑन करने के निर्देश दे दिए गए हैं। डीसी मंडी ने घटनास्थल के पास वाले गांवों को एहतियात बरतने को कहा है और यह भरोसा दिलाया है कि वे किसी भी समय प्रशासन की मदद ले सकते हैं।

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है