Covid-19 Update

2,16,430
मामले (हिमाचल)
2,11,215
मरीज ठीक हुए
3,631
मौत
33,380,438
मामले (भारत)
227,512,079
मामले (दुनिया)

चमोली आपदा : लगातार मिल रहे सुरंग में शव, ग्लेशियरों पर निगरानी के लिए बनेगा विभाग

उत्तराखंड के सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज बोले- प्लूटोनियम पैक की जांच की करेंगे मांग

चमोली आपदा : लगातार मिल रहे सुरंग में शव, ग्लेशियरों पर निगरानी के लिए बनेगा विभाग

- Advertisement -

चमोली। उत्तराखंड के चमोली (Chamoli Disaster) जिला में जल प्रलय के दसवें दिन बाद भी तपोवन जल विद्युत परियोजना (Hydroelectric Project) की सुरंग में मलबा हटाया जा रहा है। यह सुरंग निर्माणाधीन थी। तपोवन सुरंग (Tapovan Tunnel) से आज भी दो शव बरामद हुए हैं। इसके अलावा परियोजना में बैराज की ओर से मलबा जमा हुआ है। इसमें भी शवों के दबे होने की आशंका जताई जा रही है। उधर, उत्तराखंड के सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज (Uttarakhand Irrigation Minister Satpal Maharaj) ने कहा कि अब ग्लेशियरों पर नजर रखने के लिए भी अलग से विभाग बनाया जाएगा।

यह भी पढ़ें: मध्यप्रदेश में नहर में गिरी यात्रियों से भरी बस, अब तक 38 शव मिले, 54 थे सवार

राहत एवं बचाव कार्यों का जायजा लेने के लिए चमोली जिलाधिकारी स्वाती भदौरिया (District Magistrate Swati Bhadoria) भी मंगलवार को मौके पर पहुंची थी। इसके साथ ही जिलाअधिकारी स्वाती भदौरिया ने लापता लोगों के परिजनों से भी मुलाकात की। इसके अलावा आईजी एसडीआरएफ रिद्धीम अग्रवाल के मुताबिक अभी तक बरामद 58 शवों में से 31 की पहचान की जा चुकी है। सुरंग से भी बरामद हुए 11 शवों की पहचान की जा चुकी है। उधर, मंगलवार दोपहर करीब एक बजे तपोवन सुरंग के अंदर मलबा हटाने के दौरान अचानक पानी आना शुरू हो गया। ऐसे में एहतियात के तौर पर राहत एवं बचाव कार्य रोक दिया गया। सुरंग से पानी को बाहर निकालने के लिए पंप की सहायता ली जा रही है।

उत्तराखंड के सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज का कहना है कि हम इस बात से चिंतित हैं कि ग्लेशियर कैसे पिघल रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्लूटोनियम पैक जिसे चीन की गतिविधियों की निगरानी करने के लिए रखा गया था, वो प्लूटोनियम पैक अब वहां नहीं है। उन्होंने कहा कि हम सरकार से पैक की जांच करने का अनुरोध करेंगे। इसके अलावा चमोली आपदा के बाद सीमांत गांव पैंग में अभी भी बिजली आपूर्ति बहाल नहीं हुई है। बिजली आपूर्ति बहाली की काम चल रहा है। तपोवन से पैंग गांव तक करीब तीन किमी बिजली लाइन आपदा के कारण टूट गई थी। बताया जा रहा है कि जल प्रलय में 32 बिजली के पोल और तीन ट्रांसफार्मर बहे थे।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है