Covid-19 Update

2,05,499
मामले (हिमाचल)
2,01,026
मरीज ठीक हुए
3,504
मौत
31,526,589
मामले (भारत)
196,267,832
मामले (दुनिया)
×

सरकार पर वारः मुखिया जमानत पर तो कर्मचारी क्यों पीछे रहे

सरकार पर वारः मुखिया जमानत पर तो कर्मचारी क्यों पीछे रहे

- Advertisement -

Virbhadra Singh : शिमला। रिश्वत लेने के आरोप में पकड़े गए उद्योग विभाग के ज्वाइंट डॉयरेक्टर तिलक राज को लेकर नेता विपक्ष और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सत्ती ने कांग्रेस सरकार पर हमला बोला है। बीजेपी के दोनों बड़े नेताओं ने कहा कि जिस प्रदेश का मुखिया भ्रष्टाचार के आरोपों में जमानत पर चल रहा हो, वहां के कर्मचारियों का भ्रष्टाचार में संलिप्त होना प्रदेश सरकार की कार्य संस्कृति का ही हिस्सा है, लेकिन इस मामले में सबसे गंभीर पहलू यह है कि पकड़े गए कर्मचारी ने इस सारे मामले में सीएम कार्यालय की संलिपत्ता के गंभीर आरोप लगाए हैं, उसके पश्चात से अब सरकार को सत्ता में रहने का अधिकार नहीं रह गया है।

धूमल-सत्ती ने वीरभद्र सिंह पर किया हमला

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि पैसे लेकर सबसिडी रिलीज करना कांग्रेस सरकार की संस्कृति है। उद्योग की लगातार शिकायतें थी कि उन्हें सरेआम वर्तमान सरकार द्वारा लूटा जा रहा है। बावजूद इसके उद्योगपतियों की आवाजों को दबाया जा रहा था। एक के बाद एक करके उद्योगपति प्रदेश छोड़ कर जा रहे हैं। पिछले चार वर्षों में कोई नया उद्योग हिमाचल प्रदेश में नहीं लगा, इसकी वजह मंत्रियों और अधिकारियों की सरेआम लूट थी। ऊना और पंडोगा में जमीनें खाली और बिजली पर सबसिडी दिए जाने के बावजूद कोई उद्योगपति प्रदेश का रूख नहीं कर रहा था। इसका मुख्य कारण कांग्रेस की भ्रष्ट नीति है। 


ज्वाइंट डॉयरेक्टर तो एक मोहरा

ज्वाइंट डॉयरेक्टर तो केवल एक मोहरा है। ज्वाइंट डॉयरेक्टर की स्वीकृति के पश्चात यह स्पष्ट हो गया है कि इसकी जड़ में सीएम कार्यालय के अधिकारी संलिप्त है। इतने बड़े स्तर पर भ्रष्टाचार को संरक्षण मिलने के पश्चात बीजेपी के आरोपों की भी पुष्टि हो गई है। बीजेपी नेताओं ने कहा कि केवल एक यही मामला नहीं है बल्कि इसके अतिरिक्त कुछ समय पूर्व एक अधिकारी का ड्रग्स रैकेट में संलिप्त होना इस बात का संकेत है कि भ्रष्टाचारियों को सरकारी स्तर पर संरक्षण मिला हुआ है जिसकी वजह से पूरा प्रदेश भ्रष्टाचार की जद में है। बीजेपी का यह मानना है कि कांग्रेस को सत्ता में रहने का कोई अधिकार नहीं रह गया है इसलिए सरकार को बर्खास्त किया जाना आवश्यक है।

ये भी पढ़ें  : Dhumal की चुनौतीः सरकार में दम है तो पार्टी चिन्ह पर करवाएं…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है