Covid-19 Update

59,059
मामले (हिमाचल)
57,473
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,204,179
मामले (भारत)
116,873,133
मामले (दुनिया)

निशाने पर DC: समय पर जाग जाते तो न होती हिंसा

निशाने पर DC: समय पर जाग जाते तो न होती हिंसा

- Advertisement -

बीडीसी ठियोग के अध्यक्ष का आरोप, प्रशासन की नाकामी से बिगड़े हालात

शिमला। गुड़िया मर्डर केस में अब गाज डीसी शिमला पर गिरना बाकी है। इसके लिए वकायदा उन्हें निशाना पर भी लिया जा रहा है। डीसी पर आरोप लग रहे हैं कि वह इस घटना के तुरंत बाद हरकत में आते तो हिंसा न फैलती और न ही सरकारी संपत्ति को नुकसान होता। जनप्रतिनिधियों ने इस मामले में प्रशासन की नाकामी देख अब डीसी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। बीडीसी ठियोग के अध्यक्ष मदन लाल वर्मा ने कहा कि यदि डीसी शिमला समय रहते सक्रिय होते तो ठियोग और कोटखाई में तोड़-फोड़ न होती।

उनका कहना था कि डीसी घटना के दो सप्ताह बाद पीड़िता के घर जाते हैं और यदि यह कदम पहले ही उठा लिया होता तो शायद स्थितियां और होती। उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवार की जो आंशकाएं थी और इस मामले को लेकर जो कार्रवाई चाहते थे, वह पहले ही डीसी के माध्यम से सरकार तक जानी थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। उन्होंने आरोप लगाया कि डीसी ही इस सारे मामले के लिए जिम्मेदार है, जिसने कोई संवाद लोगों से नहीं किया।

कानून व्यवस्था संभालने में रोहन ठाकुर नाकाम

वर्मा ने कहा कि डीसी को इस घटना के तुरंत बाद स्थानीय लोगों और स्थानीय प्रतिनिधियों के साथ संवाद स्थापित करना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था को देखना डीसी का कार्य होता है और वह इसमें पूरी तरह से असफल रहे हैं। उनका कहना था कि डीसी दो सप्ताह बाद भी तब गए, जब लोगों का उन पर दबाव बढ़ा। उन्होंने कहा कि लोगों के दबाव के बाद डीसी पीड़ित के घर गए और इससे उनकी संवेदनशीलता का पता चलता है।

बीडीसी अध्यक्ष ने डीसी पर सीएम के आदेशों पर अमल न करने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि जो डीसी आज कह रहे हैं कि उनके दरवाजे सबके लिए खुले हैं, यदि वास्तव में ऐसा होता तो स्थितियां न बिगड़ती। उन्होंने कहा कि डीसी को जिले की जनता के प्रति अपनी जिम्मेदारी समझनी चाहिए और उसके मुताबिक त्वरित कार्रवाई करनी चाहिए। 

गुड़िया Murder Case : CBI ने दो अलग-अलग मामले किए दर्ज, टीम कोटखाई रवाना

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है