×

#Una: ईसपुर सहकारी सभा में गड़बड़झाला, जमाकर्ताओं ने सचिव पर लगाए #Scam के आरोप

अपनी ही जमापूंजी को तरस गए ईसपुर के लोग, विरोध प्रदर्शन की दी चेतावनी

#Una: ईसपुर सहकारी सभा में गड़बड़झाला, जमाकर्ताओं ने सचिव पर लगाए #Scam के आरोप

- Advertisement -

ऊना। हरोली उपमंडल के तहत पड़ती ईसपुर सहकारी सभा (Ispur Cooperative sbha ) के जमाकर्ताओं ने सभा के सचिव पर करोड़ों रुपए के गड़बड़झाले (Scam) के आरोप जड़े हैं। सभा के जमाकर्ताओं ने अपनी पूंजी वापस दिलाने की मांग को लेकर शुक्रवार को सहायक पंजीयक सभाएं के कार्यालय का रुख किया और मामले की शिकायत (Complaint) की। वहीं, विभाग से सभा के सचिव के खिलाफ पुलिस के पास आपराधिक मामला दर्ज कराने की मांग की है। इस दौरान जमाकर्ताओं ने सचिव पर लोगों को अपनी हैसियत से अधिक लोन बांटने का आरोप जड़ा। वहीं, अपने ही माता-पिता और बहन समेत पांच रिश्तेदारों को 90-90 लाख के लोन देने का भी आरोप लगाया है। जमाकर्ताओं (Depositors) का आरोप है कि करीब 22 करोड़ रुपए की सोसाइटी से मात्र 30 फीसदी तक के लोन दिए जा सकते हैं। लेकिन सभा के सचिव ने नियमों को ताक पर रखते हुए करीब 17 करोड़ रुपए के लोन बांट डाले हैं। जिसके चलते सोसाइटी में अपनी पूंजी जमा कराने वाले जमाकर्ताओं को पिछले कुछ वर्षों से अपनी ही जमा पूंजी के लिए दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर होना पड़ रहा है।


यह भी पढ़ें: Breaking: हिमाचल में विधायक क्षेत्र विकास निधि बहाल, MLAs को जारी होंगे 50-50 लाख

जमाकर्ताओं ने सचिव की संपत्तियों की जांच की उठाई मांग

उन्होंने कहा कि सभा के सचिव (secretary) की करीब 500 कनाल भूमि है जो उसकी अपनी खरीद है। उन्होंने कहा कि सभा के सचिव की संपत्तियों की जांच की जानी चाहिए, ताकि सच सामने आ सके। उन्होंने कहा कि जब वह अपनी जमा पूंजी वापस मांगते हैं तो सचिव हमेशा लोन की अदायगी ना होने का बहाना लगा देता है। जबकि सोसाइटी के सबसे ज्यादा लोन (Loan) उसने अपने परिवार में बांट रखे हैं। ऐसे में उनकी जमा पूंजी कैसे वापस मिल सकती है। उनका आरोप है कि इंसाफ पाने के लिए उन्होंने जिला प्रशासन और पुलिस का भी दरवाजा खटखटाया, लेकिन सभी लोग बेबस नजर आए। वहीं, इस मामले में सहायक पंजीयक सभाएं से भी संपर्क किया गया। लेकिन इस कार्यालय के ढुलमुल रवैया चलते भी उन्हें इंसाफ मिलने की उम्मीदें कम होती जा रही हैं। उन्होंने चेतावनी दी है कि यदि उन्हें इंसाफ न मिला तो सड़कों पर उतरने से गुरेज नहीं किया जाएगा।

विभाग के एआरओ बोले जांच के बाद दोषियों पर होगी कड़ी कार्रवाई

सहकारी सभाएं विभाग के एआरओ रत्न सिंह बेदी ने कहा कि ईसपुर सहकारी सभा का साल 2018-19 का ऑडिट मेरे पास पहुंच गया है। इसकी जांच के लिए सीए को भी लिखा गया है। इस सभा में कर्ज देने में काफी कोताही की गई है। जिसके चलते जांच करने के बाद दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है