Covid-19 Update

1,99,197
मामले (हिमाचल)
1,91,732
मरीज ठीक हुए
3,394
मौत
29,627,763
मामले (भारत)
177,191,169
मामले (दुनिया)
×

जंगलों को आग से बचाने पर तीन हिमालयी राज्यों ने किया मंथन

जंगलों को आग से बचाने पर तीन हिमालयी राज्यों ने किया मंथन

- Advertisement -

शिमला। हिमालयी राज्यों में जंगलों को आग से बचाने के लिए शिमला में शुक्रवार को तीन राज्यों ने मंथन किया। हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और जेएंडके राज्य के वन एवं पर्यावरण अफसरों ने आग लगने के कारण और उससे बचाव पर बेहतरीन प्रस्तुति भी दी।
तीनों राज्यों के प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए प्रदेश के वन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि हिमालयी राज्यों को एकजुट होकर इससे बचने के तरीके अपनाने चाहिए। उन्होंने कहा कि इस साल हिमाचल सहित उत्तराखंड राज्य के जंगलों में आग लगी, जिसे बुझाने में हिमाचल प्रदेश ने सबसे ठोस कदम उठाया। मंत्री ने कहा कि एक दिवसीय कार्यशाला में विश्व बैंक के अधिकारी भी पहुंचे। जिन्होंने हिमाचल के प्रयासों की सराहना की। गोविंद ठाकुर का कहना था कि आने वाले समय में विश्व बैंक जंगलों को आग से बचाने के लिए आर्थिक सहायता भी करेगा। कार्यशाला में फोरेस्ट सर्वे ऑफ इंडिया की टीम भी मौजूद रही। प्रस्तुति के दौरान यह पता चला कि इस साल हिमाचल के जंगलों में आग लगने से 3 करोड़ का नुकसान हुआ। विश्व बैंक की टीम ने हिमाचल वन विभाग की सराहना करते हुए कहा कि यहां अन्य राज्यों के मुकाबले बेहतर काम हो रहा है।

 

रैपिड रिस्पांस फोर्स से संतुष्ट नहीं वन मंत्री

वन मंत्री ने कहा कि जंगलों को आग से बचाने के लिए इस वर्ष राज्य में रैपिड रिस्पांस फोर्स का गठन किया गया। प्रदेश में 13500 लोगों ने इसमें अपना पंजीकरण करवाया। उन्होंने कहा कि राज्य में वन विभाग का इतना बड़ा नेटवर्क है और वह इस फोर्स से संतुष्ट नहीं है। इसमें कम से कम 50 हजार से अधिक लोगों का पंजीकरण होना चाहिए। वन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि वनों में आगजनी की घटनाओं पर काबू पाने के लिए स्थानीय लोगों की भूमिका महत्वपूर्ण है। उनके सहयोग के बिना ऐसी घटनाओं से निपटना संभव नहीं है।


- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है