Expand

पानी के टैंकों में जहर पर डीजीपी-गृह सचिव तलब

पानी के टैंकों में जहर पर डीजीपी-गृह सचिव तलब

- Advertisement -

शिमला। सोलन जिला में पानी के टैंकों में जहरीला पदार्थ मिलाने के मामले में वीरभद्र सिंह सरकार एक्शन में आ गई है। आईपीएच मंत्री विद्या स्टोक्स ने वीरवार को सचिवालय स्थित अपने कार्यालय में डीजीपी संजय कुमार व गृह सचिव प्रबोध सक्सेना को बुलाकर उच्च स्तरीय बैठक ली। स्टोक्स ने अपने विभाग के अधिकारियों की उपस्थिति में दोनों उच्च अधिकारियों से पूरी जानकारी ली।

  • आईपीएच मंत्री विद्या स्टोक्स ने ली उच्च स्तरीय बैठकvidya
  • विभाग द्वारा अब तक उठाए गए कदमों का ब्यौरा मांगा

इसके साथ ही अब तक उठाये गए कदमों का भी विस्तृत ब्यौरा मांगा। अधिकारियों ने बताया कि एफआईआर दर्ज हो चुकी है। आरोपियों की तलाश जारी है। जहां की घटना है, वहां पर साथ में ही सेना का एरिया भी है। इसलिए एहतियात बरती जा रही है। विद्या स्टोक्स ने डीसी सोलन को निर्देश दिए हैं कि वे मौके पर जाकर खुद भी पूरे मामले की जांच करें। ये बहुत ही गंभीर मामला है।

क्या था मामला
दो दिन पहले कक्कड़हट्‌टी सीसे स्कूल और वाटर स्टोरेज टैंक में जहरीला पदार्थ मिलाने की घटना के बाद इस स्थान से करीब 5 किलोमीटर दूर आर्मी एरिया सुबाथू के साथ लगते छपरौली गांव में बने आईपीएच के वाटर स्टोरेज टैंक में गत दिवस अज्ञात व्यक्ति ने फिर से जहर घोल दिया था। सुबाथू के साथ लगती शड़याना पंचायत के छपरौली गांव में एक लाख लीटर क्षमता का वाटर स्टोरेज टैंक है। इस स्टोरेज टैंक से करीब दो हजार लोगों की आबादी को पानी मिलता है। tankस्टोरेज टैंक से शड़याना, गद्दों, निचली और  उपरली थड़ी के अलावा छपरौली समेत अन्य गांव को उठाऊ पेयजल योजना एलडब्ल्यू एसएस छपरौली से पानी की आपूर्ति की जाती है। बुधवार को खराब मोटर की मरम्मत की जा रही थी। शाम करीब छह बजे जैसे ही मोटर ठीक हुई तो पानी टैंक में भरने लगा। जैसे ही पानी लोगों के घरों में पहुंचना शुरू हुआ तो छपरौली गांव की वार्ड सदस्य ने तुरंत इसकी सूचना आईपीएच विभाग को दी। आईपीएच विभाग के जेई विवेक चंदेल और अन्य कर्मचारियों ने देखा कि इस पानी में से भी वैसी ही दुर्गंध रही है, जैसी कि कक्कड़हट्‌टी के टैंक में थी। उन्होंने तुरंत पुलिस को इसकी सूचना दी। परवाणू के डीएसपी प्रमोद चौहान ने तुरंत मौके पर पहुंच कर मामले की जांच की। जांच के दौरान उन्होंने पाया कि इस पानी के टैंक में भी जहरीला पदार्थ घोला गया है और इसकी मात्रा बहुत अधिक है। टैंक में जहरीला पदार्थ होने की सूचना मिलने के बाद पानी की सप्लाई को रोक दिया था।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है