Covid-19 Update

1,64,355
मामले (हिमाचल)
1,28,982
मरीज ठीक हुए
2432
मौत
25,227,970
मामले (भारत)
164,275,753
मामले (दुनिया)
×

Kullu Valley का बनेगा Development Plan

Kullu Valley का बनेगा Development Plan

- Advertisement -

शिमला। पर्यटन नगरी कुल्लू वैली का डेवलपमेंट प्लान बनेगा। नगर नियोजन विभाग (टीसीपी) इसे तैयार करेगा और इसमें कुल्लू नगर के अलावा अंतरराष्ट्रीय पर्यटन नगरी मनाली और साथ लगता और क्षेत्र भी इसमें शामिल किया जाएगा। टीसीपी विभाग ने डेवलपमेंट प्लान तैयार करने के लिए कंसलटेंट नियुक्त करेगा। विभाग ने इसकी प्रक्रिया भी शुरू कर दी है और यह अंतिम चरण में है।


  • जीआईएस पर आधारित होगा प्लान

कुल्लू घाटी का यह डेवलपमेंट प्लान जीआईएस पर आधारित होगा। कुल्लू घाटी का प्लानिंग एरिया काफी बड़ा है। इस क्षेत्र को दो बड़े हिस्सों में बांटा गया है। इसमें एक कुल्लू-भुंतर का क्षेत्र होगा और दूसरा मनाली क्षेत्र का होगा। कुल्लू क्षेत्र में कुल्लू नगर परिषद, भुंतर नगर पंचायत और दोनों के आस-पास का एरिया होगा, जबकि, मनाली क्षेत्र में मनाली नगर पंचायत का इलाका और इसके आस-पास का क्षेत्र शामिल होगा। कुल्लू वैली प्लानिंग एरिया के नाम से इस डेवलपमेंट प्लान को तैयार किया जाएगा। इसका कुल क्षेत्रफल 8258 हेक्टर है।


कुल्लू घाटी पर्यटन के लिए मशहूर है और यहां पर वर्षभर सैलानी आते-जाते हैं। कुल्लू घाटी के साथ-साथ सैलानी मनाली में भी भारी संख्या में पहुंचते हैं और वहां पर गर्मियों में तो सैलानियों की इतनी संख्या हो जाती है कि होटलों में कमरे तक नहीं मिलते। सैलानियों की लगातार बढ़ रही संख्या के चलते बजौरा से लेकर मनाली तक का पूरा इलाका विकसित हो रहा है और कई जगह निर्माण कार्य इतना हो गया है कि उसका साया साथ लगते गांवों तक भी पहुंचने लगा है। इस कारण इस घाटी का डेवलपमेंट प्लान जरूरी हो गया है। वर्ष 2011 की जनगणना के मुताबिक कुल्लू-मनाली और आसपास के उस क्षेत्र की जनसंख्या 1.52 लाख थी, जो इसके दायरे में आने वाला है।

कुल्लू घाटी का डेवलपमेंट प्लान जीआईएस पर आधारित होगा। यानी इसका डिजिटल प्लान बनेगा और इसके तहत वर्ष 2035 तक के लिए प्लान बनेगा। इसमें यह तय होगा कि किस क्षेत्र में क्या निर्माण किया जा सकता है। इसमें व्यवसायिक, आवासीय, औद्योगिक और कृषि क्षेत्र तय होंगे। खुले स्थान, पार्क, गार्डन, ग्रीन बेल्ट और मैदान आदि के लिए कहां-कहां जगह होगी, इसका भी इसमें पूर्ण विवरण होगा। इसके साथ-साथ इस घाटी की आबादी के लिए मूलभूत सुविधाओं का भी विस्तृत प्लान तैयार किया जाएगा। इसमें सीवरेज, बिजली, पानी और ड्रैनेज आदि की व्यवस्था को लेकर भी योजना का खाका तैयार होगा। इसके अलावा आने वाले समय में सड़क, बस अड्डों, रेलवे विस्तार और रेलवे स्टेशनों के लिए कहां और कौन सी जगह चयनित होगी, इसका भी पूर्ण विवरण होगा। उधर, इस डेवलपमेंट प्लान में पहले तैयार किए गए प्लान, सर्वे और अन्य संबंधित दस्तावेजों से भी अहम जानकारियां जुटाई जाएंगी। विभाग का प्रयास है कि कसंल्टेंट नियुक्त होने के बाद इसे दो वर्ष के भीतर तैयार किया जाए और फिर उसके मुताबिक कुल्लू घाटी में विकास किया जा सके। इससे इस घाटी की सुंदरता को बरकरार रखा जा सकेगा और यहां पर्यटन का भी प्रसार होगा। 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है